लाइव टीवी

Daughter's Day 2019: क्यों मनाया जाता है डॉटर्स डे, क्या बेटियों को लेकर बदल रही है मानसिकता

News18Hindi
Updated: September 21, 2019, 4:53 PM IST
Daughter's Day 2019: क्यों मनाया जाता है डॉटर्स डे, क्या बेटियों को लेकर बदल रही है मानसिकता
बेटी ही है जो बिना बोले मां-बाप की हर तकलीफ समझ जाती है. कभी वो मां की दुलारी बन जाती है तो कभी पापा की परी.

बेटी ही है जो बिना बोले मां-बाप की हर तकलीफ समझ जाती है. कभी वो मां की दुलारी बन जाती है तो कभी पापा की परी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2019, 4:53 PM IST
  • Share this:
22 सितंबर को डॉटर्स डे है. दुनियाभर की बेटियों के लिए एक बहुत ही खास दिन. बेटे भले ही वंश को आगे बढ़ाते हो लेकिन घर की रौनक बेटियों की मुस्कुराहट से ही आती है. बेटी ही है जो बिना बोले मां-बाप की हर तकलीफ समझ जाती है. कभी वो मां की दुलारी बन जाती है तो कभी पापा की परी. कभी वह अपने पैरेंट्स की दोस्त बन उनकी खुशियों में शामिल होती है तो वहीं कई बार सलाहकार बनकर उनकी परेशानियों का समाधान करती है.

इसे भी पढ़ेंः आप भी हैं सिंगल पैरेंट तो आड़े आ सकती है ये चुनौतियां

बेटी के लिए पापा सुपरहीरो होते हैं

एक बेटी जितना अपनी मां के करीब होती है उतना ही पिता की लाडली होती है. किसी भी बेटी के लिए उसके पापा ताउम्र सुपरहीरो होते हैं जो उसे किसी भी परेशानी से बचा सकते हैं. घर में एक बेटी होने से पिता और ज्यादा केयरिंग और इमोश्नल हो जाते हैं. देखा जाए तो बेटियां रिश्तों में नई जान भर देती है. इन्हीं बेटियों के लिए इस डॉटर्स डे की शुरुआत की गई है. आइए आपको बताते हैं कि क्या है इसके पीछे का कारण.

कैसे हुई 'डॉटर्स डे' मनाने की शुरुआत?

दरअसल डॉटर्स डे दुनिया भर में अलग-अलग दिन और अलग समय पर मनाया जाता है. भारत में यह हर साल सितंबर के आखिरी रविवार को मनाया जाता है. बेटियां भले ही आज कितनी भी तरक्की क्यों न कर रही हों लेकिन समाज के कई हिस्सों में बेटियों को बेटों से कमतर आंका जाता है. इसे देखते हुए कुछ देश की सरकार ने मिलकर समानता को बढ़ावा देने के लिए यह कदम उठाया ताकि लोग जागरूक हो और इस बात को समझे कि हर इंसान बराबर है.

इसे भी पढ़ेंः 50 फीसदी से कम भारतीय माएं अपनी वर्तमान जिंदगी से खुश: स्टडी
Loading...

बेटी होने पर होता है सेलिब्रेशन

भारत में डॉटर्स डे को मनाने के लिए रविवार का दिन इसलिए चुना गया क्योंकि संडे के दिन ज्यादातर लोगों की काम से छुट्टी होती है. इसके अलावा इस दिन माता पिता अपनी बेटियों के साथ अच्छे से टाइम स्पेंड कर पाते हैं और इस दिन को खास बना पाते हैं. वक्त के साथ धीरे-धीरे लोगों की मानसिकता में बदलाव आ रहा है. लोगों के बीच धीरे-धीरे डॉटर्स डे मनाने का ट्रेंड भी बढ़ रहा है. आज लोग बेटी के होने पर सेलिब्रेट करने लगे हैं. तो आप क्या सोच रहे हैं आप भी अब आज का दिन अपनी प्यारी लाडली बेटी के साथ सेलिब्रेट करें और उन्हें इस बात का एहसास कराएं कि आपके लिए वह कितनी महत्वपूर्ण है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लाइफ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 21, 2019, 4:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...