होम /न्यूज /जीवन शैली /टीनएज बेटी के साथ हर मुद्दे पर होती है तकरार, तो इन 5 बातों को अपनाकर रिश्ता संभालें

टीनएज बेटी के साथ हर मुद्दे पर होती है तकरार, तो इन 5 बातों को अपनाकर रिश्ता संभालें

इन 5 बातों को अपनाकर बनें बेटी की बेस्ट फ्रेंड

इन 5 बातों को अपनाकर बनें बेटी की बेस्ट फ्रेंड

मां-बेटी का रिश्ता दुनिया में सबसे ख़ास होता है, लेकिन कई बार ज़िंदगी की अलग-अलग सीढ़ियों पर खड़े रहने की वजह से उन दोनों क ...अधिक पढ़ें

टीनएज एक ऐसा दौर है, जब शरीर और मन कई तरह के बदलावों से गुज़र रहा होता है. इस दौरान बच्चों को समझना और उन्हें अपनी बातें समझाना फैमिली के लिए बड़ी चुनौती होती है. बिटिया के टीनएज में आते ही कई बार मां-बेटी की अनबन भी शुरू हो जाती है. मां चाहती है कि उनकी टीनएज बेटी उनके हिसाब से रहे, जबकि बेटी ज़िंदगी को देखने -समझने और ट्रेंड के हिसाब से खुद को ढालने की कोशिश करती नज़र आती हैं.

मां-बेटी के बीच चलने वाली इस खींचतान में उनके आपसी रिश्ते और अंडरस्टैंडिंग भी प्रभावित होती है. दोनों रिश्ते को संभालने की बेहिसाब कोशिश करते हैं, लेकिन ज़िंदगी की अलग-अलग सीढ़ियों पर खड़े रहने की वजह से उन्हें दुनिया भी अलग तरह की नज़र आती है. अगर आप भी अपनी बेटी के साथ ऐसी ही नोक-झोंक का शिकार हो रही है, तो हम आपके लिए लेकर आए हैं, बिटिया के साथ रिश्ते सुधारने से जुड़े कुछ ज़रूरी टिप्स. 

ये भी पढ़ें: अगर आपका बच्चा जा रहा है किसी और के घर तो उसे जरूर समझाएं ये बातें

खुद को बिटिया की जगह पर रखें – अपनी टीनएज बेटी को किसी भी बात पर डांटने से पहले उसकी स्थिति को समझने की कोशिश करें. कम से कम उसकी बात सुने. जब वह किसी इच्छा के प्रति अपने सारे तर्क आपसे शेयर कर लें, तब उन बातों पर ध्यान दें कि बेटी की बातें सही है या नहीं. अगर वो फ्रेंड्स के साथ ट्रिप पर जाना चाहे या अपनी छुट्टी को अपने हिसाब से एन्जॉय करना चाहती है, तो उसे समझते हुए उसकी खुशियों को ऊपर रखना सीखें. 

अपनी मर्ज़ी थोपने से बचें – बढ़ते बच्चे अलग तरह से सोचते हैं. उनकी प्रायोरिटी और ज़रूरतें बाकियों की तुलना में अलग होती है. एक मां होने के नाते यह ज़रूर समझें कि अपने फैसले अपनी टीनएज बेटी पर थोपना गलत होगा. फिर वह फैसला किसी पार्टी में जाने का हो या किसी रिश्तेदार के घर जाने का. अगर बेटी उस माहौल में एन्जॉय नहीं करती है, तो अपनी मर्ज़ी उस पर न थोपें.

ये भी पढ़ें: जानवरों के प्रति एग्रेसिव हैं बच्‍चे, तो उन्‍हें इस तरह बनाएं ‘ऐनिमल लवर’

लेटेस्ट ट्रेंड पर बातें करें – बेटी से दुनिया के हर मुद्दे पर बात करें. उसके इंटरेस्ट को जानने-समझने की कोशिश करें. दुनिया में फैशन, ब्यूटी और वुमनहुड पर होने वाले हर बदलाव पर उससे चर्चा करें. इससे बेटी को अहसास होगा कि उसकी मां की बात उसे माननी चाहिए, क्योंकि मां दुनिया में चल रही चीज़ों की जानकारी और समझ रखती हैं. ऐसा करने से आप बेटी के साथ स्ट्रॉन्ग बॉन्ड बना पाएंगी. 

अपने टीनएज की बातें शेयर करें – बेटी के साथ रिश्ता बेहतर बनाने के लिए उससे बातें करें. अपने टीनएज की यादें शेयर करें. बेटी को उस वक्त की चुनौतियों का अहसास ज़रूर कराएं, लेकिन आज उसे जो आज़ादी मिली है उसके लिए अपनी खुशी ज़ाहिर करना न भूलें.  

बेटी को दोस्त बनाने की कोशिश करें – अगर आपने एक बार अपनी बेटी की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ा दिया, तो आप दोनों के बीच ज़्यादातर झगड़े सुलझ जाएंगे. जब आप खुद को बेटी की जगह और बेटी खुद को आपकी जगह रखने की आदत डाल लेगी, तो तकरार खुद-ब-खुद कम हो जाएगी. इसलिए रिश्ते को बेहतर बनाने के लिए पहले बिटिया की फ्रेंड और फिर बेस्ट फ्रेंड बनने की कोशिश करें.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Lifestyle, Parenting, Relationship

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें