यौन हिंसा के शिकार लोगों को वियतनामी ब्यूटी क्वीन ने दिया ये संदेश

यौन हिंसा के शिकार लोगों को वियतनामी ब्यूटी क्वीन ने दिया ये संदेश
मिस यूनिवर्स वियतनाम 2020 (साभार- Instagram/Nguyễn Trần Khánh Vân)

रिपोर्ट में यह बात भी सामने आई है कि 58.4% पीड़ितों (Sexual Assault) ने कुछ भी नहीं किया और हिंसा को छुपाये रखा जबकि 67% लोगों ने यौन उत्पीड़न (Sexual Abuse) की बात जानते हुए भी पीड़ितों के लिए मदद का हाथ नहीं बढ़ाया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 15, 2020, 10:33 AM IST
  • Share this:
कोरोना महामारी (Covid 19 pandemic) के समय जब पूरे विश्व में यौन हिंसा के मामलों में काफी तेजी आई है, ऐसे में मिस यूनिवर्स वियतनाम 2020, गुयेन ट्रैन खनह वान ने हाल ही में अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम अकाउंट पर ने यौन हिंसा का शिकार हुए लोगों से अपील की है कि वो अपने साथ हुई हिंसा और ज्यादतियों के खिलाफ आवाज बुलंद करें और इस मामले में चुप्पी को तोड़ें. साउथ एशिया में, यौन हिंसा के बढ़ते मामलों को लेकर काम करने वाले वन बॉडी विलेज संगठन के साथ मिलकर वो यौन हिंसा और बाल उत्पीड़न के खिलाफ जोरशोर से काम कर रही हैं.

उन्होंने इस सन्दर्भ में iSEE संस्थान द्वारा जारी की गई भयावह तस्वीरें जो पीड़ित का शारीरिक और मानसिक दर्द दर्शाती हैं शेयर की हैं. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि ऐसे मामलों से पीड़ित 90.4% लोग मानसिक अवसाद, डरा हुआ, बेहद उदास और हीनता की भावना महसूस हुई थी. यौन उत्पीड़न लोगों के लिए काफी बुरा अनुभव था. मन की इन चोटों ने उन लोगों को मानसिक रूप से काफी जुनूनी बना दिया था. इसके साथ ही उन्हें हमेशा अकेलेपन का डर भी सताता रहता है. ऐसे लोगों को लगता है कि उनके साथ हुए उत्पीड़न के बारे में यदि किसी ने बताया तो वो सके अलग-थलग हो जाएंगे और लोग उनका सम्मान नहीं करेंगे. लोगों द्वारा नकारे जाने के डर की वजह से ही वो अपने साथ हुए यौन उत्पीड़न की सच्चाई बताने से हिचकिचाते हैं.

इसे भी पढ़ें: बर्न सर्वाइवर ने कराया नेकेड फोटो शूट



रिपोर्ट में यह बात भी सामने आई है कि 58.4% पीड़ितों ने कुछ भी नहीं किया और हिंसा को छुपाये रखा जबकि 67% लोगों ने यौन उत्पीड़न की बात जानते हुए भी पीड़ितों के लिए मदद का हाथ नहीं बढ़ाया. मिस यूनिवर्स वियतनाम ने कहा कि यह वाकई काफी बुरा होता है जब कोई मदद का हाथ बढ़ाये लेकिन सामने से उसे तिरस्कार, आलोचना या झिड़की मिले. बाहर जाने पर हल्का मेकअप या कोई नई ड्रेस पहनकर उन्हें भी काफी बेहतर और आत्मविश्वास महसूस होता है. ऐसे में वो जब दूसरों से संवाद करते हैं तो उसमें उनकी ख़ुशी भी झलकती है. लेकिन सबसे बुरा यह है कि जब वो खुश या आत्मविश्वास से परिपूर्ण होते हैं तब उनपर उंगलियां उठायी जाती हैं और शक की नज़रों से देखा जाता है.
View this post on Instagram

According to a report conducted by the iSEE Institute, it has been shown that 90,4% of the victims felt worried, scared, depressed and had a sense of inferiority after experiencing sexual harassment. These mental wounds have caused them to have an indelible psychological obsession as well as the fear of loneliness; they think that once they speak up, they will be alienated and despised by the others. It is the fear of being despised that prevents them from exposing the crime and letting the truth be told. Based on a report conducted by the iSEE Institute, it has been shown that 58,4% of the victims did nothing and kept the violence under wraps. It is the psychology of victim blaming that makes them suspicious of themselves, does anyone believe their story? That psychology makes them have the strong desire for being listened to, being understood and given a helping hand by the others, EVEN JUST ONCE. SPEAK UP! #BREAKTHESILENCE ———————————— NEED HELP, CONTACT US 📱Facebook: S.E.P. Project - AIESEC Ho Chi Minh City 📨 Email: s.e.p.project@aiesec.net #SPEAKUP #AIESEC #KhanhVan #MissUniverseVietnam #UniMedia

A post shared by Nguyễn Trần Khánh Vân (@khanhvannguyen25) on



वन बॉडी विलेज के सहयोग से गुयेन इन पीड़ितों को आत्मविश्वास वापस पाने में मदद करता है और उन्हें एक उज्जवल भविष्य बनाने में मदद करता है. उन्होंने एक कहानी भी साझा की- जहां वह एक और पीड़िता को वापस ले आई, ताकि वो अपने परिवार के साथ मिलकर आर्थिक रूप से शोषण के खिलाफ आवाज उठा सके. 'पीड़िता को #OneBodyVillage फैमिली को छोड़ना पड़ा ताकि वो अपने परिवार और मां की आर्थिक रूप से मदद कर सके क्योंकि उसका परिवार वाकई जरूरतमंद था. लेकिन बाद में जब हम उससे दोबारा मिलने लगे तो उसने नम आंखों के साथ हमें गले लगा लिया. उन्होंने बताया कि ' वो अभी भी यौन उत्पीड़न की वजह से काफी उदास है और वर्तमान में भी उसकी लाइफ सेफ नहीं है, अभी भी उसके साथ यौन उत्पीड़न का खतरा है. इस वजह से हमने उसे वापस आने का ऑफर दिया जिसे उसने मान लिया. वो अब अपने सपनों को पूरा करेगी और स्कूल जाएगी...ऐसे ही लड़ती रहो, हम सब तुमसे प्यार करते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading