होम /न्यूज /जीवन शैली /World Habitat Day 2022: आवास के अधिकार को बढ़ावा देने के लिए मनाते हैं वर्ल्ड हैबिटेट डे, जानें इतिहास और थीम

World Habitat Day 2022: आवास के अधिकार को बढ़ावा देने के लिए मनाते हैं वर्ल्ड हैबिटेट डे, जानें इतिहास और थीम

संयुक्त राष्ट्र द्वारा वर्ल्ड हैबिटेट डे मनाया जाता है.

संयुक्त राष्ट्र द्वारा वर्ल्ड हैबिटेट डे मनाया जाता है.

2022 World Habitat Day: पहली बार वर्ल्ड हैबिटेट डे यानी विश्व पर्यावास दिवस 1986 में मनाया गया था. इस साल वर्ल्ड हैबिटे ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पहली बार ये दिन 1986 में मनाया गया था. तब नैरोबी ने इस दिन की मेजबानी की थी.
1989 में "द हैबिटेट स्क्रॉल ऑफ ऑनर अवार्ड" देने की शुरुआत की गई थी.

2022 World Habitat Day Theme History Significance and Quotes in Hindi: आज वर्ल्ड हैबिटेट डे यानी विश्व पर्यावास दिवस है. आपको बता दें कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा अक्टूबर के पहले सोमवार को विश्व पर्यावास दिवस मनाया जाता है. इस साल यह दिन 3 अक्टूबर यानी आज मनाया जा रहा है. साल 1985 में इस दिवस को मनाने की घोषणा की गई थी. जिसके बाद से इसके लिए हर साल अलग-अलग थीम्स तय की जाती हैं. इस दिन को सेलिब्रेट करने का उद्देश्‍य इंसानों के मूल अधिकारों की पहचान करना और उन्हें पर्याप्‍त आश्रय देना है.

आवास के मूल अधिकार को बढ़ावा देने के लिए इस दिन का आयोजन किया जाता है. इस साल वर्ल्ड हैबिटेट डे की थीममाइंड द गैप. लीव नो वन एंड प्लेस बिहाइंड रखी गई है. इस बार शहरों और मानव बस्तियों में बढ़ती असमानताओं और चुनौतियों पर ध्यान केंद्रित किया गया है. दरअसल, ये वे समस्याएं हैं जो संयुक्त राष्ट्र द्वारा ट्रिपल सीएस (Triple Cs) यानी कोरोनावायरस (कोविड-19), क्लाइमेट यानी जलवायु और क्राइसिस यानी संकट के कारण बढ़ गई हैं. इन तीनों के कारण गरीबी को कम और खत्म करने के काम में बाधा आई है. दरअसल, संयुक्त राष्ट्र शहरी गरीबी और असमानता से निपटने को अर्जेंट ग्लोबल प्रायोरिटी यानी तत्काल वैश्विक प्राथमिकता मानता है. जैसे-जैसे शहरों का विकास हो रहा है और तेजी से आर्थिक केंद्र बनते जा रहे हैं, अपर्याप्त योजना और संसाधनों की कमी ने बड़ी समस्याओं को जन्म दे दिया है.

पहली बार कब मनाया गया था वर्ल्ड हैबिटेट डे?

पहली बार ये दिवस 1986 में मनाया गया था. तब नैरोबी ने मेजबानी की थी. उस साल ‘शेल्टर इज माई राइट’ यानी ‘आश्रय मेरा अधिकार है’ इस दिन की थीम थी. आपको बता दें कि 1989 में, यूएन ह्यूमन सेटलमेंट्स प्रोग्राम ने “द हैबिटेट स्क्रॉल ऑफ ऑनर अवार्ड” देने की शुरुआत की थी.

यह भी पढ़ें- मनी प्लांट है घर की शान, इसे हरा भरा रखने के लिए ये खास और आसान टिप्स आएंगे काम

इसे दुनिया का सबसे प्रतिष्ठित ह्यूमन सेटलमेंट अवार्ड माना जाता है. इसका उद्देश्य बेघर होने की कठिनाइयों को जगजाहिर कर मानव जीवन में सुधार लाना है.

वर्ल्ड हैबिटेट डे कोट्स

“आवास एक मानव अधिकार है. जिस समाज में कुछ लोग बेघर या उस जोखिम के साये में रहते हैं, उस समाज में कोई निष्पक्षता या न्याय नहीं हो सकता.” – जॉर्डन फ्लेहर्टी, फ्लडलाइन्स: कम्युनिटी एंड रेजिस्टेंस फ्रॉम कैटरीना टू द जेना सिक्स

world habitat day 2022 wishes

आवास एक मानव अधिकार है.-जॉर्डन फ्लेहर्टी

“निराश मत हो मेरे दोस्त. आज उनका है, लेकिन भविष्य हमारा है.”
– रोडमैन फिलब्रिक, द लास्ट बुक इन द यूनिवर्स

यह भी पढ़ें- धनिया-पुदीना को घर पर उगाना चाहते हैं तो अपनाएं ये आसान तरीका

आश्रय के मूल अधिकार को समझाने के लिए विश्व पर्यावास दिवस मनाया जाता है. इसके पीछे यह सोच है कि पृथ्वी पर हर व्यक्ति एक अच्छे घर का हकदार है.

Tags: Lifestyle, On This Day

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें