Home /News /lifestyle /

कोरोना काल और मॉनसून में इन्फेक्शन से खुद को बचाने के लिए कारगर हैं ये उपाय

कोरोना काल और मॉनसून में इन्फेक्शन से खुद को बचाने के लिए कारगर हैं ये उपाय

मॉनसून में संक्रमण को फैलाने से रोकने के लिए सावधानियां बरतना जरूरी है (Image-Shutterstock)

मॉनसून में संक्रमण को फैलाने से रोकने के लिए सावधानियां बरतना जरूरी है (Image-Shutterstock)

Monsoon diseases: मॉनसून में संक्रमण को फैलाने से रोकने के लिए सावधानियां बरतना जरूरी है. ऐसै में अपनी इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग रखना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    Monsoon diseases amid Corona Crisis: भारत के अधिकांश हिस्सों में कोविड-19 की दूसरी लहर थम गई है. आपको बता दें कि सेकेंड वेव की अवधि के दौरान देश विभिन्न चुनौतियों से जूझ रहा था, जिसमें ऑक्सीजन की आपूर्ति में कमी और कोरोना के मामलों की संख्या में भारी वृद्धि शामिल थी. जब हम इन सबके बीच थोड़ा आगे बढ़े तो अधिकांश हिस्सों में मॉनसून का मौसम शुरू हो गया है, जो हर साल अपने साथ बीमारियों – बैक्टीरियल, वायरल और फंगल इंफेक्शन की एक ‘बाढ़’ भी लाता है. इसलिए इनसे और साथ ही कोविड-19 से सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अतिरिक्त कदम उठाने की जरूरत है.

    इंडियान एक्सप्रेस डॉट कॉम की खबर में पोर्टिया मेडिकल (Portea Medical) के अध्यक्ष डॉ विशाल सहगल का कहना है, ‘अगर हम कुछ आसान सावधानियां बरतें तो हमें खुद को और अपने परिवार को इन बीमारियों से सुरक्षित रखने में मदद मिल सकती है, खासकर तब जब हम एक वैश्विक महामारी के दौर से गुजर रहे हैं. साथ ही तथ्य को याद रखना भी महत्वपूर्ण है कि इन मौसमी संक्रमणों के लक्षण कोविड -19 का रूप ले सकते हैं, इसलिए सतर्क रहना चाहिए. कोविड -19, छोटी बूंदों (Droplets) और हवा (Air) के माध्यम से फैलता है. साथी ही मॉनसून संक्रमण को फैलाने में सहायक हो सकता है. इसलिए इस समय का प्रयोग सावधानियां बरतने और अपनी इम्यूनिटी को स्ट्रॉन्ग रखने के लिए करना चाहिए.’

    यह भी पढ़ें- कोरोना संक्रमित व्यक्ति में कोवैक्सिन की एक डोज दो डोज के बराबर: स्टडी

    इसके अलावा डॉ सहगल कुछ सावधानियां भी बताते हैं, आइए एक नजर इन पर डालते हैं.

    मच्छरों से बचाव
    मच्छरों से बचाव करना सबसे जरूरी है. इसके लिए आपको बाहर निकलते समय पूरी बाजू के कपड़े पहनने चाहिए. पानी जमा होने की सभी जगहों की जांच करनी चाहिए, फिर चाहे वो कूलर हो, टैंक और खाली जगह जहां पानी भरता हो. घर में मच्छर भगाने वाली मशीन या नेट का प्रयोग करें. जहां तक संभव हो घर में मच्छरों और कीड़ों को खत्म करने के लिए धूनी करें.

    पर्सनल हाईजीन
    बाहर से लौटने के बाद, स्किन पर जमा हुए किसी भी कीटाणु को धोने में मदद करने और बीमारियों से आपकी रक्षा करने के लिए नहाना जरूरी है. जब पर्सनल हाईजीन यानि व्यक्तिगत स्वच्छता और बीमारी की रोकथाम की बात आती है, तो हमारे हाथ प्रमुख फोकस एरिया होते हैं. विशेष रूप से खाने से पहले या वॉशरूम का उपयोग करने के बाद, उन्हें अच्छी तरह से और बार-बार साबुन और पानी से धोना महत्वपूर्ण है. बिना चेहरा ढके छींकना या खांसना एक और हानिकारक प्रैक्टिस है, जिससे पूरी तरह से बचना चाहिए.

    यह भी पढ़ें- एक्सरसाइज करने से दिल की बेतरतीब गति वाली बीमारी भी ठीक हो जाती है: रिसर्च

    सोशल डिस्टेंसिंग
    फिर से सभी जगहों के खुलने के साथ ही हम में से अधिकांश ने काम करने के लिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट का उपयोग करना शुरू कर दिया है और जरूरी चीजों को खरीदने के लिए भी बाहर जाना शुरू कर दिया है. ऐसे कई सावधानियां बरतना अनिवार्य है, जैसे कि उन लोगों से दूरी बनाए रखना जो बिना मुंह ढके हुए हैं या फिर जिनमें बीमारी या खांसी के लक्षण दिखते हैं. घर से बाहर निकलते समय फेस मास्क जरूरी है. कमजोर इम्यूनिटी वाले लोगों, बच्चों और बुजुर्गों को भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचना चाहिए. दूसरे व्यक्ति से दो गज की दूरी बनाकर रखना चाहिए.

    खाने और पानी की स्वच्छता
    मॉनसून सीजन में बीमारियों से बचने के लिए हमें घर में भी पर्याप्त खाने और पानी की स्वच्छता सुनिश्चित करनी चाहिए. सड़क किनारे का खाना खाने से बचें और जहां तक ​​हो सके ताजा, घर का बना खाना खाने की कोशिश करें. अपनी पानी की बोतल अपने साथ लेकर जाएं और इसी तरह शुद्ध या उबला हुआ पानी पिएं. बरसात के मौसम में स्वस्थ रहने के लिए इम्युनिटी बढ़ाने वाले और मौसमी खाद्य पदार्थ खाना एक अच्छा तरीका है.

    अपने फेंफड़ों का रखें ख्याल
    हवा से फैलने वाला संक्रमण श्वास प्रणाली को प्रभावित कर सकता हैं और कुछ घरेलू उपचार फायदेमंद हो सकते हैं. जहां तक ​​हो सके गर्म पानी का सेवन करना चाहिए और दिन में एक बार भाप लेना चाहिए. सुनिश्चित करें कि आप योग और प्राणायाम जैसे कुछ सांस लेने के व्यायाम भी करते हैं.

    डॉ विशाल सहगल का कहना है, हालांकि COVID-19 की लहर कम हो गई है और धीरे-धीरे अनलॉक हो रहा है, हमें खुद पर नजर रखनी चाहिए और घर पर रहना चाहिए क्योंकि बारिश भी अपने साथ कई बीमारियां लेकर आती है. कुछ बुनियादी स्वच्छता और सुरक्षा उपायों का पालन करके, बिना किसी बीमारी के मॉनसून की बारिश का आनंद लेना संभव है.

    Tags: Coronavirus, Health, Health News, Lifestyle

    अगली ख़बर