विश्व रक्तदाता दिवस 2021: कोरोना काल में जान की परवाह किए बिना ब्लड डोनर्स ने बचाई कई जानें

विश्व रक्तदाता दिवस 14 जून को मनाया जा रहा है (साभार: shutterstock/PaOlaLa)

विश्व रक्तदाता दिवस 2021: कोरोना वायरस (Covid 19) महामारी के दौरान, जब लॉकडाउन के चलते कहीं भी जाना वाकई मुश्किल था और अन्य कई चुनौतियां भी थीं, के बावजूद भारत सहित कई अन्य देशों में ब्लड डोनर्स (Blood Donar) ने रोगियों के ब्लड और प्लाज्मा डोनेट किया.

  • Share this:
    विश्व रक्तदाता दिवस 2021:  विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) हर साल 14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस (World Blood Donor Day 2021) मनाता है. विश्व रक्तदाता दिवस का उद्देश्य सेफ ब्लड और ब्लड प्रोडक्ट्स की आवश्यकता के बारे में वैश्विक जागरूकता बढ़ाना है. वैश्विक स्वास्थ्य समुदाय ( Global health community) इस दिन आम जनता को स्वैच्छिक कार्यकर्ता, अनपेड रक्त दाताओं द्वारा उनकी संबंधित स्वास्थ्य प्रणालियों में किए गए महत्वपूर्ण योगदान को लेकर एकसाथ आता है. रक्दान को महादान यूं ही नहीं कहा जाता. आपका खून किसी का भी जीवन बचा सकता है.

    कोरोना वायरस महामारी के बीच रक्तदान का महत्व एक बार फिर इस तरफ ध्यान खींचता है. महामारी के दौरान, जब लॉकडाउन के चलते कहीं भी जाना वाकई मुश्किल था और अन्य कई चुनौतियां भी थीं, के बावजूद भारत सहित कई अन्य देशों में ब्लड डोनर्स ने रोगियों के ब्लड और प्लाज्मा डोनेट किया.

    यह भी पढ़ें:  Yoga Session: ब्लड फ्लो होगा बेहतर, शरीर रहेगा फिट, करें ये योगासन

    हालांकि, पिछले महीने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने 'द लैंसेट' द्वारा रिकवरी क्लिनिकल परीक्षण के रिजल्ट प्रकाशित करने के बाद अपने क्लिनिकल मैनेजमेंटप्रोटोकॉल से कोविड -19 के लिए दीक्षांत (convalescent) प्लाज्मा के उपयोग को हटा दिया. मेडिकल जर्नल ने उल्लेख किया कि अधिक मात्रा में रोगी को एंटीबॉडी के साथ ब्लड और प्लाज्मा चढ़ाने से 28 दिनों के बाद रोगी के जीवित रहने की संभावना में सुधार करने में विफल साबित हुआ.

    हालांकि, ऐसे समय में जब स्वास्थ्य सेवा का बुनियादी ढांचा कोविड के मामलों से भरा हुआ है, थैलेसीमिया, एनीमिया और रक्त विकृतियों जैसी अन्य जानलेवा चिकित्सा स्थितियों के रोगियों को यह महत्वपूर्ण चिकित्सा सेवा प्राप्त करने की आवश्यकता है. प्रसव के दौरान रक्त की कमी महिलाओं को भी प्रभावित करती है क्योंकि डिलीवरी के बार खून बहने से कई बार मां की मौत ही जाती है.

    इसलिए, इस वर्ष डब्ल्यूएचओ ने दुनिया भर में ब्लड डोनर्स के योगदान के लिए एक स्लोगन निकाला है 'रक्त दो और दुनिया को हराते रहो. देश-दनिया में मेडिकल इमरजेंसी के समय में यह ब्लड डोनर्स की महत्वपूर्ण और संगठित तरीके से काम करने के बारे में है. महामारी के दौरान रक्तदान करने में कई ब्लड डोनर्स इन्फेक्शन को लेकर परेशान हो सकते हैं और ये लाज़मी भी है. लेकिन इस सिलसिले में WHO का कहना है कि रक्तदान एक नेक काम है और इससे कई जानें बचाई जा सकती हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.