इन सात चीजों को डाइट में करें शामिल, कभी नहीं होगी फेफड़ों की बीमारी

इन सात चीजों को डाइट में करें शामिल, कभी नहीं होगी फेफड़ों की बीमारी
जंक फूड (junk Food) खाने से फेफड़े ठीक से ऑक्सीजन (Oxygen) लेने और कार्बन डाइऑक्साड छोड़ने का काम नहीं कर पाते. ऐसे में फेफड़ों (Lung) की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है.

जंक फूड (junk Food) खाने से फेफड़े ठीक से ऑक्सीजन (Oxygen) लेने और कार्बन डाइऑक्साड छोड़ने का काम नहीं कर पाते. ऐसे में फेफड़ों (Lung) की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है.

  • Last Updated: July 11, 2020, 6:34 AM IST
  • Share this:
जंक फूड ने आज की पीढ़ी को अपनी चपेट में ले लिया है. मुंह का स्वाद बनाने के लिए आज के ब्च्चे भले ही जंक फूड खाना पसंद करते हों, लेकिन ये शरीर को आवश्यक प्रोटीन, विटामिन और मिनरल्स प्रदान नहीं करता. इससे शरीर में स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं. myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. नबी वली बताते हैं कि जब फेफड़े रोग ग्रस्त हो जाते हैं तो कार्बन डाइऑक्साइड निकालने और पर्याप्त ऑक्सीजन ग्रहण करने का काम ठीक से नहीं कर पाते...

ऐसी स्थिति में फेफड़ों के रोग के कई लक्षण पैदा हो जाते हैं, जिसमें गंभीर खांसी, सांस फूलना, अधिक बलगम, घरघराहट होना, छाती में दर्द जैसी समस्याएं शुरू हो जाती हैं. अभी देश- दुनिया में कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए फेफड़ों की देखभाल करना बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है. myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, फेफड़े का कैंसर, सिस्टिक फाइब्रोसिस, एलर्जी, सोओपीडी आदि बीमारियां फेफड़ों से जुड़ी हैं. फेफड़ों को स्वस्थ रखने के लिए स्वस्थ खाना भी जरूरी है.  आज हम आपको इस आर्यचिकल में बताएंगे कि कौन से फूड्स आपके फेफड़ों को हेल्दी रखेंगे...

लहसुन
फेफड़े में होने वाले जानलेवा संक्रमण से लहसुन रक्षा कर सकता है. इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट संक्रमण से लड़ने में मददगार होेते हैं. इसका सेवन कफ को खत्म करने में सहायक होता है. इसलिए यदि खाना खाने के बाद लहसुन खाया जाए तो ये छाती को साफ रखता है. यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है.
हल्दी


एक गिलास पानी में आधा चम्मच हल्दी पाउडर डालकर पीने से फेफड़े सेहतमंद रहते हैं. हल्दी में करक्यूमिन नाम का पदार्थ होता है जो समय से पहले पैदा होने वाले शिशुओं के फेफड़ों के संभावित जानलेवा नुकसान से रक्षा कर सकता है.

गाजर
गाजर में कई तरह के एंटी ऑक्सीडेंट भी पाए जाते हैं जो फेफड़ों के लिए सेहतमंद होते हैं. गाजर को कैरोटीनोइड के लिए सबसे अच्छा स्त्रोत माना जाता है. कई शोध में सामने आया है कि फेफड़ों के कैंसर के कम होने के कारणों में कैरोटीनोइड जुड़ा हुआ है. गाजर को कच्चा या उबालकर या पकाकर खा सकते हैं.

अमरूद
अमरूद का रस फेफड़ों में बलगम बनने से रोकता है. यह सांस नली के संक्रमण को कम करता है. इसका एंटीवायरस गुण फेफड़ों को स्वस्थ रखने में मदद करता है. अमरूद में विटामिन सी की भरपूर मात्रा होती है.

अलसी
अलसी के बीज लंग टिश्यू की रक्षा करने में मदद करते हैं. ऐसे में फेफड़ों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए अलसी के बीज का सेवन करना एक अच्छा विकल्प है.

सेब
विटामिन सी से भरपूर होने के कारण सभी फल फेफड़ों के स्वास्थ्य के लिए लाभकरी होते हैं और उनमें से एक है सेब. यह एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर है. इसमें भरपूर फाइबर भी होता है.

कद्दू
मौसमी खाद्य पदार्थ जो फेफड़ों के लिए बेहतर होते हैं उनके से एक कद्दू है. यह पोटेशियम, विटामिन सी, मैग्नीशियम और विभिन्न कैरोटीनॉड्स के बेहतरीन स्त्रोतों में से एक है.

अदरक
अदरक का सेवन फेफड़ों में घुसे विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर कर इंसान को निरोगी बनाता है. खास बात यह है कि एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी कैंसर गुण फेफड़ों को सुरक्षित रखते हैं.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, फेफड़ों के रोगों के लक्षण, बचाव, इलाज और दवा पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं। 

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading