• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • प्रेगनेंसी में चक्कर से हैं परेशान? जानें इससे बचाव का तरीका

प्रेगनेंसी में चक्कर से हैं परेशान? जानें इससे बचाव का तरीका

अगर इस समय चक्‍कर आए तो सबसे पहले खिड़की और दरवाजें खोल दें ताकि कमरे में ताजा हवा आती रहे.Image Credit : shutterstock

अगर इस समय चक्‍कर आए तो सबसे पहले खिड़की और दरवाजें खोल दें ताकि कमरे में ताजा हवा आती रहे.Image Credit : shutterstock

Dizziness In Pregnancy : प्रेगनेंसी (Pregnancy) के दौरान महिलाओं को कई ऐसी समस्‍याओं से जूझना पड़ता है जिस पर अपना कंट्रोल नहीं होता. इन्‍हीं परेशानियों में से एक है बार बार चक्‍कर आना (Dizziness) .

  • Share this:
    Dizziness In Pregnancy : किसी भी महिला के लिए प्रेगनेंसी (Pregnancy) उसके जीवन के खास पलों में से एक होता है. लेकिन यह भी सच है कि गर्भावस्‍था के नौ महीने हर महिला के लिए कई चुनौतियां भी लाता है. शरीर में हो रहे बदलाव केवल शारीरिक रूप से ही नहीं प्रभावित करता, इसका असर मानसिक भी होता है. इन्‍ही में से एक है चक्‍कर आना (Dizziness).  यह प्रेगनेंसी की एक आम समस्‍या है जो किसी भी प्रेगनेंट महिला के लिए बहुत ही परेशानी भरी हो सकती है. अगर इसमें थोड़ी भी लापरवाही की गई तो बड़ा एक्सिडेंट तक हो सकता है और पेट में पल रहे बच्‍चे को नुकसान पहुंचा सकता है.

    अर्ली प्रेगनेंसी में इसलिए आता है चक्‍कर

    हेल्‍थलाइन के मुताबिक, जब म‍हिला प्रेगनेंट होती है तो शरीर में ब्‍लड फ्लो को बढाने के लिए हार्मोनल लेवल में तेजी से बदलाव आने लगता है जिससे पेट में पल रहे बच्‍चे का विकास तेजी से हो सके. जिससे कई बार महिलाएं लो ब्‍लड प्रेशर महसूस करती है.इसके अलावा हाइपरमेसिस ग्रेविडेरिम और एक्‍टोपिक प्रेगनेंसी की वजह से भी गर्भवती महिला को चक्‍कर आ सकता है.



    इसे भी पढ़ें : जानें वेटलॉस करने के 5 साइंटिफिक तरीके, जल्‍द से जल्‍द घटेगा वजन
     



    सेकेंड और थर्ड ट्रेमेस्‍टर में चक्कर आना

    पहला तीन महीना गुजरने के बाद पेट में पल रहा शिशु साइज में बढ़ने लगता है और युट्रस और आसपास की नसों पर दबाव बढने लगता है. इसकी वजह से कई बार चक्‍कर की शिकायत होती है. इसके अलावा जेस्टेशनल डायबिटीज, एनीमिया और शरीर में पानी की कमी की वजह से भी प्रेगनेंसी में चक्कर आने लगते हैं.

    ऐसे करें मैनेज

    -अगर इस समय चक्‍कर आए तो सबसे पहले खिड़की और दरवाजें खोल दें ताकि कमरे में ताजा हवा आती रहे.

    -धीरे से बैठ जाएं और सिर को घुटनों के बीच में रख दें.

    -इस समय अचानक से ना उठें. हो सके तो बाईं करवट लेकर लेट जाएं. इससे मस्तिष्‍क में रक्‍त प्रवाह बेहतर होगा और आप बेहतर महसूस करेंगी.

    -एनर्जी को बढ़ाने के लिए आप हल्‍का स्‍नैक या फ्रूट खा सकती हैं.
    इसे भी पढ़ेंं : आपमें भी तो नहीं है ये 5 आदतें? बन सकती हैं किडनी खराब होनें की वजह, आज ही बदलें



    प्रेगनेंसी में इन बातों कर रखें ध्‍यान

    -ज्‍यादा देर तक खड़ी या बैठी न रहें. कुछ कुछ देर में सीट से उठकर पैदल चलें जिससे शरीर में ब्‍लड सर्कुलेशन ठीक रहेगा और चक्‍कर नही आएगा.

    -कभी भी झटके से ना उठें. ऐसा करने से सिर घूम सकता है.

    -कुछ कुछ देर में केला या कोई भी स्‍नैक्‍स खाती रहें. इससे ब्‍लड शुगर लेवल ठीक रहेगा.

    -गर्म पानी से न नहाएं. दिक्‍कत महसूस हो सकती है.

    -ढीले कपड़े ही पहने, ताकि शरीर में रक्‍त का प्रवाह ठीक रहे.

    -पर्याप्‍त मात्रा में पानी, जूस, नारियल पानी आदि पिएं. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज