अपना शहर चुनें

States

Vastu Tips: इस दिशा में बनाएं घर की बालकनी, नहीं तो हो सकती है ऐसी परेशानी

भूमि का मुख पूर्व दिशा की ओर होने पर बालकनी पूर्व अथवा उत्तर दिशा की ओर होनी चाहिए.
भूमि का मुख पूर्व दिशा की ओर होने पर बालकनी पूर्व अथवा उत्तर दिशा की ओर होनी चाहिए.

घर के वास्तु (Vastu) का असर घर में रहने वाले हर सदस्य पर पड़ता है. बच्चों की पढ़ाई-लिखाई से लेकर हर सदस्य की सेहत और करियर भी कहीं न कहीं वास्तु पर ही निर्भर करता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 25, 2020, 5:08 PM IST
  • Share this:
किसी भी घर की सुख-शांति और समृद्धि को लेकर वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra) में कई नियम बताए गए हैं. यदि तमाम तरह की सुख-सुविधाओं के बाद भी आपके घर में तनाव बना रहता है और बहुत कोशिश के बाद भी आपको सुकून की नींद नहीं आती है, परिवार में झगड़ा होता रहता है तो आपको अपने घर के वास्तु दोष पर नजर दौड़ानी चाहिए. आप चाहे किसी बंगले में रहते हों या फिर किसी छोटे से मकान में, आपके लिए ये वास्तु टिप्स (Vastu Tips) काफी लाभकारी साबित हो सकते हैं. घर के वास्तु का असर घर में रहने वाले हर सदस्य पर पड़ता है. बच्चों की पढ़ाई-लिखाई से लेकर हर सदस्य की सेहत और करियर भी कहीं न कहीं वास्तु पर ही निर्भर करता है. कहते हैं कि घर का निर्माण अगर पूरे भूखंड में हुआ है तो यह घर में रहने वालों के लिए हानिकारक होता है.

खुला भूखंड जितना अधिक होता है उतना ही उत्तम माना जाता है. इसलिए खुले भूखंड के विकल्प के रूप में आजकल बालकनी का निर्माण किया जा रहा है. हर व्यक्ति की चाहत होती है कि उनके घर में बालकनी हो जहां सुबह और शाम फुर्सत के कुछ पल गुजारे जा सकें. वास्तु शास्त्र के अनुसार फुर्सत का पल भी बोझिल हो सकता है अगर आपके घर की बालकनी वास्तु के नियमों के अनुसार न बनी हो. कहते हैं कि बालकनी का निर्माण हमेशा भूमि के मुख के अनुसार होना चाहिए. भूखंड का मुख उस दिशा को कहा जाता है जिस दिशा भवन का मुख्य दरवाजा होता है.

इसे भी पढ़ेंः Vastu Tips: घर में भूलकर भी नहीं रखने चाहिए सूखे या मुरझाए फूल, हो सकता है ऐसा नुकसान



जानें किस दिशा में हो बालकनी
-भूमि का मुख पूर्व दिशा की ओर होने पर बालकनी पूर्व अथवा उत्तर दिशा की ओर होनी चाहिए.
-भूमि का मुख पश्चिम दिशा की ओर होने पर बालकनी पश्चिम अथवा उत्तर दिशा में होना शुभ होता है.
-उत्तरमुखी भूमि में बालकनी पूर्व या उत्तर दिशा में होने पर घर में सकारात्मक उर्जा की वृद्धि होती है.
-दक्षिण दिशा में भूमि का मुख होने पर बलकनी पूर्व दिशा में हो तो ज्यादा अच्छा होता है.
-हालांकि किसी कारण पूर्व दिशा में बालकनी नहीं होने पर दक्षिण दिशा में बालकनी का होना फायदेमंद होता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज