चाहते हैं लंबे समय तक रिलेशनशिप तो अलग-अलग बिस्तर पर सोना है जरूरी: स्टडी

कुछ लोग रिश्तों को लम्बे समय तक बनाए रखने के लिए अलग-अलग बेडरूम का इस्तेमाल करते हैं.
कुछ लोग रिश्तों को लम्बे समय तक बनाए रखने के लिए अलग-अलग बेडरूम का इस्तेमाल करते हैं.

रिसर्च (Research) में सामने आया कि जब आपकी नींद (Sleep) आपके पार्टनर की वजह से खराब होती है. ऐसे में नींद प्रभावित होती है और यह आपके स्वास्थ्य को बिगाड़ सकती है और इससे रिलेशनशिप (Relationship) पर भी असर पड़ सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 13, 2020, 11:29 AM IST
  • Share this:
अलग-अलग बिस्तर (Bed) वैवाहिक संघर्ष का संकेत नहीं है, बल्कि यह बेहतर स्वास्थ्य और सुखी रिलेशनशिप (Happy Relationship) की कुंजी है. ऐसा एक रिसर्च (Research) में सामने आया है. मैट्रेस कम्पनी द्वारा किये गए इस सर्वे (Survey) में 6 जोड़ों में एक जोड़े ने अलग-अलग सोने का निर्णय लिया. ऐसा नहीं कि उनमें कोई झगड़ा था, बल्कि उन्हें एक अच्छी नींद (Sleep) की जरूरत थी. नींद पर 35 सालों से रिसर्च कर रहे डॉक्टर नील स्टानले ने 'डेली मेल' से बातचीत में कहा कि मैं अलग-अलग बिस्तर की वकालत करने वाला विश्व का सबसे बड़ा वकील हूं.

रिसर्च में सामने आया कि जब पार्टनर में हलचल होती है, तो दूसरे पार्टनर में भी ऐसा होता है. डॉक्टर स्टानले के अनुसार आपकी नींद का तीसरा हिस्सा आपके पार्टनर की वजह से खराब होता है. ऐसे में नींद प्रभावित होती है और यह आपके शारीरिक स्वास्थ्य को बिगाड़ सकती है. इससे आपके रिलेशनशिप पर भी असर पड़ सकता है. एक अन्य रिसर्च में भी सामने आया कि जो लोग कम सोते हैं उनके तलाक ज्यादा हुए हैं.

ये भी पढ़ें - रिश्‍तों में इन बातों की करें नो एंट्री, दो दिलों के बीच नहीं आएंगी दूरियां



डॉक्टर स्टानले ने कम सोने से होने वाले नुकसान के बारे में बताया कि इससे आपका प्रदर्शन, रिलेशनशिप, दुर्घटना का जोखिम बढ़ता है. इसके अलावा उन्होंने कहा कि लम्बे समय तक ऐसा रहने पर आपके वजन में वृद्धि हो सकती है और टाइप 2 डायबिटीज और डिप्रेशन भी हो सकता है. नींद काफी महत्वपूर्ण है और इसमें अवैज्ञानिक सामाजिक निर्माण के लिए समझौता करने का कोई कारण नहीं है.
ये भी पढ़ें - घर से दूर रहने के दौरान भाई-बहन ऐसे रखें अपने रिश्‍ते को मजबूत

इस साल की शुरुआत में एक किताब पब्लिश हुई जिसमें भी नींद के बारे में कहा गया था कि बिस्तर साझा करने का मतलब यह नहीं था कि लोग ऐसा करने के लिए तैयार ही होते हों. अपर क्लास समाज में लोग रिश्तों को लम्बे समय तक बनाए रखने के लिए अलग-अलग बेडरूम का इस्तेमाल करते हैं. ऐसा रिश्तों को मजबूती देने के अलावा नींद में बाधा से बचने के लिए भी किया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज