होम /न्यूज /जीवन शैली /ज्यादा शराब पीने के क्या है साइड इफेक्ट, कैसे करता है दिमाग और शरीर पर असर, जानें

ज्यादा शराब पीने के क्या है साइड इफेक्ट, कैसे करता है दिमाग और शरीर पर असर, जानें

अल्कोहलिक हेपेटाइटिस लीवर की सूजन की बीमारी है जो बहुत अधिक शराब पीने के कारण होती है.

अल्कोहलिक हेपेटाइटिस लीवर की सूजन की बीमारी है जो बहुत अधिक शराब पीने के कारण होती है.

excess drinking of alcohol: शराब की थोड़ी मात्रा भी कुछ न कुछ शरीर को नुकसान जरूर पहुंचाती है लेकिन स्वास्थ्य विशेषज्ञो ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

ज्यादा शराब से अल्कोहलिक हेपेटाइटिस और सिरोसिस का खतरा कई गुना बढ़ जाता है
शराब की थोड़ी मात्रा भी कुछ न कुछ शरीर को नुकसान जरूर पहुंचाती है

excess drinking of alcohol: शराब को लोग अकसर अनुभव के रूप में शुरू करते हैं और कब यह आदत बन जाती है पता ही नहीं चलता. लेकिन क्या आप जानते हैं कि शराब की कितनी मात्रा शरीर के लिए नुकसान नहीं पहुंचाती. हालांकि शराब की थोड़ी मात्रा भी कुछ न कुछ शरीर को नुकसान जरूर पहुंचाती है लेकिन स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि यदि कोई व्यक्ति लगभग 10 वर्षों से प्रतिदिन 80 मिलीलीटर शराब पी रहा है तो यह मात्रा बहुत ज्यादा है और इससे अल्कोहलिक हेपेटाइटिस और सिरोसिस का खतरा कई गुना बढ़ जाता है. इन बीमारियों से मरीजों की दर्दनाक मौत हो सकती है. तो आइए जानते हैं कि शराब पीने के कारण हेपेटाइटिस और सिरोसिस आखिर है क्या.

ज्यादा शराब पीने के साइड इफेक्ट
अल्कोहलिक हेपेटाइटिस लीवर की सूजन की बीमारी है जो बहुत अधिक शराब पीने के कारण होती है. इसमें फ्लूड जमा होने लगता है जिसके कारण पेट बड़ा हो जाता है. इसके अलावा पीली आंखें, बुखार, थकान और भूख न लगना जैसे लक्षण इस बीमारी के लिए रेड सिगनल है. दूसरी ओर सिरोसिस एक क्रोनिक बीमारी है (जो जिंदगी के साथ चलती है) सिरोसिस की बीमारी लीवर के क्षतिग्रस्त होने से होती है जिसके कई कारण हो सकते हैं.

यह भी पढ़ेंः कैसे समझें कि पीरियड्स अनियमित हो गए हैं, जानें इससे बचने के टिप्स
क्या है तात्कालिक प्रभाव
मायो क्लिनिक के मुताबिक “कई बार लीवर किसी बीमारी, अत्यधिक शराब के सेवन या किसी अन्य कारण से क्षतिग्रस्त हो जाता है लेकिन इसकी खासियत यह है कि यह अपने आप खुद की मरम्मत कर लेता है.” लेकिन इस मरम्मत के दौरान कुछ स्कार टिशू भी बनते हैं. जैसे-जैसे सिरोसिस की बीमारी बढ़ती है, ज्यादा से ज्यादा स्कार टिशू को बनाना पड़ता है. अंत में इससे लीवर पर इतना जोर पड़ता है कि इसका सामान्य फंक्शन प्रभावित होने लगता है. फोर्टिस अस्पताल, वसंत कुंज, दिल्ली की पल्मोनोलॉजिस्ट डॉ ऋचा सरीन कहती हैं, “शराब पीने के बाद मदहोशी, मनोदशा में बदलाव, आवेगपूर्ण व्यवहार, गाली-गलौज, दस्त और उल्टी जैसे प्रभाव व्यक्ति पर देखे जाते हैं. शराब पीने के ये सिर्फ अल्पकालिक प्रभाव हैं लेकिन दीर्घकालिक प्रभाव अधिक गंभीर और चिंताजनक हैं.”

कैसा महसूस होता है
डॉ ऋचा ने बताया कि अल्कोहलिक हेपेटाइटिस, सिरोसिस, कुपोषण, आवश्यक पोषक तत्वों की कमी, लगातार मूड में बदलाव, अनिद्रा, कमजोर इम्युनिटी और कामेच्छा और यौन क्रिया में बदलाव जैसी क्रोनिक हेल्थ समस्याएं हैं. जब लोग शराब पीते हैं तो उस समय लोगों को लगता है कि उसका मूड बहुत अच्छा है. वह सांतवें आसमान पर खुद को महसूस करते हैं लेकिन शराब पीने के बाद शराब में मौजूद रसायन दिमाग में हलचल पैदा करता है जिससे जिससे शारीरिक तथा मानसिक स्वास्थ्य पर असर पड़ता है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें