#Vastu: किचन में कभी न करें ये काम, वरना हो सकती है पैसों की तंगी

किचन में इन गलतियों को कभी न दोहराएं

किचन में इन गलतियों को कभी न दोहराएं

रात के खाने के बाद जूठे बर्तन सिंक में न छोड़ें. अगर बर्तन धोने का वक्त नहीं है तो नल के पानी से जूठन साफ कर दें. इससे घर में खुशियां आती हैं और अर्थ-लाभ होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 22, 2018, 11:18 AM IST
  • Share this:
वास्तु के हिसाब से वैसे तो घर के हर कमरे का अलग महत्व है लेकिन रसोई को खास जगह मिली हुई है. वास्तु के जानकार मानते हैं कि इस जगह सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह सबसे जरूरी है क्योंकि खाने से ही शरीर के साथ मन का स्वास्थ्य तय होता है.

यही कारण है कि रसोई को हमेशा साफ-सुथरा रखा जाना चाहिए. हमारे साथ जानें, रसोई में होने वाली ऐसी क्या गलतियां हैं जिनके कारण व्यक्ति अनचाही परेशानियों और दरिद्रता से घिर जाता है.

  • रात के खाने के बाद जूठे बर्तन सिंक में न छोड़ें. अगर बर्तन धोने का वक्त नहीं है तो नल के पानी से जूठन साफ कर दें. इससे घर में खुशियां आती हैं और अर्थ-लाभ होता है.

  • रात में सोने से पहले रसोई साफ करने के बाद वहां पानी की एक छोटी बाल्टी भरकर रख दें. इससे परिवार में सुख-शांति और समृद्धि बनी रहेगी.






  • कोशिश करें कि सूरज ढलने के वक्त या उसके बाद किसी को भी दूध, दही और प्याज न देना पड़े और न ही मांगना पड़े, इससे घर में दरिद्रता आती है.

  • खुले में रखी हुई झाड़ू और पोंछा घर के भीतर आने वाली सकारात्मक ऊर्जा का असर कम कर देते हैं. झाड़ू को हमेशा आड़ा सुलाकर रखें. सीधा रखना कलह का कारण बन सकता है. किचन में झाड़ू बिल्कुल न रखें, इससे पैसों की बर्बादी होती है.

  • किचन में नल खुला छोड़ देना या पानी लीक करना जैसी बातें घर में धन और स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां लाती हैं. वैसे घर के किसी भी हिस्से में बहता पानी अच्छा नहीं माना जाता.

  • कभी भी बिस्तर पर खाने की जूठी थाली न रखें और न ही बिस्तर पर बैठकर खाना खाएं. बीमार लोगों के लिए टेबल पर थाली रखें और जूठा गिरने पर तुरंत साफ करें.

  • रसोई हमेशा साफ-सुथरी रहे. ये न केवल वास्तु, बल्कि स्वास्थ्य के लिहाज से भी अच्छा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज