14 सितंबर को ही क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस?

संविधान सभा ने 14 सितंबर 1949 को हिंदी को देश की राजभाषा बनाया था. हिंदी के ऐतिहासिक महत्व को ध्यान में रखते हुए देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने का फैसला किया.

News18Hindi
Updated: September 14, 2019, 6:38 AM IST
14 सितंबर को ही क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस?
संविधान सभा ने 14 सितंबर 1949 को हिंदी को देश की राजभाषा बनाया था. हिंदी के ऐतिहासिक महत्व को ध्यान में रखते हुए देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने का फैसला किया.
News18Hindi
Updated: September 14, 2019, 6:38 AM IST
14 सितंबर ही वह दिन है जब पूरे देश में हिंदी दिवस मनाया जाता है. हिंदी दिवस, हिंदी भाषियों के लिए किसी उत्सव से कम नहीं होता है. वहीं विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी को मनाया जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारत में हिंदी दिवस 14 सितंबर को ही क्यों मनाया जाता है...?

दरअसल, संविधान सभा ने 14 सितंबर 1949 को हिंदी को देश की राजभाषा माना था. हिंदी के ऐतिहासिक महत्व को ध्यान में रखते हुए देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने का फैसला किया था. तभी से देश में हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा.

14 सितंबर 1953 को पहली बार हिंदी दिवस मनाया गया था. इस दिन कई जगहों पर हिंदी भाषा की प्रगति के लिए और बच्चों में भाषा के प्रति रुचि विकसित करने के लिए तरह-तरह की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है. हिंदी भाषा के कई कवियों ने भी कविताएं लिखकर हिंदी के प्रति अपने प्रेम को प्रदर्शित किया है. हिंदी दिवस देश में ही नहीं पूरी दुनिया में मनाया जाता है. 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 14, 2019, 6:38 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...