अपना शहर चुनें

States

कहीं आपका बच्‍चा मोबाइल एडिक्‍टेड तो नहीं, इग्‍नोर न करें, तुरंत अपनाएं ये 7 तरीके

कहीं आपका बच्‍चा भी तो मोबाइल एडिक्‍टेड नहीं
कहीं आपका बच्‍चा भी तो मोबाइल एडिक्‍टेड नहीं

अगर बच्‍चों की इस आदत में तुरंत सुधार नहीं किया गया तो आगे चल कर वह अनसोशल और एंटी सोशल भी हो सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2021, 6:34 AM IST
  • Share this:
अगर आपका बच्‍चा भी मोबाइल (Mobile), लैपटॉप (Laptop), टैब (Tab) के बिना कुछ देर भी नहीं रह पाता, तो सतर्क हो जाइए. यह छोटी सी लापरवाही आपके और आपके बच्‍चे के लिए बड़ी मुसीबत ला सकती है. दरअसल अधिक स्‍क्रीन देखने के आदी हो चुके बच्चे अपनी उम्र के हिसाब से अधिक एग्रेसिव और चिड़चिड़ेपन के शिकार हो रहे हैं. यही नहीं, उनमें डिप्रेशन (Depression), अनिद्रा जैसी मानसिक समस्‍याएं भी देखने को मिल रही है.

अधिक मोबाइल देखने की वजह से बच्‍चों की आंखों, गर्दन, सिर आदि में दर्द भी आम है. विशेषज्ञ यह भी मान रहे हैं कि अगर बच्‍चों की इस आदत में तुरंत सुधार नहीं किया गया तो आगे चल कर वह एंटीसोशल (Unsocial) और एंटी सोशल (Anti Social) भी हो सकते हैं. ऐसे में यहां आपको कुछ ऐसे उपाय बताए जा रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप अपने बच्‍चों की इस आदत से बाहर आने में मदद कर पाएंगे.

1. बच्‍चे अपने माता पिता की परछाईं होते हैं. उन्‍हें अपने पेरेंट्स की नकल करना बहुत ही अच्‍छा लगता है. ऐसा कहा जा सकता है कि बच्‍चे पहली बार मोबाइल या लैपटॉप को अपने पेरेंट्स की नकल करते करते ही उठाते हैं. ऐसे में काम के अलावा भी अगर आप मोबाइल में लगे रहते हैं तो सबसे पहले अपनी आदत बदलें. बच्‍चों के लिए वक्‍त निकालें और मोबाइल पर बिना मतलब समय बिताने की जगह बच्‍चों के साथ खेलें.



2. तीन-चार साल के बच्‍चों को बचपन से ही अपने साथ छोटे मोटे काम में इंगेज करें. गमले में पानी डालना, ड‍स्टिंग, कपड़े तह करना, उन्‍हें सही जगह पर रखना जैसे काम उन्‍हें बहुत ही पसंद आते हैं. उनकी गलतियों को एन्‍जॉय करें और उन्‍हें भी यह एहसास दिलाएं कि वह कितने हेल्पिंग हैं. इससे उनका आत्‍मविश्‍वास भी बढ़ेगा और वे आत्‍मनिर्भर भी बनेंगे.
3. अपने बच्‍चों को हर कला में एक्‍सपोजर दें. पेंटिंग, डांस, म्यूजिक घर में ही सिखाएं. जबरदस्‍ती ना करें. उन्‍हें खुद से करने दें. कम उम्र में एक्‍सपर्ट बनाने की ना सोचें. उन्‍हें लाइफ इंज्‍वॉय करने दें. उन्‍हें सिखाएं कि मोबाइल से कहीं बेहतर उनका आर्ट है. धीरे धीरे वे मोबाइल देखना कम कर देंगे.

4. सुबह उठें और बच्‍चों को वॉक पर जाने की आदत डालें. पार्क में उनके साथ खेलें औैर मौज मस्‍ती करें. उन्‍हें नेचर का महत्‍व समझाएं. इससे उनमें सोचने-समझने की क्षमता बढ़ेगी. वे अकेले में भी इन विषयों पर सोचेंगे और मोबाइल नहीं मांगेगे.

5. मार पीट कर ना सिखाएं नहीं तो बच्‍चे जिद्दी हो जाएंगे. यही नहीं, वे छिप छिप कर देखना सीख लेंगे.

6. कभी भी मोबाइल देखने का लालच देकर कोई काम ना कराएं. कई बार माता पिता लालच दे देते हैं और मोबाइल नहीं देते, ऐसे में इसका निगेटिव असर पड़ता है और बच्चों में अविश्‍वास की भावना आ जाती है.

7. हमेशा याद रखें, अगर बच्‍चों की कोई आदत बदलनी है तो सबसे पहले उस आदत को खुद छोडें. क्‍योंकि बच्‍चे अपने माता पिता की ही परछाईं होते हैं.(Disclaimer:इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज