• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • WITH THE HELP OF THESE MAGIC TIPS WOMEN WILL LOOK YOUNGER THIS IS THE WAY TO APPLY ON THE FACE PUR

इन जादुई टिप्स की मदद से महिलाएं दिखेंगी जवां, चेहरे पर ये है अप्लाई करने का तरीका

गुलाब जल आपकी आंखों के नीचे की सूजन को कम करने में मदद करता है. Image-shutterstock.com

टाइट और ग्लोइंग स्किन (Glowing Skin) के लिए थोड़े से गुलाब जल (Rose Water) के इस्तेमाल से बेहतर कुछ नहीं हो सकता है. गुलाब जल आपके चेहरे के लिए डीप क्लींजर के रूप में काम करता है.

  • Share this:
    आज के समय में हर महिला खुद को यंग दिखाने के लिए क्या-क्या नहीं करती. महिलाएं टाइट और बेदाग स्किन (Spotless Skin) पाना के लिए हर जरूरी कोशिश में लगी रहती हैं. चाहती है. हालांकि अनहेल्दी लाइफस्टाइल, प्रदूषित हवा और सूरज की हानिकारक यूवी किरणें त्वचा को हर रोज खराब करते रहते हैं. यह न केवल चेहरे से नैचुरल ग्‍लो (Natural Glow) को कम कर देते हैं, बल्कि इससे चेहरे पर झुर्रियां (Wrinkles) भी दिखाई देने लगती हैं. महंगे ब्यूटी प्रोडक्‍ट्स में से अधिकांश हानिकारक कैमिकल्‍स से भरपूर होते हैं जो लंबे समय में आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं. ऐसे में सवाल ये है कि बेदाग और जवां त्वचा पाने के लिए सबसे अच्‍छा उपाय क्या है? अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है क्‍योंकि हम आपके लिए कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे लेकर आए हैं जो बिना किसी कैमिकल्‍स के आपकी त्वचा को जवां बनाने में मदद कर सकते हैं. इन्‍हें नियमित रूप से इस्‍तेमाल करने से आप खुद अपनी उम्र का अंदाजा नहीं लगा पाएंगी.

    स्किन को टाइट करता है गुलाब जल
    टाइट और ग्लोइंग स्किन के लिए थोड़े से गुलाब जल के इस्तेमाल से बेहतर कुछ नहीं हो सकता है. गुलाब जल आपके चेहरे के लिए डीप क्लींजर के रूप में काम करता है. यह आपकी त्वचा के बंद पोर्स में मौजूद धूल और गंदगी को साफ करता है. इसके अलावा, गुलाब जल आपकी आंखों के नीचे की सूजन को कम करने में मदद करता है जिससे आपका चेहरा डल नहीं दिखाई देता है.

    इसे भी पढ़ेंः 3 आसान स्टेप्स में पाएं प्रियंका चोपड़ा के डेट नाइट जैसा हेयर स्टाइल

    ऐसे करें इस्तेमाल
    एक बाउल में 2 छोटे चम्‍मच गुलाब जल, ग्लिसरीन की कुछ बूंदें और 1/2 छोटा चम्‍मच नींबू का रस डालें. सभी चीजों को अच्छी तरह मिलाएं और कॉटन बॉल का इस्‍तेमाल करके इस पेस्‍ट को चेहरे और गर्दन पर लगाएं. हर रात सोने से पहले सिर्फ गुलाब जल का इस्तेमाल करने से अद्भुत असर हो सकता है.

    एंटी एजिंग की तरह काम करता है नींबू का रस
    नींबू विटामिन सी से भरपूर होता है जो एक मजबूत एंटीऑक्सीडेंट है. ये एंटीऑक्सीडेंट आपकी त्वचा के लिए बहुत अच्छे होते हैं. ये आपकी त्वचा पर एंटी-एजिंग प्रोडक्‍ट्स के रूप में काम करते हैं, जो उम्र बढ़ने के सभी लक्षणों जैसे दाग-धब्बे, फाइन्‍स लाइन्‍स और झाइयों को दूर करते हैं. इसके अलावा, नींबू त्वचा को ब्लीच करने में मदद करता है, आपके चेहरे के बालों को हल्का करता है जो आपकी त्वचा को प्राकृतिक रूप से चमकदार बनाता है.

    ऐसे करें इस्तेमाल
    नींबू का रस निचोड़ें और इसे अपने चेहरे और गर्दन पर लगाएं. इसे 15 मिनट तक अपने चेहरे पर रखें और फिर नॉर्मल पानी से धो लें.

    त्वचा को एक्सफोलिएट करता है खीरा और दही
    फ्रेश और जवां त्‍वचा पाने के लिए नियमित रूप से एक्‍सफोलिएट करने की जरूरत होती है. दही और खीरे का कॉम्बिनेशन आपकी त्वचा को एक्सफोलिएट करने और डेड स्किन सेल्‍स को हटाने के लिए अच्छी तरह से काम करता है. दही में लैक्टिक एसिड होता है जो त्वचा को साफ करता है और खीरा त्वचा को सूदिंग में मदद करता है.

    ऐसे करें इस्‍तेमाल
    आधा कप दही लें और इसे 2 चम्मच कद्दूकस किए हुए खीरे के साथ मिलाएं. अच्छी तरह से मिलाएं और 20 मिनट के लिए अपनी त्वचा पर लगाएं. गुनगुने पानी से चेहरे को धोएं.

    स्किन को लचीला बनाता है पपीता
    पपीता सबसे अच्छे फलों में से एक है जिसे आप हेल्‍दी और ग्‍लोइंग त्वचा के लिए उपयोग कर सकते हैं. इस फल में विटामिन ए भरपूर मात्रा में होता है जो एक एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है और आपकी त्वचा को जवां और हेल्‍दी रखता है. साथ ही, पपीते में एक ऐसा एंजाइम होता है जो आपकी त्वचा से डेड स्किन सेल्‍स को हटाने में मदद करता है, जिससे त्‍वचा सॉफ्ट और स्‍मूथ दिखाई देती है.

    इसे भी पढ़ेंः गर्मियों में होंठों का ऐसे रखें ख्याल, लिप्स को जरूर करें स्क्रब

    ऐसे करें इस्‍तेमाल
    पपीते के कुछ टुकड़े लेकर और कांटे का इस्‍तेमाल करके इसे मैश करें. अपने पूरे चेहरे और गर्दन पर लगाएं और 15 मिनट तक रखें. फिर गुनगुने पानी से धो लें.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
    Published by:Purnima Acharya
    First published: