गुलाबी बालों वाली इस लड़की ने आखिर क्यों लोगों की नाक में दम कर रखा है!

बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अमरीका की महिला फ़ुटबॉलर मेगन रोपीनो ने फ़ुटबॉल वर्ल्ड कप शुरू होने से सिर्फ़ तीन दिन पहले कहा था कि चाहे जो हो जाए वो वाइट हाउस में क़दम नहीं रखेंगी. इसके बाद डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, "पहले आप जीतकर दिखाइए, फिर हम सोचेंगे कि आपको व्हाइट हाउस बुलाना है या नही."

News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 4:20 PM IST
गुलाबी बालों वाली इस लड़की ने आखिर क्यों लोगों की नाक में दम कर रखा है!
गुलाबी बालों वाली इस लड़की ने आखिर क्यों लोगों की नाक में दम कर रखा है!
News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 4:20 PM IST
मेगन रोपीनो महिला फुटबॉलर हैं. और लोगों को उनसे मिर्ची लगी हुई है. उनके बालों की रंगत गुलाबी है. न इस वजह से भी वह चर्चा में नहीं हैं. दरअसल उन्होंने पितृसत्तात्मक जहान की पूंछ पर पैर रखा दिया है. और लगी है यह दुनिया तिलमिलाने, लसलसाने और चिल्लाने. खैर, वह कोई पहली महिला नहीं हैं जिन्होंने अपनी स्पष्टवादिता से लोगों की नाक में दम कर दिया हो. लेकिन हां वह उन चुनिंदा महिलाओं में से एक हैं जिन्होंने अमेरिका के प्रेजिडेंट डोनाल्ड ट्रंप तक को गुस्सा दिला दिया. आइए आगे जानें पूरी बात क्या है.

बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अमरीका की महिला फ़ुटबॉलर मेगन रोपीनो ने फ़ुटबॉल वर्ल्ड कप शुरू होने से सिर्फ़ तीन दिन पहले कहा था कि चाहे जो हो जाए वो वाइट हाउस में क़दम नहीं रखेंगी. इसके बाद डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, "पहले आप जीतकर दिखाइए, फिर हम सोचेंगे कि आपको व्हाइट हाउस बुलाना है या नही."

इसे भी पढ़ें: ऐसी महिलाएं होती हैं बेहद मजबूत, इन्हें हराना किसी के बस में नहीं!

अनघा पाठक ने बीबीसी में अपनी रिपोर्ट में मेगन के बारे में लिखा है कि जब से रोपीनो और उनकी टीम ने वर्ल्ड कप जीता, अमरीका में उनके पोस्टर जलाए जाने लगे, उनके पोस्टरों पर भद्दी बातें लिखी जाने लगीं और रोपीने के ख़िलाफ़ अपमानजनक नारे लगाए जाने लगे. मैं सोच रही थी अगर कोई पुरुष कप्तान अपनी टीम को वर्ल्ड कप जिताता तो क्या लोग उसके साथ भी ऐसे ही बर्ताव करते? मेगन ने जो भाषण दिया, उसमें वो अपनी टीम की लड़कियों के बारे में भी बात करती हैं. उन्होंने कहा, "हम सब साथ हैं, हममें से कुछ के बाल गुलाबी हैं. किसी का रंग काला है, किसी ने टैटू गुदवाए हैं तो किसी के लंबे बाल हैं. स्ट्रेट लड़कियां हैं और लेस्बियन लड़कियां भी. मुझे हम सब पर गर्व है. हमने जीत हासिल की है और बेफ़िक्र हैं. हमारे स्वागत में जो रैली निकली उससे दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे ख़ूबसूरत शहर थम सा गया. हम दुनिया की सबसे बड़ी टीम हैं."

इसे भी पढ़ें:  मच्छरों से करें बचाव, घर में बेहद कम खर्च में बनाएं स्प्रे

वह अपने इस लिख में लिखती हैं कि अक्सर हम उन औरतों को देखते हैं जो आत्मग्लानि की अजीब सी भावना से घिरी रहती हैं. हम ऐसी औरतों को देखने के आदी हो गए हैं या बल्कि कहें कि ऐसी औरतों को देखना हमारे लिए 'नॉर्मल' हो गया है. इसलिए हम मेगन और उनकी साथियों को देखकर झुंझला उठते हैं. हम उनके जीने के तरीके को बर्दाश्त नहीं कर पाते. ऐसा नहीं है कि मेगन जो करती हैं, वो हमेशा सही ही होता है. वो ख़ुद स्वीकार करती हैं कि कई बार झगड़े के दौरान वो ऐसी बातें कह देती हैं जो नहीं कहनी चाहिए. अनघा कहती हैं कि मेगन ने जो भाषण दिया उसका निष्कर्ष कुछ ऐसा था, हमें प्यार ज़्यादा करना होगा और नफ़रत कम. हमें सुनना ज़्यादा होगा और बोलना कम. इस दुनिया को ख़ूबसूरत बनाने की ज़िम्मेदारी हमारी है. आप जो चाहे करिए लेकिन आप जैसे इंसान हैं, उससे बेहतर बनिए.
First published: July 19, 2019, 4:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...