लाइव टीवी

अब छह महीने पहले हो सकेगी टीबी की पहचान

भाषा
Updated: January 22, 2020, 8:23 AM IST
अब छह महीने पहले हो सकेगी टीबी की पहचान
अब छह महीने पहले हो सकेगी टीबी की पहचान

टीबी की बीमारी माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्लोसिस नामक बैक्टीरिया से होती है जो फेफड़ों को प्रभावित करता है. टीबी संक्रामक रोग है और एक से दूसरे व्यक्ति तक हवा के जरिए फैल सकता है.

  • Share this:
टीबी का अगर समय रहते इलाज ना किया जाए तो यह बीमारी जानलेवा साबित हो सकती है. टीबी के इलाज के लिए सरकार ने भी दवाइयों का कोर्स शुरू किया था जिसे अगर डॉक्टर के निर्देशनुसार पूरा किया जाता है तो इस रोग से मुक्ति पाना संभव है. लेकिन कई बार लोगों में इस बीमारी का पता काफी बाद में चल पाता है और तब तक यह बीमारी पूरे शरीर में फ़ैल चुकी होती है. लेकिन अब वैज्ञानिकों ने ब्लड टेस्ट का एक नया तरीका निकाला है जिसकी मदद से टीबी (यक्ष्मा) होने से तीन से छह माह पहले बीमारी की पहचान हो सकेगी और लोगों के बीमार पड़ने से पहले ही बीमारी का इलाज किया जा सकेगा.

द लैंसेट रेस्पाइरेट्री मेडिकल जर्नल में प्रकाशित शोध में शोधकर्ताओं ने उन जीन अभिव्यक्तियों की पहचान की है जो बीमारी के शुरू होने से पहले ही रक्त में आ जाते हैं.

इसे भी पढ़ें: आयुष्मान खुराना ने 'शुभ मंगल ज्यादा सावधान' में लिया है इस बीमारी का नाम

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के शोधकर्ता ऋषि गुप्ता ने कहा, जीन अभिव्यक्ति सिग्नेचर टेस्ट के विकसित होने से टीबी के इलाज में मदद मिलेगी.

ऐसे फैलता है टीबी का रोग
टीबी की बीमारी माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरक्लोसिस नामक बैक्टीरिया से होती है जो फेफड़ों को प्रभावित करता है. टीबी संक्रामक रोग है और एक से दूसरे व्यक्ति तक हवा के जरिए फैल सकता है. टीबी दुनियाभर में होने वाली मौतों के शीर्ष दस कारणों में से एक है. दुनियाभर की एक चौथाई जनसंख्या में यह बैक्टीरिया मौजूद होता है, लेकिन ज्यादातर लोग स्वस्थ रहते हैं और इस बैक्टीरिया को नहीं फैलाते.

इसे भी पढ़ें: दिमाग के लिए घातक हो सकता है सोयाबीन के तेल का इस्तेमाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वेलनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 8:23 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर