पारंपरिक दवाइयों से कोरोना वायरस के इलाज में काफी फायदा

चीन की पारंपरिक दवाइयां कोरोना वायरस के इलाज में काफी फायदेमंद हैं

चीनी पारंपरिक चिकित्सा के प्रशासन विभाग के उप प्रधान यू यैन हूंग ने कहा कि पारंपरिक चिकित्सा के इस्तेमाल से कोरोना वायरस से कम प्रभावित मरीजों की सेहत में सुधार दिखाई दे रहा है...

  • Share this:
    चीन से शुरू हुआ कोरोना वायरस का कहर पूरे विश्व में फैला हुआ है. कई जगह कोरोना वायरस के मामले पाए गए हैं. नोवेल कोरोनावायरस पर काबू पाने के लिए देश विदेश के कई स्पेशलिस्ट जुटे हुए हैं. कोरोना वायरस से निजात पाने के लिए कई वैज्ञानिकों की टीम भी जुटी हुई है. हिंदुस्तान ने चाइना रेडियो इंटरनेशनल के हवाले से छापा है कि नए कोरोना वायरस के इन्फेक्शन की रोकधाम और पेशेंट्स के इलाज के लिए कई डॉक्टर्स ने चीन की पारंपरिक दवाइयों का इस्तेमाल किया है. यह दवाइयां कोरोना वायरस से पीड़ित लोगों के मिये काफी हानिकारक भी साबित हुई हैं.

    इस सिलसिले में राष्ट्रीय पारंपरिक दवाई प्रबंधन विभाग का कहना है कि अभी तक कोरोना वायरस से पीड़ित करीब 60 मरीजों पर चीन की पारंपरिक दवाइयों का इस्तेमाल किया गया है. दवाइयों से मरीजों की सेहत में सुधार हुआ है और नतीजे बेहतर आए हैं.

    इसे भी पढ़ें: रात के समय न करें ग्रीन टी का सेवन, जान लें इसके ये बड़े नुकसान

    चीनी विज्ञान और तकनीक मंत्रालय के उप मंत्री शू नान पींगने इस सिलसिले में बताया कि नए कोरोना वायरस संक्रमण के रोगियों के इलाज में चीनी पारंपरिक दवाइयों का सकारात्मक परिणाम मिला है. अब नए कोरोना वायरस संक्रमण इलाज योजना में पारंपरिक दवा भी शामिल कर ली गई है.

    चीन के वुहान शहर में किए गए नैदानिक अनुसंधान के मुताबिक चीन की पारंपरिक दवाइयों के इस्तेमाल से कोरोना वायरस से कुछ कम पीड़ित मरीजों का इलाज एक तय समय के भीतर- एक या दो दिनों तक कम हुआ है. कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों के इलाज की दर में 33 फीसदी की बढ़त हुई है.
    चीनी पारंपरिक चिकित्सा के प्रशासन विभाग के उप प्रधान यू यैन हूंग ने कहा कि पारंपरिक चिकित्सा के इस्तेमाल से कोरोना वायरस से कम प्रभावित मरीजों की सेहत में सुधार दिखाई दे रहा है. गंभीर रोगियों के इलाज में उनकी स्थिति पहले से ज्यादा गंभीर नहीं हो पाई है. पारंपरिक चिकित्सा और आधुनिक मेडिसन के मिलेजुले इस्तेमाल से नए कोरोना वायरस से संक्रमण रोगियों के इलाज में मनमुताबिक़ परिणाम मिले हैं.

    इसे भी पढ़ें: पीरियड्स में चाय से करें तौबा, नहीं तो हो सकती है ये समस्या

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.