मकर संक्रांति पर जब उड़ाएं पतंग, बच्चों को लेकर बरतें ये सावधानियां

मकर संक्रांति का पर्व तिल-गुड़ और पतंगबाजी के बिना अधूरा समझा जाता है.

मकर संक्रांति का पर्व तिल-गुड़ और पतंगबाजी के बिना अधूरा समझा जाता है.

मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाने की परंपरा रही है. इसे तिल-गुड़ और पतंगबाजी के बिना अधूरा समझा जाता है. यही वजह है कि इस मौके पर आसमान रंग-बिरंगी पतंगों से सजा नजर आता है. मगर कई बार थोड़ी सी चूक हादसे का कारण बन सकती है. ऐसे में कुछ एहतियात जरूर बरतें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 8, 2021, 1:31 PM IST
  • Share this:
मकर संक्रांति का पर्व करीब है. इस मौके पर लोग जहां तिल के व्यंजनों का मजा लेते हैं, वहीं इस अवसर पर पतंग उड़ाने की परंपरा भी रही है. इसे तिल-गुड़ और पतंगबाजी के बिना अधूरा समझा जाता है. यही वजह है कि इस मौके पर आसमान रंग-बिरंगी पतंगों से सजा नजर आता है. बच्‍चे हों या बड़े सब अपनी अपनी छतों पर चढ़ कर पतंगें उड़ाते नजर आते हैं. मगर कई बार थोड़ी सी चूक हुई नहीं कि हादसा हो जाता है. खासतौर पर बच्‍चे इसका शिकार बनते हैं. ऐसे में जरूरी है कि इस मौके पर जब बच्‍चे पतंग उड़ा रहे हों तो उनका खास ख्‍याल रखा जाए. आज हम आपको इस संबंध में बरती जाने वाली एहतियात के बारे में बता रहे हैं. अगर पतंग उड़ाते समय ये सावधानियां बरती जाएं, तो कई परेशानियों से बचा जा सकता है.

ऊंचाई पर न उड़ाएं पतंग

मकर संक्रांति (Makar Sankranti) पर पतंग (Kite) उड़ाते समय अक्‍सर बच्‍चों की निगाह सिर्फ पतंग पर ही होती है. ऐसे में उनके छत से या ऊंचाई से गिर कर घायल होने का खतरा ज्‍यादा रहता है. इसीलिए बच्‍चों को ऐसी जगहों पर ही पतंग उड़ाने को कहें जहां उनके लिए कोई खतरा न हो. ऐसी जगह न हो जहां गड्ढे हों या वे किसी बिना मुंडेर वाली छत पर से भी पतंग न उड़ाएं. इस तरह खुशी का यह मौका अच्‍छी तरह बीतेगा.

ये भी पढ़ें - चाहती हैं हैप्‍पी फैमिली तो वर्किंग वीमेन ऐसे करें बच्‍चे की परवरिश
न खरीदें चायनीज मांझा

ऐसे कई हादसे हुए हैं जिनमें चायनीज डोर से गला कटने की बात सामने आई है. इसीलिए आप बच्‍चों के अलावा खुद भी चायनीज मांझे से दूरी बनाए रखें. अक्‍सर मांझा खरीदते समय लोग इस बात को नजर अंदाज करते हैं और चायनीज मांझा खरीद लेते हैं. इस पर कांच का बुरादा आदि चढ़ा होता है. ऐसे में पतंग उड़ाने वाला या कोई अन्‍य इससे घायल हो सकता है. वहीं आस-पास उड़ने वाले पक्षी भी इससे घायल हो सकते हैं. इसलिए सामान्य मांझा ही खरीदें. इससे बच्‍चे भी सुरक्षित रहेंग और अन्‍य लोग भी.

ये भी पढ़ें - ये 5 बातें जो 2021 में आपको बनाएंगी बैस्‍ट पैरेंट्स, आप भी जानिए



सड़क और खंभे से रखें दूरी

पतंग उड़ाने के लिए ऐसी जगह का चुनाव करें जहां लोगों की आवाजाही न हो और जहां बिजली के खंभे आदि भी दूरी पर हों. वरना पतंग उड़ाते समय बार-बार डोर इन खंभों से उल्‍झेगी और सड़क आदि पर जाएगी और ऐसे में दूसरे लोगों के साथ आपका बच्‍चा भी दुर्घटना का शिकार हो सकता है. इसलिए बिजली के खंभे, तारों आदि के पास पतंग न उड़ाएं. कई बार पतंग किसी खंभे, तार आदि में फंस जाती है. इससे बच्‍चे इसे निकालने दौड़ पड़ते हैं, जो जानलेवा हो सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज