Valentine Day Shayari: 'झुकी झुकी सी नज़र', पढ़ें मुहब्बत की रूमानियत में डूबी ये खास शायरी

आप पहलू में जो बैठें तो संभल कर बैठें...

Valentine Day Shayari: मुहब्बत में रूमानी होना यूं है कि अपनी आत्मा को प्रेम में पोषित करना. हर वह दिल जिसने इश्क़ किया है, उसका अपने महबूब से रूमानी होना लाज़मी है.

  • Share this:
    Valentine Day Shayari: वैलेंटाइन डे पर अगर आप अपनी मुहब्बत (Love) को अपने दिल के अल्फाज़ भेजना चाहते हैं तो इश्क़ के राज उजागर करती ये शायरियां आपकी मदद कर सकती हैं. संसार में दो लोगों के बीच के इस कोमल संबंध में जीवन के कुछ रहस्य लिपटे होते हैं. ये राज शायरी में महकते हैं, जिन्हें आप महसूस कर सकते हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि ये शायरी मशहूर शायरों ने दुनिया को दिए हैं. मुहब्बत में रूमानी होना यूं है कि अपनी आत्मा को प्रेम में पोषित करना. हर वह दिल जिसने इश्क़ किया है, उसका अपने महबूब से रूमानी होना लाज़मी है. इस बात को शायरों के दिल ने भी खूब महसूस किया और अपने अशआरों में इसे उतारा भी. आइए पढ़ते हैं ऐसी ही कुछ शाइरी जो इसी रूमानियत से सराबोर हैं.

    जिस काफ़िर पे दम निकले...

    मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का
    उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले
    मिर्जा गालिब

    बाग तो सारा जाने है...

    पत्ता पत्ता बूटा बूटा हाल हमारा जाने है
    जाने न जाने गुल ही न जाने बाग तो सारा जाने है
    मीर तकी मीर

    इसे भी पढ़ेंः Valentine Day 2021: 'प्रेम-पथ हो न सूना कभी इसलिए', पढ़े प्रेम पर चुनिंदा कविताएं

    रंज की घड़ी भी खुशी से गुज़ार दे...

    दिल दे तो इस मिज़ाज का परवरदिगार दे
    जो रंज की घड़ी भी खुशी से गुज़ार दे
    दाग देहलवी

    गुनाह किए जा रहा हूं मैं...

    यूं ज़िंदगी गुज़ार रहा हूं तिरे बगैर
    जैसे कोई गुनाह किए जा रहा हूं मैं
    जिगर मुरादाबादी

    तो अफ़्साना बना सकता हूं मैं...

    दफ़्न कर सकता हूं सीने में तुम्हारे राज़ को
    और तुम चाहो तो अफ़्साना बना सकता हूं मैं
    असरार-उल-हक मजाज़

    किस लिए देखती हो आईना

    किस लिए देखती हो आईना
    तुम तो खुद से भी खूबसूरत हो
    जौन एलिया

    आख़री हिचकी तेरे ज़ानूं पे आए

    आख़री हिचकी तेरे ज़ानूं पे आए
    मौत भी मैं शाइराना चाहता हूं
    क़तील शिफ़ाई

    उस की याद आई है

    उस की याद आई है सांसो ज़रा आहिस्ता चलो
    धड़कनों से भी इबादत में खलल पड़ता है
    राहत इंदौरी

    ये भी पढ़ें - Valentine Day 2021: इस वैलेंटाइन डे को और बनाएं खास, इन प्रेम कविताओं के साथ

    झुकी झुकी सी नज़र

    झुकी झुकी सी नज़र बे-क़रार है कि नहीं
    दबा दबा सा सही दिल में प्यार है कि नहीं
    कैफ़ी आज़मी

    आप पहलू में जो बैठें

    आप पहलू में जो बैठें तो संभल कर बैठें
    दिल-ए-बेताब को आदत है मचल जाने की
    जलील मानिकपूरी

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.