vidhan sabha election 2017

दुनिया के 30 कलाकारों ने बदल दी 142 साल पुराने ससून डॉक की तस्वीर

News18Hindi
Updated: December 7, 2017, 3:13 PM IST
दुनिया के 30 कलाकारों ने बदल दी 142 साल पुराने ससून डॉक की तस्वीर
ससून डॉक के मेकओवर की एक झलक
News18Hindi
Updated: December 7, 2017, 3:13 PM IST
कभी भारत का ऐतिहासिक बंदरगाह लंबे वक्त तक उपेक्षित रहा. काफी समय से यहां सिर्फ कुलियों का बसेरा हुआ करता था लेकिन अपनी कल्पना से कलाकारों ने यहां पर नए रंग भर दिए. हम बात कर रहे हैं मुंबई के ससून डॉक की. दुनियाभर के कलाकार मेकओवर से  इसे एक नया ही रुप दे चुके हैं.

मुंबई का सबसे पुराना डॉक ससून डॉक लोगों के लिए खुला हुआ हुआ एकमात्र बंदरगाह है. यह लगभग 142 साल पुराना है और संभवतः शहर का सबसे बड़ा मछली बाजार भी यहीं लगता है. इसका अपना इतिहास रहा है. कई उद्योगों को खड़ा करने में इसकी अहम भूमिका रही है. लंबे समय से इस ऐतिहासिक बंदरगाह के बारे में कोई बात नहीं हो रही थी. यहां पर सिर्फ कुली रह रहे थे.

इसके समृद्ध इतिहास को दिखाने के लिए स्टार्ट इंडिया फाउंडेशन और एशियन पेंट्स ने इस बंदरगाह पर रह रहे कुलियों के घरों और उनकी जिंदगियों को एक नया रंग-रूप दिया. उनके घरों के मेकओवर में दुनियाभर के 30 से भी ज्यादा कलाकारों ने अपना योगदान दिया. आर्ट फॉर ऑल के उद्देश्य के साथ इस प्रोजेक्ट की शुरुआत 11 नवंबर को हुई और ये 30 दिसंबर तक चलेगा.

इस स्ट्रीट आर्ट प्रोजेक्ट की कुछ झलकियां आपको भी एक अलग ही संसार में ले जाएंगी और आप भी शायद खुद को मुंबई के इस सबसे पुराने बंदरगाह जाने से रोक न पाएं. देखें, सकून डॉक की एक झलक-










‘Koli women’ by Livil (@olivierhoelzl) For #sassoondockartproject, Olivier Hoelzl uses his characteristic hand cut stencils to create an installation and murals. He converges cultural narratives by splitting his room into two halves. Right in the middle of his room is an installation, which is his recreation of a photograph of Koli women worshipping to the sea, and surrounding it are murals questioning the legitimacy of urbanization and colonization. The artist tries to create a sense of ambivalence in the room and makes the visitor ponder about lost traditions and historical records. Thanks to Embassy of Austria for supporting this project. Festival supported by @asianpaints Olivier Hoelzl also painted multiple murals on different walls in Sassoon Dock. Take a look at them on our blog St+art Something. Link on our Facebook page.


A post shared by St+art India (@startindia) on










पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर