जानिए क्यों मनाया जाता है 'डेंगू निरोधक दिवस'

डेंगू बुख़ार उस मच्छर के काटने से होता है जिसने पहले से ही किसी डेंगू के मरीज़ को काटा है

News18Hindi
Updated: August 10, 2019, 8:09 AM IST
जानिए क्यों मनाया जाता है 'डेंगू निरोधक दिवस'
डेंगू बुख़ार उस मच्छर के काटने से होता है जिसने पहले से ही किसी डेंगू के मरीज़ को काटा है
News18Hindi
Updated: August 10, 2019, 8:09 AM IST
बारिश का मौसम ही बीमारियों का मौसम होता है. इसी मौसम में सबसे ज्यादा मच्छर और कीड़े पनपते हैं. परिणाम यह होता है कि लोगों को डेंगू जैसी खतरनाक बीमारी हो जाती है. यही कारण है कि प्रतिवर्ष '10 अगस्त' को 'डेंगू निरोधक दिवस' मनाया जाता है.

डेंगू वायरस द्वारा होता है, इसे "डेन वायरस" भी कहते हैं. इस रोग का वाहक एडीज मच्छर की दो प्रजातियां हैं- एडीज एजिपटाई (Aedes aegypti) और एडीज एल्बोपेक्टस.

डेंगू बुख़ार उस मच्छर के काटने से होता है जिसने पहले से ही किसी डेंगू के मरीज़ को काटा है. यह मच्छर बरसात के मौसम में ज़्यादा फैलते हैं और यह उन जगहों पर तेज़ी से फैलते हैं जहाँ पानी जमा हो.

डेंगू बुखार के लक्षण

- तेज बुखार के साथ नाक बहना, खांसी, आखों के पीछे दर्द, जोड़ों के दर्द और त्वचा पर हल्के रैश होते हैं.
- पेट खराब हो सकता है
- जी मितला सकता है. उल्टी भी आ सकती है
Loading...

- डेंगू बुख़ार को "हड्डीतोड़ बुख़ार" के नाम से भी जाना जाता है, पीड़ित लोगों को इतना अधिक दर्द हो सकता है
- प्लेटलेट्स का स्तर कम होता है। दूसरा डेंगू शॉक सिंड्रोम है
- ब्लड प्रेसर कम हो सकता है

बचाव

- घरों या आसपास पानी इकट्ठा नहीं होने दें. इसका मच्छर साफ ठहरे पानी में होता है.
बीमारियों में ये सेवन राहत देने वाले हो सकते हैं

हर्बल टी- अदरक और इलायची डालकर हर्बल टी राहत देगी

नारियल पानी - खूब नारियल पानी पिएं, ये प्लेटलेट्स भी बढाएगा और ताकत भी देगा. नारियल पानी में मौजूद इलेक्ट्रोलाइट्स और मिनरल्स जैसे कई पोषक तत्व होते हैं जिससे शरीर मजबूत होता है.

नींबू रस-शरीर में मौजूद वायरस और विषैले तत्वों को बाहर निकालने के लिए नींबू का रस पीना चाहिए. शरीर के भारीपन को कम करने और वायरस बाहर निकालने में नींबू खासा असरदार है

अदरक का पानी-शरीर को मजबूत करने के लिए अदरक का हल्का गर्म पानी फायदेमंद होता है.

दलिया-शरीर को एनर्जी देने के लिए मरीज को दलिया खिलाना चाहिए. ये आसानी से पच जाता है.

सब्जियां-सब्जियों को हल्का पकाकर या फिर उबालकर खाना चाहिए. मरीज को विटामिन, मिनिरल्स और एंटी ऑक्सिडेंट्स से भरपूर सब्जियां खानी चाहिए. जैसे टमाटर, कद्दू, गाजर, खीरा, चुकंदर इत्यादि. इससे ब्लड प्लेटलेट्स भी बढ़ती हैं और रोगी जल्दी ठीक होता है.

फल- विटामिन युक्त फल देने चाहिए. इससे शरीर की प्रतिरोधी क्षमता बढ़ेगी.
गिलोय और पपीते का रस-प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ाने के लिए ताजे पपीते की दो पत्तियों को पीसकर जूस बनाकर पीएं. सुबह या रात में दो चम्मच पत्तों का रस भी पी सकते हैं.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 9, 2019, 7:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...