होम /न्यूज /जीवन शैली /40 की उम्र के बाद हर महिला को फॉलो करने चाहिए ये 5 टिप्स, शरीर रहेगा हेल्दी

40 की उम्र के बाद हर महिला को फॉलो करने चाहिए ये 5 टिप्स, शरीर रहेगा हेल्दी

40 की उम्र के बाद महिलाओं को ताजे फल, सब्जियां, फलियां और साबुत अनाज जरूर खाना चाहिए.

40 की उम्र के बाद महिलाओं को ताजे फल, सब्जियां, फलियां और साबुत अनाज जरूर खाना चाहिए.

40 साल के बाद बेहतर स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए हर महिला (Woman) को डाइट (Diet) और लाइफस्टाइल (Lifestyle) में बदलाव ...अधिक पढ़ें

    40 की उम्र के बाद महिलाओं (Women) में कई तरह के बदलाव नजर आने लगते हैं. हॉर्मोन्स (Hormones) में थोड़ा बदलाव आता है जिसके चलते मूड (Mood) पर अजीब तरह का प्रभाव पड़ता है और साथ ही हेल्थ (Health) पर भी इसका असर दिखाई देता है. ऐसे में प्रत्येक महिला को अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए. 40 साल के बाद बेहतर स्वास्थ्य सुनिश्चित करने के लिए डाइट (Diet) और लाइफस्टाइल (Lifestyle) में बदलाव की कोशिश करनी चाहिए. आइए आपको बताते हैं 5 ऐसे खास टिप्स Tips) के बारे में जिन्हें फॉलो करने से 40 की उम्र के बाद महिलाएं खुद को शरीरिक और मानसिक रूप से हेल्दी रख सकती हैं.

    बैलेंस डाइट अपनाएं
    40 की उम्र के बाद महिलाओं को ताजे फल, सब्जियां, फलियां और साबुत अनाज जरूर खाना चाहिए. मसालेदार, ऑयली, जंक और प्रोसेस्ड फूड खाने से बचें. अल्कोहल और स्मोकिंग से दूर रहें.

    रोज एक्सरसाइज और योग करें
    अपनी पसंद के नियमित एक्सरसाइज और योग के साथ शारीरिक रूप से एक्टिव रहें. महिलाएं चाहें तो जुम्बा, वॉकिंग, एरोबिक्स, स्विमिंग, जॉगिंग की प्रैक्टिस भी कर सकती हैं. इससे जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने और रोग मुक्त रहने में मदद मिलती है.

    हेल्थ टेस्ट करना न भूलें
    अगर आप एक्सरसाइज कर रही हैं और अपने डाइट का भी ध्यान रख रही हैं, फिर भी यह सुनिश्चित करने के लिए हेल्थ टेस्ट के लिए जाना ज़रूरी है कि आपके सभी अंग ठीक से काम कर रहे हैं या नहीं. कुछ सामान्य टेस्ट जैसे ब्लड प्रेशर, थायरॉइड, ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल लेवल बार बार चेक करना जरूरी है. आपको नियमित रूप से आंख, स्किन, दांत, मैमोग्राम और श्रोणि टेस्ट के लिए भी जाना चाहिए.

    इसे भी पढ़ेंः Anushka Sharma Pregnant: अनुष्का-विराट के घर आ रही है खुशखबरी, प्रेग्नेंसी के दौरान रखें इन बातों का ख्याल

    हड्डियों और मांसपेशियों को रखें मजबूत
    महिलाएं ऑस्टियोपेनिया (हड्डी का कमजोर होना लेकिन फिर भी सामान्य सीमा के भीतर) और ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डी की मजबूती से पैथोलॉजिकल लेवल का कम होना) से पीड़ित हो सकती हैं. बाद के जीवन में ये स्थितियां फ्रैक्चर का कारण भी बन सकती हैं. किसी भी जटिलता से बचने के लिए, कैल्शियम का नियमित रूप से सेवन करें. मैनोपॉज के बाद, महिलाओं को इस स्थिति के लिए और भी अधिक जोखिम होता है. कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर चीजों का सेवन जरूर करें.

    तनाव मुक्त रहें
    आप काम, परिवार और अन्य जिम्मेदारियों को संभालने से तनाव में हो सकती हैं. एक ही समय में सब कुछ मैनेज करना आपको तनाव दे सकता है. तनाव कई स्वास्थ्य समस्याओं के साथ जुड़ा हुआ होता है. आप योग और मेडिटेशन की मदद से तनाव को दूर करने की कोशिश जरूर करें.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    Tags: Health, Health tips, Lifestyle, Women

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें