Home /News /lifestyle /

जावेद अख्तर के ये 10 गाने जब भी सुनेंगे, गुनगुनाएंगे

जावेद अख्तर के ये 10 गाने जब भी सुनेंगे, गुनगुनाएंगे

Photo- Facebook

Photo- Facebook

हिंदी सिनेमा के बेहतरीन शायर और गीतकार जावेद अख्तर का आज जन्मदिन हैं. इस मौके पर हम आपको सुनवाते हैं. उनके 10 बेहतरीन गानें, जो जब भी सुनाई देते हैं. मिश्री की तरह रगो में घुल जाते हैं.

    हिंदी सिनेमा के बेहतरीन शायर और गीतकार जावेद अख्तर का आज जन्मदिन हैं. इस मौके पर हम आपको दिखाते हैं उनके 10 बेहतरीन गानें, जो जब भी सुनाई देते हैं. मिश्री की तरह रगो में घुल जाते हैं....

    जावेद अख्तर के 10 बेहतरीन गानें



    जावेद अख्तर का असली नाम जादू है. उनके पिता जां निसार अख्तर बड़े उर्दू शायर और फिल्म गीतकार थे. उनका नाम जां निसार अख्तर के गीत की पंक्ति, “लम्हा लम्हा किसी जादू का फसाना होगा” से आया था. जावेद नाम जादू से करीब था इसलिए स्कूल में उनका नाम स्कूली नाम जावेद रखा गया.



    जावेद अख्तर का जन्म 17 जनवरी 1945 को हुआ था. जावेद की मां सैफिया अख्तर गायिका-लेखिका थीं.



    जावेद बचपन से ही दमदार लिखते थे. एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि स्कूल के समय लोग उनसे लव लेटर लिखवाने आया करते थे.



    जावेद अख्तर की पहली पत्नी हनी ईरानी भी पटकथा लेखक थीं. हनी ईरानी का जन्मदिन भी 17 जनवरी को ही है. दोनों ने 1972 में शादी की. उस समय ईरानी की उम्र करीब 17 साल थी. अख्तर और ईरानी के दो बच्चे हैं फरहान अख्तर और जोया अख्तर.



    दोनों 1978 में अलग हो गये. 1985 में दोनों ने तलाक ले लिया. जावेद अख्तर ने 1984 में अभिनेत्री शबाना आजमी से दूसरी शादी की.



    हिंदी फिल्म जगत में उन्हें काम पाने के लिए काफी स्ट्रगल करना पड़ा. जावेद को फिल्मों में क्लैपर ब्वॉय का काम मिल गया.



    फिल्म 'सरहदी लुटेरा' की शूटिंग के दौरान उनकी मुलाकात सलीम खान से हुई. कुछ ही दिनों में दोनों काफी अच्छे दोस्त बन गए. उनसे मुलाकात के बाद जावेद कैफी आजमी के असिस्टेंट बन गए  इन्‍हीं के सपोर्ट से सलीम-जावेद की जोड़ी बनी और फिल्म 'हाथी मेरे साथी' की दमदार स्क्रिप्ट लिखी.


    सलीम-जावेद की पटकथा लेखक के तौर पर पहली फिल्म अंदाज में मुख्य भूमिका राजेश खन्ना ने निभायी थी. इस जोड़ी ने हिन्दी सिनेमा को 24 फिल्में दीं जिनमें जंजीर, दीवार, डॉन, शक्ति, सीता और गीता, शोले, क्रांति और मिस्टर इंडिया समेत कुल 20 फिल्में हिट रहीं.



    जावेद अख्तर उर्दू में शायरी किया करते थे और यश चोपड़ा उनकी कविताएं सुन चुके थे. चोपड़ा ने अख्तर को सिलसिला के गीत लिखने के लिए कहा.



    जावेद अख्तर को पटकथा लेखक और गीतकार के तौर पर एक दर्जन से ज्यादा फिल्म फेयर पुरस्कार मिल चुके हैं. उन्हें उनकी कविता संग्रह “लावा” के लिए उर्दू का साहित्य अकादमी पुरस्कार भी मिल चुका है.

    Tags: Javed akhtar

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर