लॉकडाउन में ट्रेंडिंग में रहे ये पैकेज्ड फूड्स, लोगों ने की इन खास चीजों की मांग

लॉकडाउन में ट्रेंडिंग में रहे ये पैकेज्ड फूड्स, लोगों ने की इन खास चीजों की मांग
लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में अधिकतर लोगों ने नूडल्स, बिस्कुट, चिप्स और रेडी टू कुक मील्स जैसे पैकेज्ड फूड खरीदे थें.

लॉकडाउन के पहले 10 दिनों में लोगों ने अनाज न मिलने के डर से पैनिक में आकर आटा (Flour), चावल (Rice), चीनी (Sugar), नमक (Salt) और तेल (Oil) खरीदकर घरों में स्टॉक (Stock) कर लिया था. इसके बाद अगले 30 दिनों में दाल और आटे की सप्लाई में परेशानी नजर आने लगी.

  • Share this:
लॉकडाउन (Lockdown) के शुरू होने के बाद से देशभर में पैकेज्ड फूड (Packaged food) की मांग काफी बढ़ गई है. लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में अधिकतर लोगों ने नूडल्स (Noodles), बिस्कुट (Biscuit), चिप्स (Chips) और रेडी टू कुक मील्स जैसे पैकेज्ड फूड खरीदे थें. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार FMCG के कई एक्जीक्यूटिव्स के आधार पर पता चला था कि लॉकडाउन के पहले 10 दिनों में लोगों ने अनाज न मिलने के डर से पैनिक में आकर आटा (Flour), चावल (Rice), चीनी (Sugar), नमक (Salt) और तेल (Oil) खरीदकर घरों में स्टॉक (Stock) कर लिया था. इसके बाद अगले 30 दिनों में दाल और आटे की सप्लाई में परेशानी नजर आने लगी. दरअसल इनकी सप्लाई चेन और उत्पादन में समस्या हो रही थी. इसी के चलते लोग कई चीजों को खरीदकर उन्हें घर में स्टॉक कर ले रहे थे.

इंस्टैंट नूडल्स की मांग करीब 50 फीसदी तक बढ़ी
उदाहरण के तौर पर लॉकडाउन के पहले 3-4 दिनों में मदर डेयरी के नोएडा हेडक्वाटर में दूध और अन्य डेयरी उत्पाद जैसे पनीर, घी और मक्खन की मांग लगभग 10 फीसदी तक बढ़ गई थी. वहीं लॉकडाउन के पहले सप्ताह में रिफाइंड ऑयल की बिक्री भी लगभग 50 फीसदी बढ़ गई थी. मदर डेयरी के मैनेजिंग डायरेक्टर संगम चौधरी ने बताया कि फ्रोजन प्रोडक्ट जैसे कि हरी मटर, कॉर्न, मिक्सड वेजीस, स्नैक्स और कटहल की मांग लॉकडाउन के शुरुआती दिनों में तेजी से बढ़ी थी. इन चीजों की डिमांड करीब 100 फीसदी तक पहुंच गई थी. वहीं 3 मई 2020 तक इंस्टैंट नूडल्स की मांग करीब 50 फीसदी तक बढ़ गई थी.

पैकेज्ड फूड की मांग काफी अधिक बढ़ी
मेट्रो कैश एंड कैरी के एमडी और सीईओ अरविंद मेदिरत्ता ने बताया कि लॉकडाउन के दूसरे फेज में पैकेज्ड फूड की मांग काफी अधिक बढ़ी थी. इन फूड्स में नूडल्स, बिस्कुच, रेडी टू मेक प्रोडक्ट्स और गर्म पेय पदार्थ शामिल हैं. इस दौरान लोगों ने स्टेपल और पर्सनल हाईजीन के सामान की भी खूब खरीददारी की. वहीं इस दौरान पर्सनल ग्रूमिंग उत्पाद, स्टेशनरी उत्पाद, स्टील के बर्तन, कपड़े, फुटवेयर और इलेक्ट्रॉनिक उतापद जैसे पावर बैंक्स, फोन्स और लैपटॉप चार्जर की भी काफी मांग रही. गर्मियों में इस्तेमाल होने वाले प्रोडक्ट्स जैसे टी शर्ट्स, बरमूडा, शॉर्ट्स, स्कर्ट्स, क्रॉप टॉप्स की भारी मांग रही.



लॉकडाउन के दौरान रेडी टू कुक मील्स की काफी डिमांड रही
वहीं नाइटवियर जैसे कॉटन नाइट शॉर्ट्स, टॉप और पायजामा सेट, नाइटीज और नाइट सूट की भी भारी मांग नजर आई. वहीं कंपनी के मार्केटिंग हेड ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान रेडी टू कुक मील्स की काफी डिमांड रही. वेफर, चिप्स और नाचोज की भी जमकर बिक्री हुई. हर सप्ताह पैकेज्ड फूड के करीब 6 से 8 करटन्स की बिक्री हो जाती थी. कंपनी के मुताबिक दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु में पैकेज्ड फूड्स की मांग सबसे ज्यादा रही. इन जगहों पर आसानी से ऑनलाइन डिलीवरी की मदद से ग्राहकों तक सामान पहुंचाया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज