क्यों शादीशुदा लोग अपने पार्टनर को देते हैं धोखा, जानें कारण

शादीशुदा जीवन में भावनात्मक और सेक्सुअल असंतोष होना बहुत ही आम बात है.
शादीशुदा जीवन में भावनात्मक और सेक्सुअल असंतोष होना बहुत ही आम बात है.

उच्च शिक्षा स्तर और अच्छी लाइफस्टाइल (Good Lifestyle) के बाद भी शादीशुदा जीवन में धोखे (Cheating) का चलन बढ़ा है. ऐसा करने वाले लोग खुद भी इसे गलत ही मानते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2020, 9:01 AM IST
  • Share this:
शादीशुदा जीवन (Married Life) में कई उतार चढ़ाव आते हैं और इसमें धोखा (Cheat) देने की प्रवृत्ति ऐसी चीज है जिसे पति या पत्नी दोनों ही पसंद नहीं करते. इसके पीछे कई तरह के कारण होते हैं. 40 फीसदी मामलों में बेवफाई सामने आने की बातें नजर आती है. उच्च शिक्षा स्तर और अच्छी लाइफस्टाइल के बाद भी शादीशुदा जीवन में धोखे का चलन बढ़ा है. ऐसा करने वाले लोग खुद भी इसे गलत ही मानते हैं. शादी के बाद भी पार्टनर से धोखा क्यों मिलता है, आइए इसके बारे में आपको कुछ जरूरी बातें बताते हैं.

असंतोष की भावना
शादीशुदा जीवन में भावनात्मक और सेक्सुअल असंतोष होना बहुत ही आम बात है. इसके चलते शादीशुदा जोड़े बिल्कुल अलग से रहते हैं. असंतोष की भावना एक-दूसरे को दूर करने का प्रयास निरंतर करती है और इससे पार्टनर के दिमाग में चीटिंग की बातें चलती हैं.

इसे भी पढ़ेंः कोरोना काल में करने जा रहे हैं शादी, तो इन बातों का जरूर रखें ध्यान
बातचीत का अभाव


एक कपल में बेहतरीन बातचीत होना बहुत जरूरी होता है. सही बातचीत नहीं होने से फीलिंग्स का पता भी नहीं चलता या फीलिंग्स चली भी जाती है. एक-दूसरे को समय देते हुए कम्यूनिकेशन अच्छा होना बहुत जरूरी और अहम चीज है.

जलन
किसी से जलन की भावना ज्यादा नहीं होनी चाहिए. इससे शादीशुदा कपल्स में फूट पड़ती है. पार्टनर से धोखा मिलने की खास वजह जलन को माना जा सकता है. यह कपल्स को विकृति की तरफ ले जाता है और ज्यादा ऑफेंस भी उत्पन्न करता है.

अकेलापन
अकेलापन महसूस करते हुए कोई पार्टनर खुद को अलग कर सकता है. इसके बाद जब वह चीट करते हैं, तो उनका यह अकेलापन समाप्त हो जाता है. इसलिए अपने पार्टनर को ज्यादा अकेला फील कराना सही बात नहीं मानी जा सकती है. ज्यादा से ज्यादा समय एक साथ बिताना बहुत जरूरी है.

टेकन फॉर ग्रांटेड
पार्टनर अक्सर धोखा तब देते हैं जब उन्हें लगता है कि उनकी फीलिंग्स की कोई कद्र नहीं हो रही है. वह ठगा हुआ महसूस करते हैं. दोनों तरफ से सहयोग और प्यार की भावना नहीं होने पर चीट की भावना जागृत होती है. उन्हें लगता है कि जिस प्यार के वे हकदार हैं, वह नहीं मिल रहा है.

इसे भी पढ़ेंः कोरोना काल में पार्टनर से हो रही है लड़ाई, इन खास तरीकों को अपनाकर मजबूत बनाएं रिश्ता

उत्साह की कमी
शादी के कुछ सालों बाद या कुछ महीनों बाद भी जुनून और उत्साह की कमी से भी चीट के विचार आते हैं. शादी से पहले वाला उत्साह और बाद के उत्साह में फर्क दिखाई देने पर पार्टनर को निराशा होती है और वहीं से चीटिंग की संभावना ज्यादा होती है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज