होम /न्यूज /जीवन शैली /दुर्गा मां के इन मंदिरों में नवरात्रि के आखिरी दिन उमड़ता है आस्था का हुजूम

दुर्गा मां के इन मंदिरों में नवरात्रि के आखिरी दिन उमड़ता है आस्था का हुजूम

नवरात्रि में मां दुर्गा के दर्शन का विशेष महत्व है. (Image-Canva)

नवरात्रि में मां दुर्गा के दर्शन का विशेष महत्व है. (Image-Canva)

9 forms of goddess Durga: नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा के मंदिरों में सबसे ज्यादा भीड़ होती है. इन मंदिरों में नवरात्रि ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

इन मंदिरों में नवरात्रि के आखिरी दिन हजारों भक्त दर्शन के लिए पहुंचते हैं.
देश के अधिकतर हिस्सों में नवरात्रि का त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है.

Navratri 2022: नवरात्रि को भारत के हर कोने में बड़ी ही धूमधाम के साथ मनाया जाता है. मां दुर्गा के नौ अलग अलग स्वरूपों की हर अलग अलग दिन पूजा अर्चना की जाती है. जिसमें कुछ लोग पहले और आखिरी दिन तो कुछ लोग पूरे दिन मां की पूजा कर उपवास रखते हैं. मां दुर्गा के ये नौ दिन धूमधाम से मनाए जाते हैं. गुजरात हो या पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र हो या उत्तर प्रदेश, हर जगह देवी के पंडाल सजाये जाते हैं. माता रानी के इन नौ रूपों के यूं तो देश में कई सारे मंदिर हैं. कुछ मंदिर इतने ज्यादा प्रसिद्ध हैं, जहां भक्तों की सबसे ज्यादा भीड़ उमड़ती है. ये मंदिर कौन से हैं, चलिए जान लेते हैं.

वाराणसी में शैलपुत्री मंदिर
नवरात्रि का पहला दिन माता शैलपुत्री का दिन होता है. हिमालय की पुत्री शैलपुत्री माता का मंदिर वाराणसी के मढ़िया घाट पर स्थित है. मां का दूसरा मंदिर हेडावदे गांव के महालक्ष्मी में स्थित है. इस मंदिर पर पूरे नवरात्रि में भक्तों का तांता लगा रहता है. 

इसे भी पढ़ें: लखनऊ की शान कहे जाने वाले इमामबाड़ा का जानिए इतिहास और रोचक कहानी

वाराणसी में ब्रह्मचारिणी मंदिर
नवरात्रि का दूसरा दिन ब्रह्मचारिणी माता होता है. सफेद वस्त्रों में देवी का प्रतीक पवित्र और धार्मिक है. इस मंदिर में भक्तों की काफी भीड़ जमा होती है. किसी एक दिन ही नहीं, बल्कि पूरे नवरात्रि में यहां दर्शन करने के लिए हजारों की तादाद में लोग पहुंचते हैं.

वाराणसी में चन्द्रघंटा मंदिर
नवरात्रि में तीसरे दिन देवी चन्द्रघंटा की आराधना की जाती है. देवी चन्द्रघंटा को बहादुरी और साहस का प्रतीक माना जाता है. इस मंदिर में भी नवरात्रि के आखिरी दिन दर्शन करने वालों की तादाद बहुत होती है.

कानपुर में कुष्मांडा मंदिर
नवरात्रि के चौथे दिन देवी कुष्मांडा की पूजा अर्चना की जाती है. कानपुर के घाटमपुर में देवी कुष्मांडा का काफी फेमस मंदिर है. इसे देश का सबसे अनोखा मंदिर भी माना जाता है. इस मंदिर में भी नवरात्रि के 9 दिनों तक भक्तों की लाइन लगी रहती है.

वाराणसी में स्कन्दमाता मंदिर
नवरात्रि के पांचवें दिन देवी स्कन्दमाता की पूजा अर्चना की जाती है. देवी स्कन्दमाता कार्तिकेय की माता हैं. ये मंदिर वाराणसी के सबसे फेमस मंदिरों में से एक है. यह मंदिर आस्था का बड़ा केंद्र है. नवरात्रि के 9 दिनों में यहां देखने लायक नजारे होते हैं.

इसे भी पढ़ें: ताजमहल के अलावा आगरा में बेहद खास हैं ये टूरिस्ट प्लेस, देखकर कहेंगे वाह

कर्नाटक में कात्यायनी मंदिर
नवरात्रि के छठे दिन देवी कात्यायनी को पूजन होता है. एवरसा में कात्यायनी बाणेश्वर मंदिर काफी लोकप्रिय है. इस मंदिर में सालभर भक्त दर्शन के लिए बड़ी संख्या में पहुंचते हैं. नवरात्रि में यहां सबसे ज्यादा लोग पहुंचते हैं.

वाराणसी में कालरात्रि मंदिर
नवरात्रि के सातवें दिन देवी कालरात्रि की पूजा अर्चना की जाती है. देवी काली ने सभी राक्षसों का संहार किया था. वाराणसी में ये मंदिर कालरात्रि देवी के नाम से प्रसिद्ध है. जहां भक्तों का तांता लगा रहता है.

लुधियाना में महागौरी मंदिर
नवरात्रि के आखिरी दिन देवी महागौरी की पूजा अर्चना की जाती है. ये देवी भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करती हैं. ये मंदिर वाराणसी और लुधियाना दोनों जगह स्थित है. ये मां दुर्गा के नौ स्वरूपों के वो मंदिर हैं, जहां हजारों भक्त माता के दर्शन करने के लिए दूर दराज से आते हैं. नवरात्रि के 9वें दिन भी यहां बड़ी संख्या में लोग पहुंचते हैं.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Durga Pooja, Navratri Celebration, Travel

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें