World Arthritis Day 2020: विश्व अर्थराइटिस दिवस क्यों मनाया जाता है, क्या है ये बीमारी

जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से विश्व अर्थराइटिस दिवस मनाया जाता है.
जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से विश्व अर्थराइटिस दिवस मनाया जाता है.

World Arthritis Day 2020: हर साल 12 अक्टूबर को विश्व अर्थराइटिस दिवस (World Arthritis Day) मनाया जाता है. इसे मनाने का मकसद इस रोग के प्रति लोगों को जागरूक करना होता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2020, 2:51 PM IST
  • Share this:
World Arthritis Day 2020: हर साल 12 अक्टूबर (12 October) को दुनिया भर में विश्व अर्थराइटिस दिवस (World Arthritis Day) मनाया जाता है. इसका मकसद यह होता है कि लोग इस रोग के प्रति जागरूक हों और इससे बचाव कर सकें. इस दिन जागरूकता के लिए कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. विश्व गठिया दिवस चिकित्सा समुदाय, मरीजों और आम जनता के बीच इस बीमारी के प्रति जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से मनाया जाता है.

जागरूक करना है उद्देश्‍य
विश्व अर्थराइटिस दिवस पहली बार 12 अक्टूबर, 1996 को मनाया गया था. तब से यह हर साल मनाया जाने लगा. इस दिन की शुरुआत गठिया के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए की गई थी. आर्थराइटिस दुनिया भर में तेजी से बढ़ती बीमारियों में से एक है. जहां यह युवाओं को तेजी से अपनी चपेट में ले रही है, वहीं ज्‍यादा वजन वाले लोगों को इसका ज्‍यादा खतरा है. ऐसे में विश्व अर्थराइटिस दिवस हमें न सिर्फ इसके प्रति जागरूक करता है, बल्कि इस रोग से बचाव के लिए प्रेरित भी करता है.

ये भी पढ़ें - World Arthritis Day 2020: रूमेटाइड आर्थराइटिस के 7 शुरुआती संके
क्‍यों होती है यह बीमारी


आज की बदलती जीवनशैली, मोटापा और गलत खानपान की वजह से अर्थराइटिस रोग तेजी से बढ़ रहा है. ऑर्थराइटिस को गठिया की बीमारी के नाम से भी जाना जाता है. पहले यह ज्‍यादातर बड़ी उम्र के लोगों को होती थी, पर अब यह युवाओं को भी अपना शिकार बना रही है. यह बेहद तकलीफदेह बीमारी है. इसकी वजह से शरीर के जोड़ों में दर्द होता है और चलना फिरना तक मुश्किल हो जाता है. यह एक जॉइंट या शरीर के कई जोड़ों को प्रभावित कर सकती है.

ये भी पढ़ें - मर्दों के स्पर्म काउंट को कम कर सकती है शराब, जानें विज्ञान क्या कहता है

ऐसे कर सकते हैं बचाव
इस बीमारी से बचाव के लिए जरूरी है कि जीवनशैली में बदलाव लाया जाए. बाहर खाने से बचें और जंक फूड का कम से कम सेवन करें. साथ ही नियमित तौर पर व्‍यायाम करें और वजन को बढ़ने न दें. साथ ही पौष्टिक आहार लें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज