जरा-जरा सी बात पर अगर होता हो मूड खराब तो अपनाएं ये तरीके

मूड खराब होने पर मन को उन चीज़ों में लगाएं जो पसंद हों-Image credit/pexels-julia-volk

मूड खराब होने पर मन को उन चीज़ों में लगाएं जो पसंद हों-Image credit/pexels-julia-volk

छोटी-छोटी बातों पर मूड ख़राब (Mood upset) होता हो तो इसकी वजह (Reason) को समझने की कोशिश करें और मन को उन चीज़ों में लगाने का प्रयास (Effort) करें जिसमें आपको ख़ुशी मिलती हो.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 3:16 PM IST
  • Share this:
ज़रा-ज़रा सी बात पर मूड ख़राब (Mood Upset) हो जाना या किसी एक स्थिति में मन को स्थिर (Mind stable) न रख पाना जैसी दिक्कतें कई लोगों को होती हैं. इसकी वजह से खुद को तो परेशानी होती ही है, साथ बैठे दूसरे व्यक्ति को भी अच्छा महसूस नहीं होता है. इसके साथ ही इन वजहों के चलते कई बेहतरीन अवसर (Opportunity) को तो हम खो ही देते हैं, कई बार रिश्तों में भी दूरियां आने लगती हैं. अगर आपका मूड भी छोटी-छोटी बात पर खराब हो जाता है तो यहां बताये जा रहे तरीकों को अपनाने की कोशिश कर सकते हैं.

वजह को समझें

बार-बार मूड खराब होने की दिक्कत अगर आपके साथ भी है, तो आपको मूड खराब होने की वजह को समझने की ज़रूरत है. ये जानने की कोशिश करें कि किस बात को या चीज़ को याद करने से आपका मूड छोटी-छोटी बात पर खराब हो रहा है. उस बात को अपने ज़हन में न आने दें या फिर उस परेशानी को सुलझाने का प्रयास करें जिसकी वजह से आपका मूड ख़राब और मन अस्थिर होता है.

ये भी पढ़ें: क्या आप जानते हैं जल्दी सोने से होता है हार्ट अटैक का खतरा, स्टडी में हुआ खुलासा 
भावनाओं पर रखें नियंत्रण

कई लोग बहुत ज्यादा भावुक होते हैं. ऐसे में छोटी-छोटी बातों को याद करके उनका मूड ख़राब हो जाता है और मन किसी चीज़ में नहीं लगता है.इसलिए किसी भी विषय पर बहुत ज्यादा सोचने से बचें और अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखने की कोशिश करें.

कहीं और मन लगाएं



जिस भी वजह या बात से आपका मूड खराब होता है उनको नोटिस करें और उनके बारे में न सोचते हुए अपने मन को कहीं और लगाने की कोशिश करें. आपको जो भी चीज़ अच्छी लगती है उस बारे में सोचें. साथ ही टीवी, म्यूज़िक, दोस्तों को फोन कॉल, दोस्तों के साथ आउटिंग, कुकिंग, बुक रीडिंग, गार्डनिंग, शॉपिंग या जिस चीज़ को करना आपको सबसे अच्छा लगता है उसमें अपना मन लगाने की कोशिश करें.

ये भी पढ़ें: डायबिटीज़ के टाइप 1 और 2 में क्या है फर्क, जानें किसको है इन्सुलिन लेने की ज़रूरत

 इनका भी लें सहारा


रोज़ाना सुबह कुछ देर योग या व्यायाम करें.

कुछ किलोमीटर वॉक करें.

अच्छी डाइट लें.

पानी का सेवन भी खूब करें.

किसी भी तरह की टेंशन लेने से बचें.

अपने लिए भी कुछ देर का समय निकालें.

अच्छी और गहरी नींद लें.

धूम्रपान और शराब का सेवन न करें. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज