बॉडी पेन और तनाव को दूर करने में मदद करते हैं ये चार तरह के मसाज

पांच खास तरह के मसाज हैं,जिनसे आप तनाव को दूर कर सकते हैं.

मसाज (Massage) कराने से शरीर (Body)में एंडोर्फिन नाम का हार्मोन (Hormones)निकलता है, जिससे व्यक्ति खुश और ऊर्जा से भरपूर महसूस करता है. अगर आप भी थकान और तनाव (Tension) से जूझ रहे हैं तो आपको इस तरह की मसाज लेनी चाहिए.

  • Myupchar
  • Last Updated :
  • Share this:
    आज की व्यस्त जीवनशैली और ऑफिस में वर्क लोड की वजह से थकान और तनाव आम की समस्या आम हो गई है. दोनों ही समस्याओं में मशाज एक उपाय है, जिसको कराने से आराम मिलता है.  www.myupchar.com की डॉ. मेधावी अग्रवाल ने बताया कि मसाज चिकित्सीय रूप से फायदेमंद है क्योंकि यह रिलैक्सैशन को बढ़ाता है और पॉश्चर में सुधार करता है. ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित भी करता है. मसाज के जरिए विषाक्त पदार्थों का सफाया हो जाता है और इससे मांसपेशियां भी लचीली बनती हैं. मसाज से नींद न आने की समस्या भी दूर होती है, लेकिन इन लाभों के अलावा मसाज कराने का सबसे महत्वपूर्ण स्वास्थ्य लाभ यह है कि यह तनाव और थकान में राहत देता है.

    रिलैक्स होने के लिए बेस्ट है बॉडी मसाज
    मसाज कराने से शरीर में एंडोर्फिन नाम का हार्मोन निकलता है, जिससे व्यक्ति खुश और ऊर्जा से भरपूर महसूस करता है. खेल में आई चोट या सर्जरी के बाद शरीर को फिर से चुस्त-दुरुस्त बनाने के लिए इसे मसाज से ठीक किया जा सकता है. इस तरह के मसाज केवल प्रोफेशनल थेरेपिस्ट ही कर सकते हैं. मसाज कई तरह के होते हैं जो दर्द और तनाव को ठीक करने के लिए शरीर के विभिन्न हिस्सों पर फोकस करते हैं. मसाज में हेयर मसाज, हेड मसाज, बॉडी मसाज, पैरों की मसाज और फेस मसाज शामिल है. हालांकि अगर पूरी तरह से रिलैक्स होना चाहते हैं तो बॉडी मसाज बेहतर ऑप्शन है. इसमें चेहरे, पैर, हाथ, कमर आदि की मसाज शामिल होती है.

    स्वीडिश मसाज
    स्वीडिश मसाज पूरे शरीर का मसाज है और यह उन लोगों के लिए परफेक्ट है जो मसाज के लिए नए हैं या यदि तनाव से गुजर रहे हैं या स्पर्श के लिए संवेदनशील हैं. इस तरह का मसाज मांसपेशियों की गांठों को रिलैक्स करने में मदद करता है और जब रिलैक्सैशन की तलाश में हों तो यह एक बहुत अच्छा विकल्प है. आमतौर पर स्वीडिश मसाज लगभग 60 से 90 मिनट तक चलता है.

    हॉट स्टोन मसाज
    हॉट स्टोन मसाज उन लोगों के लिए सबसे उपयुक्त है जिन्हें मांसपेशियों में दर्द या तनाव रहता हो. रिलैक्सैशन की तलाश करने वाले लोग भी यह मसाज करवा सकते हैं. यह लगभग स्वीडिश मालिश के समान ही है, लेकिन फर्क सिर्फ इतना है कि इस मालिश में थेरेपिस्ट गर्म पत्थरों का इस्तेमाल करते हैं. आमतौर पर एक हॉट स्टोन मसाज को 90 मिनट तक का समय लगता है.

    अरोमाथेरेपी मसाज
    अरोमाथेरेपी मालिश उन लोगों के लिए है जो तनाव, चिंता और डिप्रेशन के संकेतों को कम करना चाहते हैं. यह मांसपेशियों के तनाव और दर्द से राहत दिलाने में भी मदद करता है. इसमें मालिश करने वाले थेरेपिस्ट इसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल करते हैं जो स्किन पर अप्लाई किया जाता है. अरोमाथेरेपी मसाज में भी लगभग 60 से 90 मिनट लगते हैं.

    डीप टिश्यू मसाज
    अन्य मसाज की तुलना में डीप टिश्यू मसाज में अधिक दबाव का इस्तेमाल होता है. यह उन लोगों के लिए अच्छा है, जिन्हें गंभीर मांसपेशियों की समस्याएं जैसे चोट, खराश आदि हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि यह गंभीर मांसपेशियों के दर्द और चिंता से राहत दिलाने में मदद करता है. डीप टिश्यू मसाज को 60 से 90 मिनट तक किया जाता है.

    अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, मसाज क्या है, प्रकार, फायदे, करने के तरीके के बारे में पढ़ें।

    न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.