ऑस्ट्रेलिया में 22 पुरुष बने 'मां', दिया बच्चों को जन्म!

कुछ लोगों ने बच्चों को जन्म देने के बाद इन 'मां' बने पुरुषों के पुरुषत्व पर सवालिया निशान खड़े किए हैं. उनका मानना है कि यदि कोई मर्द बच्चे पैदा करता है तो वास्तविक अर्थों में उसे पुरुष नहीं कहा जा सकता है.

News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 1:33 PM IST
ऑस्ट्रेलिया में 22 पुरुष बने 'मां', दिया बच्चों को जन्म!
ऑस्ट्रेलिया में 22 पुरुष बने 'मां', दिया बच्चों को जन्म!
News18Hindi
Updated: August 8, 2019, 1:33 PM IST
ऑस्ट्रेलिया में 22 मर्दों ने बच्चों को जन्म देने के साथ ही मातृत्व सुख प्राप्त किया. नवभारत टाइम्स के हवाले से ऑस्ट्रेलिया की साल 2018 से लेकर 2019 की जनगणना के आंकड़ों के मुताबिक़ यह जानकारी हासिल हुई है. एक रिपोर्ट के अनुसार डिपार्टमेंट ऑफ ह्यूमन सर्विस ने जन्म दर का डेटा रिलीज किया था जिसके मुताबिक़, बच्चों को जन्म देने वाले 22 मर्द ट्रांसजेंडर थे. हालांकि साल 2009 तक इस सिलसिले में कोई आंकड़ा सामने नहीं आया था.

बच्चों को जन्म देने के साथ ही इन मर्दों का 228 मर्दों की उस लिस्ट में शामिल हो गया जिसमें पिछले एक दशक में बच्चों को जन्म देने वाले लोगों के नाम दर्ज थे. इसके साथ ही इसकी ऑफिशियल कन्फर्मेशन भी हुई. दरअसल, बच्चों की मां बनने वाले इन मर्दों ने अपना जेंडर चेंज कराया था. हालांकि इसे लेकर कुछ विवाद भी उठ रहे हैं.

इसे भी पढ़ें: डार्क चॉकलेट खाएं, Depression होगा दूर, मूड रहेगा अच्छा

वहां के कुछ लोगों ने बच्चों को जन्म देने के बाद इन 'मां' बने पुरुषों के पुरुषत्व पर सवालिया निशान खड़े किए हैं. उनका मानना है कि यदि कोई मर्द बच्चे पैदा करता है तो वास्तविक अर्थों में उसे पुरुष नहीं कहा जा सकता है. हालांकि मेलबर्न यूनिवर्सिटी के एक प्रोफ़ेसर ने इस नजरिए को पूरी तरह से खारिज किया है. उन्होंने कहा कि पुरुषत्व को लेकर हर किसी का नजरिया अलग हो सकता है.

in australia 22 men gave birth to child in financial year 2018 and 2019
in australia 22 men gave birth to child in financial year 2018 and 2019


इसे भी पढ़ें: कार्डियक अरेस्ट से सुषमा स्वराज का निधन, जानें, क्या है कार्डियक अरेस्ट और इसके लक्षण

प्रोफ़ेसर ने कहा कि ऐसा हो सकता है कि जिन पुरुषों ने बच्चों को जन्म दिया है उन्होंने अपना सेक्स चेंज करने के लिए ऑपरेशन का सहारा लिया हो. यह भी संभव है कि उनका नजरिया बाकियों से काफी अलग हो और वो दकियानूसी विचारों को नहीं मानते हों. अगर बच्चा स्वस्थ है तो इसमें परेशानी वाली क्या बात है और इससे पुरुषत्व पर सवाल उठाना भी ठीक नहीं है. इससे बेहतर है कि सोसाइटी को जेंडर के प्रति अपने नजरिये में सकारात्मकता लानी चाहिए.
Loading...

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ट्रेंड्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 8, 2019, 12:31 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...