वीज़ा-ऑन-अप्रूवल देते है ये देश, पूरा करें फॉरेन ट्रिप का सपना

वीजा ऑन अप्रूवल, यात्रियों को समय, वीज़ा डॉक्यूमेनटेशन और लंबी फॉर्मेलीटीज़ की परेशानी से बचाता है. एशिया, अफ्रीका, दक्षिण अमेरिका, उत्तरी अमेरिका और ओशिनिया में फैले 45 से अधिक देशों में भारतीय पासपोर्ट धारकों को आगमन पर वीजा (वीओए) दिया जा सकता है.

News18Hindi
Updated: October 18, 2017, 6:14 PM IST
वीज़ा-ऑन-अप्रूवल देते है ये देश, पूरा करें फॉरेन ट्रिप का सपना
इस तरीके से आप एयरपोर्ट पर जाकर कुछ नियम पूरे कर के साथ तुरंत वीज़ा ले सकते हैं
News18Hindi
Updated: October 18, 2017, 6:14 PM IST
विदेश जाना कईं लोगों का सपना होता है लेकिन वीज़ा के लिए लगने वाले लंबे चक्करों के बारे में सोचकर ही वे हाथ खड़े कर देते हैं. इस मुश्किल को कुछ देशों ने आसान बना दिया गया है. वे अब वीज़ा -ऑन-अप्रूवल उपलब्ध करवाने लगे हैं.

वीज़ा-ऑन-अप्रूवल , यात्रियों को समय, वीज़ा डॉक्युमेंटेशन और लंबी फॉर्मेलिटी की परेशानी से बचाता है. इस तरीके से आप एयरपोर्ट पर जाकर कुछ नियम पूरे कर के साथ तुरंत वीज़ा ले सकते हैं. एशिया, अफ्रीका, दक्षिण अमेरिका, उत्तरी अमेरिका और ओशिनिया में फैले 45 से अधिक देशों में भारतीय पासपोर्ट धारकों को आगमन पर वीज़ा (वीओए) दिया जा सकता है. इनमें से कई देश ऐसे हैं जिनकी वीज़ा फीस काफी कम है और बजट में आप फॉरेन ट्रिप का सपना पूरा कर सकते हैं. आइए आपको बताते हैं इन देशों के बारे में.

मालदीव
अपने समुद्र तटों, नीले लगून और खूबसूरत रीफ्स के लिए जाना जाता है. मालदीव अधिकतम 90 दिनों के लिए भारतीय पासपोर्ट धारकों को मुफ्त वीजा देता है. हालांकि, यात्रियों को आगे के गंतव्य के लिए टिकट दिखानी होती हैं तभी वीज़ा अप्रूव होता है. यदि आपके पास होटल आरक्षण है, तो आपको बैंक अकाउंट डिटेल्स देने की जरूरत नहीं पड़ती है. बुकिंग नहीं होने पर बैंक अकाउंट में प्रति व्यक्ति न्यूनतम 30 यूएस डॉलर प्रतिदिन प्रतिदिन दिखाने की जरूरत होती है.

मॉरीशस
मॉरीशस ब्लैक रीवर गोर्जिस नेशनल पार्क के लिए लोकप्रिय है. झरने, लंबी पैदल यात्रा के ट्रेल्स और वन्य जीवन के साथ समुद्र तटों, लगून और रीफ्स का लुत्फ उठाने के लिए लोग यहां आते हैं. भारतीय पासपोर्ट धारकों को अधिकतम 60 दिनों के लिए मॉरीशस में आगमन पर वीजा मिलता है. बशर्ते उन्होंने होटल या रहने के लिए किसी अन्य जगह की पुष्टि की हो. इसके अलावा, उन्हें स्पॉन्सरशिप लेटर मिलना चाहिए और वापसी की उड़ान से संबंधित बुकिंग की पुष्टि होनी चाहिए. ठहरने के दौरान खर्च करने के लिए धन की पर्याप्त राशि की आवश्यकता होती है, जो कि कम से कम 100 यूएस डॉलर प्रतिदिन है.

इंडोनेशिया
समुद्री तट, ज्वालामुखी, कोमोडो ड्रेगन और वाइल्ड लाइफ,  इंडोनेशिया को खास बनाता है. इंडोनेशिया आने वाले भारतीयों को 25 यूएस डॉलर का भुगतान करके अधिकतम 30 दिनों के लिए आगमन पर वीजा दिया जाता है. इंडोनेशिया में भी, यात्री को देश में रहने के लिए पर्याप्त बैंक बैलेंस होने का सबूत देना होता है. साथ ही वहां जाने और वापसी के लिए फ्लाइट टिकट भी दिखानी होती है. उड़ान टिकट की पुष्टि करनी चाहिए. पर्यटकों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उनके पासपोर्ट रिन्यूअल की तरीख इंडोनेशिया जाने की तारीख से कम से कम 6 महीने बाद की हो.

कंबोडिया
कंबोडिया अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत स्थलों, डेल्टा, पहाड़ों और थाईलैंड के तट रेखा की खाड़ी के लिए जाना जाता है. भारतीयों को कंबोडिया में अपने दौरे का आनंद लेने के लिए वीज़ा प्राप्त करने के लिए 20 यूएस डॉलर का मामूली शुल्क देना होता है, जो कि अधिकतम 20 दिन के लिए वैध होता है. इसके अलावा वहां रहने के लिए हॉटल बुकिंग का प्रूफ और आने-जाने की टिकट होना जरूरी है. बैंक अकाउंट में एक न्यूनतम धनराशि वीज़ा एप्लिकेशन के लिए जरूरी है. इसके अलावा आपका पासपोर्ट कंबोडिया पहुंचने की तारीख से कम से कम 6 महीने बाद तक के लिए वैध हो.

जॉर्डन
जॉर्डन पर्यटकों के बीच लोकप्रिय है. जो पुरातात्विक चमत्कार और प्राचीन स्मारकों का शौक रखने वाले लोग यहां जाना पसंद करते हैं. जॉर्डन पहुंचने वाले भारतीय लगभग 2 हफ्ते के समय के लिए लगभग 30 यूएस डॉलर के भुगतान करके वीजा लेते हैं. वहां ठहरने के लिए बैंक अकाउंट में लगभग 1000 यूएस डॉलर दिखना जरूरी है. इसमें वहां रहना और अन्य खर्च शामिल है. इसके अलावा आने-जाने का एयर टिकट भी होना जरूरी है.  एकेबा के माध्यम से जॉर्डन आने या जाने भारतीय को बिना अतिरिक्त शुल्क के 1 महीने के वीजा का एक्सटेंशन मिल सकता है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर