Women's Health Day 2020: जान लें महिलाओं की हेल्थ से जुड़े इन सवालों के जवाब

Women's Health Day 2020: जान लें महिलाओं की हेल्थ से जुड़े इन सवालों के जवाब
महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़ी ऐसी कई बातों को जानना जरूरी है जिनकी मदद से वह हेल्दी रह सकती हैं.

आज International Women's Health Day है. इसे इंटरनेशनल डे फॉर द एक्शन ऑफ विमेंस हेल्थ (International Day For the Action Of Women's Health) भी कहते हैं. इस मौके पर महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़ी ऐसी कई बातों को जानना जरूरी है जिनकी मदद से वह हेल्दी रह सकती हैं.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
पुरुषों से ज्यादा महिलाओं (Women) को अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने की जरूरत होती है. आजकल की महिलाएं घर के साथ साथ बाहर की भी जिम्मेदारी संभालती हैं. ऐसे में उन्हें अपने हेल्थ (Health) के प्रति बहुत अधिक सचेत रहने की जरूरत होती है. आज International Women's Health Day है. इसे इंटरनेशनल डे फॉर द एक्शन ऑफ विमेंस हेल्थ (International Day For the Action Of Women's Health) भी कहते हैं. इस मौके पर महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़ी ऐसी कई बातों को जानना जरूरी है जिनकी मदद से वह हेल्दी रह सकती हैं और अपना परिवार संभाल सकती हैं. आइए जानते हैं महिलाओं के हेल्थ से जुड़े कुछ ऐसे ही सवालों के जवाब.

  • क्यों मनाया जाता है इंटरनेशनल विमेंस हेल्थ डे
    अंतरराष्ट्रीय महिला स्वास्थ्य दिवस का मकसद महिलाओं के स्वास्थ्य और कल्याण मसलन यौन एवं प्रजनन तथा अधिकारों से जुड़े मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है.
  • क्यों है इस दिवस को मनाने की जरूरत
    स्वच्छता व जागरुकता किसी भी बीमारी का प्रसार रोकने में बेहद कारगर साबित होता है. इस मामले में महिलाओं को समय-समय पर शिक्षित किया जाता है, जिसका सकारात्मक प्रभाव भी देखने को मिलता है. हालांकि अभी भी मेंस्ट्रुअल हाईजीन सहित यौन शिक्षा, स्वच्छता को लेकर जागरूकता बढ़ाने की जरूरत है. पुरुषों के मुकाबले महिलाएं अधिक सजग हैं. शायद यही वजह है कि वह संक्रमण की जद में कम आ रही हैं.
  • क्या हैं महिलाओं के स्वास्थ्य संबंधी अधिकार
    लैंगिकता के बारे में जानकारी, यौन शिक्षा, अपने साथी का चुनाव, यौन सक्रियता अथवा यौन असक्रियता का निर्णय, इस बात का निर्णय करना कि कब बच्चा पैदा करना है, आधुनिक गर्भनिरोधक तरीकों का उपयोग, प्रसूति देखभाल का उपयोग, सुरक्षित गर्भपात और गर्भपात के बाद देखभाल और यौन संचारित रोगों और संक्रमण की रोकथाम, देखभाल और उपचार के बारे में जानकारी जानना.
  • क्या बायोलॉजिकल फेक्टर रखता है मायने
    महिला या पुरुष के संक्रमित होने में बायोलॉजिकल फैक्टर्स (होस्ट एवं वायरस) का प्रभाव रहता है. दोनों के बीच इम्यूनोलॉजिकल व हॉर्मोनल डिफरेंस हैं. साथ ही होस्ट की शारीरिक दशा और वायरस फैक्टर यानी वायरस का कितना डोज (इनोकुलम) शरीर में प्रवेश कर गया, यह भी मायने रखता है. महिलाएं परिवार की अहम सदस्य होती हैं. बच्चों को साफ-सफाई के प्रति जागरूक करना एवं उनके खान-पान में पौष्टिकता का ध्यान रखना महिलाओं का ही काम होता है. शायद यही वजह है कि कई सारी बीमारियों से खुद को दूर रखने में कामयाब हो जाती हैं.
First published: May 28, 2020, 10:56 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading