Global Handwashing Day 2020: क्यों मनाया जाता है ग्लोबल हैंडवॉशिंग डे, क्या है इस बार की थीम

इस साल के ग्लोबल हैंडवाशिंग डे की थीम 'सभी के लिए स्वच्छ हाथ' निर्धारित किया गया है.
इस साल के ग्लोबल हैंडवाशिंग डे की थीम 'सभी के लिए स्वच्छ हाथ' निर्धारित किया गया है.

कोरोना (Corona) संक्रमण से बचाव के लिए सबसे प्रभावी तरीका ठीक तरह से हाथों को धोना (Handwash) है जिससे संक्रमण का खतरा काफी हद तक काम हो जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2020, 9:02 AM IST
  • Share this:
Global Handwashing Day 2020: प्रत्‍येक वर्ष 15 अक्टूबर के मौके पर वैश्विक स्‍तर पर हाथों की स्‍वच्‍छता को लेकर ग्‍लोबल हैंडवॉशिंग डे (Global Handwashing Day) मनाया जाता है. इसके पीछे की मान्‍यता है कि हाथों की गंदगी से होने वाली बीमारी जैसे डायरिया, आंख और त्वचा संबंधी बीमारियों से बचाव करना. अब तो कोरोना संक्रमण काल ने हाथ धोते रहने की प्रवृत्ति को और भी आगे बढ़ाने का काम किया है. डॉक्टरों की मानें तो हमारे हाथों में न जाने कितनी अनदेखी गंदगी छिपी होती है, जो किसी भी वस्तु को छूने, उसका इस्तेमाल करने और कई तरह के रोजमर्रा के कामों के कारण होती है. यह गंदगी बगैर हाथ धोए कुछ भी खाने-पीने से शरीर में पहुंच जाती है और कई तरह की बीमारियों को जन्म देती है. हाथ धोने के प्रति लोगों में जागरूकता बढ़ाने के लिए वैश्विक स्तर पर हर साल 15 अक्टूबर को हैंड वॉशिंग डे मनाया जाता है. इस दिन की स्थापना वर्ष 2008 में ग्लोबल हैंड वॉशिंग पार्टनरशिप द्वारा की गई जिसका प्रयास साबुन से हाथ धोने के महत्व पर जागरूकता बढ़ाना है.

ये भी पढ़ें - कोरोना रोकने में मददगार है फेस मास्‍क, 25 फीसदी कम हुए मामले

इस साल के ग्लोबल हैंडवाशिंग डे की थीम 'सभी के लिए स्वच्छ हाथ' निर्धारित किया गया है. इस साल सभी लोगों ने हाथों की स्वच्छता के महत्व को बखूबी समझा है. कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सबसे प्रभावी तरीका ठीक तरह से हाथों को धोना है जिससे संक्रमण का खतरा काफी हद तक काम हो जाता है. डब्ल्यूएचओ के वैश्विक सुझावों में कोविड-19 महामारी को रोकने और नियंत्रित करने और इसे व्यवहार में लाने के लिए हाथों की स्वच्छता का लक्ष्य रखा गया है. इसके लिए हाल ही में डब्ल्यूएचओ और यूनिसेफ की अगुवाई में हैंड हाइजीन फॉर ऑल ग्लोबल इनिशिएटिव लॉन्च किया गया है.



ये भी पढ़ें - कोरोना वायरस से पड़ रहा पुरुषों के सेक्स हॉर्मोन्स पर असर, जानिए
ग्लोबल हैंड वॉशिंग डे की स्थापना 2008 में स्वीडन में की गई थी. ग्लोबल हैंडवॉशिंग पार्टनरशिप ने स्वीडन में आयोजित वर्ल्ड‍ वॉटर वीक में इस दिन की शुरुआत की थी, जिसका मकसद साबुन से हाथ धोने के प्रति लोगों में जागरूकता फैलाना था. पार्टनरशिप समिति के सदस्‍यों में कोलगेट, पामोलिव, FHI 360, प्रॉक्‍टर एंड गैंबल, यूनिसेफ, यूनिलिवर और वर्ल्ड बैंक शामिल थे. इस दिन को सेलिब्रेट करने के लिए हर साल कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है, जिसका खास मकसद लोगों को हाथ धोने की अहमियत बताना है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज