लाइव टीवी

Children's Day: बाल दिवस हर साल 14 नवंबर को ही क्यों मनाया जाता है? जानें

News18Hindi
Updated: November 14, 2019, 6:18 AM IST
Children's Day: बाल दिवस हर साल 14 नवंबर को ही क्यों मनाया जाता है? जानें
बाल दिवस क्यों मनाते हैं और क्या है इसका महत्व

बाल दिवस (Children's Day, Chacha Nehru Birthday, Jawahar lal nehru birthday): आइए जानते हैं कि किस तरह चाचा नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाने का प्रचलन शुरू हुआ..

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2019, 6:18 AM IST
  • Share this:
बाल दिवस (Children's Day, Chacha Nehru Birthday, Jawahar lal nehru birthday): आज 14 नवंबर को बाल दिवस (Children's Day) मनाया जाता है. इस दिन भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू का जन्म हुआ था, उन्हें बच्चे बहुत प्रिय थे. बच्चे भी उन्हें प्यार से चाचा नेहरू कहकर बुलाते थे. नेहरू के जन्मदिन के रूप में बाल दिवस मनाया जाता है. इस दिन बच्चों के अधिकारों और शिक्षा के बारे में लोगों को जागरुक करने के लिए कई अभियान चलाए जाते हैं. आइए जानते हैं कि किस तरह चाचा नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाने का प्रचलन शुरू हुआ..

इस तरह हुई बाल दिवस (Children's Day) की शुरुआत:
विश्व में पहली बार बाल दिवस की शुरुआत जून 1856 में इंग्लैंड के चेल्सी में हुई. वहां एक चर्च में बच्चों के लिए एक स्पेशल दिन रखा गया था जिसे रोज़ डे भी कहा गया. इस दिन सभी प्रवचन, हिदायतें और कहानियां बच्चों से जुडी हुआ करती थीं. यह प्रथा उन्नीसवीं शताब्दी के अंत और बीसवीं शताब्दी के प्रारंभ तक काफी मशहूर हुई.

इसे भी पढ़ें: लता मंगेशकर को हुआ निमोनिया, जानिए इसके लक्षण और बचाव

इसके बाद ज़्यादातर देशों ने अपनी सुविधा अनुसार बाल दिवस मानना शुरू किया और चुने गए दिनों में बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना शुरू किया. 1950 में विमेंस इंटरनेशनल फेडरेशन ने 1 जून को विश्व में बाल दिवस मनाना तय किया. इसका कारण यह था कि 1 जून विश्व में प्रोटेक्शन ऑफ़ चिल्ड्रन डे पहले से मनाया जा रहा था.

1954 में संयुक्त राष्ट्र ने बच्चों के अधिकारों की ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए 20 नवम्बर को बाल दिवस घोषित किया. भारत ने और ज़्यादातर देशों ने संयुक्त राष्ट्र से सहमति जताते हुए 20 नवम्बर को बाल दिवस घोषित किया. 1954 से लेकर 1964 तक 20 नवम्बर ही भारत में बाल दिवस के रूप में मनाया गया.

1964 में पं. जवाहरलाल नेहरू के देहांत हुआ. तभी भारत ने बाल दिवस की तारीख बदल ली और नेहरू का जन्म दिवस बाल दिवस बन गया. बच्चों के प्रति नेहरू के प्रेम को देखते हुए उनकी जन्मतिथि को बाल दिवस के रूप में अपनाया गया.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ट्रेंड्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 14, 2019, 6:18 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर