मरे हुए बच्‍चे को साथ लेकर 17 दिन तक तैरी थी मछली, अब फिर हुई प्रेग्‍नेंट

मरे हुए बच्‍चे को साथ लेकर 17 दिन तक तैरी थी मछली, अब फिर हुई प्रेग्‍नेंट
व्‍हेल मछली अपने मृत बच्‍चे की बॉडी को लेकर 17 दिनों तक तैरती रही थी. Image Credit/@sealifer3

ड्रोन (Drone) से ली गई तस्‍वीरों में अब जो पुष्टि हुई है उसके मुताबिक तहेलक्‍वा (Tahlequah) व्‍हेल मछली एक बार फिर गर्भवती (whale Pregnant) हुई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 31, 2020, 12:50 PM IST
  • Share this:
इंसानों की तरह अन्‍य जीव-जंतुओं में भी भावनाएं होती हैं. वे भी खुश होते हैं और दुख का एहसास भी करते हैं. ऐसा ही एक मामला व्‍हेल मछली (whales Fish) का भी है. साल 2018 में एक व्‍हेल मछली अपने बच्‍चे की मौत के बाद भी उसकी बॉडी को लेकर समुद्र (Sea) में करीब 17 दिनों तक तैरती नजर आई थी. हालांकि व्‍हेल मछली अपने मृत बच्‍चे की बॉडी को कुछ दिनों तक अपने साथ लेकर घूमती है, मगर इस व्‍हेल मछली ने अपने बच्‍चे की बॉडी को इतने ज्‍यादा दिनों तक अपने साथ रख कर सबको हैरत में डाल दिया था. यह इस तरह का अलग मामला सामने आया था. फिलहाल ड्रोन (Drone) से ली गई तस्‍वीरों में अब जो पुष्टि हुई है उसके मुताबिक अब वही व्‍हेल मछली एक बार फिर गर्भवती (whale Pregnant) हुई है.

वाशिंगटन के वैज्ञानिकों के मुताबिक ड्रोन के जरिये व्‍हेल मछली की जानकारी जुटाई गई है. पुरर्वास और अनुसंधान समूह एसआरथ्री की ओर से ड्रोन के जरिये व्‍हेल की तस्‍वीरें ली गई हैं. इनके जरिये ही यह पता चला कि व्‍हेल मछली प्रेग्‍नेंट है. यूनिवर्सिटी ऑफ वाशिंगटन के अनुसार हाल के वर्षों में व्‍हेल की तादाद कम हुई है. ऐसे में इस स्थिति के मद्देनजर और व्‍हेल की इस हालत को देखते हुए बोट चालकों को भी हिदायत दी गई है कि वे व्‍हेल के इलाके में आवाजाही कम ही रखें.

ये भी पढ़ें - ऑक्सफोर्ड में पढ़ाई करेंगी प्रतिष्‍ठा, व्हीलचेयर पर रह कर तय की हौसलों की उड़ान



इस मामले में सेंटर फॉर व्‍हेल रिसर्च के वैज्ञानिक केन बालकॉम्‍ब की रिसर्च के मुताबिक व्‍हेल यह मानने को तैयार ही नहीं थी कि उसका बच्‍चा अब जीवित नहीं है. सिएटल टाइम्स के अनुसार वाशिंगटन राज्य के वैज्ञानिकों ने दक्षिणी रेजिडेंट किलर व्हेल की ड्रोन छवियों को रिकॉर्ड करते समय पता लगाया कि Tahlequah फिर से गर्भवती है. वाशिंगटन विश्वविद्यालय में सेंटर फॉर कंजर्वेशन बायोलॉजी के शोधकर्ता सैम वासर ने इनसे संबंधित अपने शोध में पाया कि भूख से पैदा हुआ तनाव व्हेल की खराब प्रजनन से जुड़ा हुआ है. फिलहाल वैज्ञानिक व्हेल पर नजर बनाए रखेंगे और उसके स्‍वास्‍थ्‍य की जानकारी रखेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading