इन 7 गलतियों से चेहरे पर बढ़ते हैं डार्क स्पॉट्स और पिगमेंटेशन, रखें इन बातों का ख्‍याल

सनस्‍क्रीन के इस्‍तेमाल की आदत डालना बहुत जरूरी है. Image Credit : Pexels/ Matheus Bertelli

सनस्‍क्रीन के इस्‍तेमाल की आदत डालना बहुत जरूरी है. Image Credit : Pexels/ Matheus Bertelli

अगर हम कुछ बातों को ध्‍यान में रखें तो अपने चेहरे (Face) पर पिंगमेंटेशन (Pigmentation) और डार्क स्‍पॉट (Dark Spots) को आने से रोक सकते हैं.

  • Share this:
What Causes Dark Spots And Pigmentation : आम तौर पर उम्र बढ़ने के साथ साफ चेहरे पर भी ब्राउन, ब्‍लैक और लाल रंग के छोटे छोटे स्‍पॉट होने लगते हैं. ये आपकी खूबसूरती को तो कम करते ही हैं, स्किन की क्‍वालिटी भी खराब कर देते हैं. कई  बार तो धूप और यूवी रेज के लगातार संपर्क में रहने से चेहरे पर ये दाग होने लगते हैं, लेकिन कई बार इसकी वजह हमारी अपनी गलतियां होती हैं. स्किन पर आ रहे पिगमेंटेशन (Pigmentation) से निजात पाने के लिए कुछ लोग डर्मेटोलॉजिस्ट (Dermatologist) के पास भी जाते हैं लेकिन इनका इलाज इतना महंगा होता है कि हर कोई ऐसा नहीं कर पाता. ऐसे में अगर हम कुछ बातों को ध्‍यान में रखें तो अपने चेहरे पर पिंगमेंटेशन को आने से रोक सकते हैं. आइए जानते हैं कि किन बातों को ध्‍यान में रखने से चेहरे पर पिगमेंटेशन और डार्क स्‍पॉट के निशान नहीं आएंगे.

1. जरूरत से ज्यादा एक्सफोलिएट करना

चेहरे की डेड स्किन को निकालने के लिए एक्सफोलिएशन जरूरी है, लेकिन अगर आप ज़रूरत से ज्यादा एक्सफोलिएट कर रहे हैं तो यह आपको नुकसान भी पहुंचा सकता है. सेंसेटिव स्किन के एक्‍सफोलिएशन में खास ध्‍यान रखने की जरूरत पड़ती है. एक्सपर्ट्स की मानें तो ड्राई स्किन के लिये हफ्ते में दो बार और ऑयली स्किन के लिए हफ्ते में 1 बार एक्सफोलिएशन काफी है.

2. अपने एक्ने को फोड़ने की आदत
अपने एक्ने को फोड़ना, पस निकालना आदि हाइपरपिगमेंटेशन की वजह हो सकती है. इसकी वजह से चेहरे, गालों, फोरहेड पर डार्क स्पॉट्स हो जाते हैं.

इसे भी पढ़ें : Kiwi Face Pack: चेहरे पर जरूर लगाएं कीवी के ये 4 फेस पैक, स्किन रहेगी जवां







3. सनस्क्रीन का इस्तेमाल न करना

सनस्‍क्रीन आपकी स्किन को यूवी रेज से बचा कर रखती है. यही नहीं, यह घर के अंदर की लाइट से भी आपको बचा सकती है. ऐसे में आप जिस तरह मॉश्‍चराइजर का प्रयोग करते हैं वैसे ही सनस्‍क्रीन के इस्‍तेमाल की आदत भी डालें.

4. नाइट टाइम स्किन केयर को फॉलो न करना

नाइट स्किन केयर रूटीन हमारी स्किन पर ज्यादा असरदार तरीके से काम करता है और ये स्किन को बहुत ही ज्यादा पैम्‍पर भी करता है. अगर आप उन प्रोडक्‍ट्स का लगातार प्रयोग कर रहे हैं जो स्किन के लिए हानिकारक हैं (जैसे एसिडिक टोनर) तो इनका प्रयोग बिलकुल बंद करें. इससे समस्या बढ़ सकती है.

इसे भी पढ़ेंः इन 2 ओवरनाइट हेयर मास्क से बढ़ेगी बालों की खूबसूरती, सुबह दिखेगा ऐसा असर

5. नींबू का ज्‍यादा इस्तेमाल

यह समझना जरूरी है कि नींबू में सिट्रिक एसिड होता है जो स्किन का PH बैलेंस बिगाड़ भी सकता है. अगर आप स्किन केयर रुटीन में नींबू के रस का इस्तेमाल कर रहे हैं तो आप उस समय धूप से दूर रहें. ऐसा करने पर आपके चेहरे पर एसिडिक रिएक्शन हो सकता है.

6. फ्लोरोसेंट लाइट से बचें

अगर आप घर पर बहुत ज्‍यादा फ्लोरोसेंट लाइट के संपर्क में रहते हैं तो यह आपकी स्किन के लिए खतरनाक साबित हो सकता है. लैपटॉप, टैबलेट, फोन, टीवी स्क्रीन, घर के अंदर लगो फ्लोरोसेंट बल्ब ये सभी स्किन के हाइपरपिगमेंटेशन को उभार देते हैं.

7. बहुत ज्यादा रेटिनॉइक या हाइड्रोक्यूनोन एसिड वाले प्रोडक्ट्स का प्रयोग

ज्यादा रेटिनॉइक या हाइड्रोक्यूनोन एसिड वाले प्रोडक्ट्स स्किन कॉन्सनट्रेशन को डिस्‍टर्ब करता है और इससे स्किन पर हाइपरपिगमेंटेशन बढ़ सकता है. इसके प्रयोग से पहले डॉक्‍टर की सलाह जरूर लें. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज