इन 4 मौकों पर न खीचें अपने दोस्तों की टांग, बढ़ सकती हैं आपसी दूरियां

अगर आपका दोस्‍त दुखी हो तो उसकी बातों को हल्‍के में न लें. Image Credit : Pexels/Elly Fairytale

Friendship Tips : कई बार कुछ ऐसे हालात होते हैं जब दोस्‍तों (Friends) की टांग खिंचाई (Make Fun) रास नहीं आती और अच्‍छी से अच्‍छी दोस्‍ती भी टूटने लगती है.

  • Share this:
    Friendship Tips : दोस्‍ती (Friendship) मतलब मौज मस्‍ती और ढेर सारा हंसी मजाक. यही वजह है कि दोस्‍तों के बीच रहना हर कोई पंसद करता है. सुख और दुख दोनों ही स्थिति में दोस्‍त हमारी परवाह करते हैं और तमाम गलतियों के बावजूद भी हमारा ख्‍याल रखते हैं. हंसी मजाक में कई बार एक दूसरे की टांग खिंचाई और मजाक उडाना भी दोस्‍त अपनी जिम्‍मेदारी और अधिकार समझते हैं लेकिन कई बार कुछ ऐसे हालात होते हैं जब दोस्‍तों की ये टांग खिंचाई (Make Fun) रास नहीं आती. ऐसे में कई बार इंसान दोस्‍तों से दूरी बनाने लगता है और अच्‍छी से अच्‍छी दोस्‍ती टूटती चली जाती है. तो आइए जानते हैं कि वे कौन से मौके हैं जब दोस्‍तों का मजाक नहीं बनाना चाहिए वरना अंजाम बुरा हो जाता है.

    1.दिल टूटे तो न करें मजाक

    अगर आपका दोस्‍त दुखी हो तो उसकी बातों को हल्‍के में ना लें. अगर वह अपनी भावनाओं को आपके साथ शेयर करना चाहे तो उसे सुनें. कई बार दोस्‍त उनकी इस बात में कुछ चुटकुले सुना देते हैं और मजे लेने लग‍ते हैं. ऐसा बिलकुल भी ना करें. पेरेन्‍ट्स की तरह उन्‍हें फ्री का ज्ञान भी ना दें. पूरे धैर्य से सुने जिससे आपका दोस्‍त दिल का पूरा गुबार निकाल सके. ऐसा करने से आपकी दोस्‍ती हमेशा बनी रहेगी.





    इसे भी पढ़ें : Toxic Positivity: आप भी तो नहीं हैं टॉक्सिक पॉजिटिविटी के शिकार? जानें क्‍या हैं इसके लक्षण



    2.उसकी क़ाबिलियत पर न करें शक

    कई बार ऐसी परिस्थिति में लोग पड़ जाते हैं जब अपनी काबीलियत पर शक होने लगता है और हम खुद को बेकार महसूस करने लगते हैं. ऐसी बातें हम घर वालों के सामने भी शेयर नहीं कर पाते. हिम्मत करके यदि किसी से बात कर भी ली और उसने हमारी बातों को सीरियसली नहीं लिया तो मन खराब हो जाता है. अगर आपका दोस्त इस तरह की मनोदशा से गुज़र रहा हो और आपके सामने अपनी कमियां बता रहा हो तो आप उसकी कमियों की लिस्ट में दो-चार चीजे जोड़ने की बजाए उसकी अच्छाइयों, ख़ास क्वॉलिटीज के बारे में उसे याद दिलाएं. ऐसा करते वक्‍त बिलकुल भी मजाक के मूड में ना आएं. जेनुइन तरीके से उसे पॉज़िटिविटी से भरें.



    3.हौसले की हो जरूरत तो न उड़ाएं मजाक

    जिंदगी में कई ऐसा समय होता है जब हम अपने कंफ़र्ट ज़ोन से बाहर आकर कुछ बड़ी चीज करते हैं जिसमें हो सकता है कि आगे चलकर काफी मेहनत करने की जरूरत हो और कई नई चुनौतियां आएं. ऐसे समय में दोस्‍त को हौसलों की  जरूरत होती है. ऐसे हाल में अगर आप उसका मजाक ना बनाएं बल्‍की हौसला दें. अगर कुछ चुनौतियां हों और वह आपसे शेयर करें तो उसकी बातों को धैर्य से सुनें और उसे हौसला दें कि वह बहुत अच्‍छी तरह सब कुछ सम्‍हाल रहा है. ये ना हो कि दोस्‍त मिलकर उसकी खिल्‍ली उड़ाने लगें.







    इसे भी पढ़ें : आपके पति आपसे ज्‍यादा अपने परिवार को देते हैं अहमियत? जानें ऐसी स्थिति में क्या करें






    4.गलती से अगर उसकी दुखती रग पर पड़ जाए हाथ

    कॉलेज और स्कूल के दिनों में दोस्तों की दुखती रगों को हाथ रखना हम सभी को याद है. लेकिन उम्र बढ़ने के साथ जब हम सब बड़े हो गए हैं तब पहले की तुलना में हंसी-मज़ाक वाली बातें अधिक दिल पर लगती है. ऐसे में अगर आपका दोस्त सच में किसी बात पर दुखी है तो उसका मज़ाक बिलकुल भी न उड़ाएं. भले ही उसकी वजह हास्‍यास्‍पद लगे. अगर आपने मजाक बना दिया तो उसका दुख कम होने के बजाय बढ़ ही जाएगा. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
    Published by:Pranaty tiwary
    First published: