Home /News /lifestyle /

World Smile Day 2021: आज स्माइल डे पर मुस्कुराएं और पढ़ें ये शायरी

World Smile Day 2021: आज स्माइल डे पर मुस्कुराएं और पढ़ें ये शायरी

हंसी का एक अलग ही महत्व होता है. Image-shutterstock.com

हंसी का एक अलग ही महत्व होता है. Image-shutterstock.com

World Smile Day 2021: स्माइल यानी मुस्कुराहट के इसी महत्व को बताने के लिए साल 1999 के बाद से हर साल अक्टूबर (October) महीने के पहले शुक्रवार (Friday) को वर्ल्ड स्माइल डे मनाया जाता है.

    World Smile Day 2021 Shayari: मुस्कुराने से न सिर्फ दिन अच्छा जाता है बल्कि शरीर भी स्वस्थ (Healthy Body) रहता है. मुस्कुराना किसी की खुशी का कारण भी बन सकता है. स्माइल यानी मुस्कुराहट के इसी महत्व को बताने के लिए साल 1999 के बाद से हर साल अक्टूबर महीने के पहले शुक्रवार को वर्ल्ड स्माइल डे मनाया जाता है जो कि इस बार आज है. यह दिन इस बात को याद दिलाने के लिए है कि जीवन के हालात कैसे भी हों लेकिन हंसी का एक अलग ही महत्व होता है. हंसने से व्यक्ति शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रह सकता है. किसी भी परिवार में अगर हंसी-खुशी का माहौल है तो फिर सबकुछ सही होता है. आइए वर्ल्ड स्माइल डे के मौके पर इन शायरी के माध्यम से अपनों को भेजे संदेश.

    ये बे-ख़ुदी ये लबों की हँसी मुबारक हो
    तुम्हें ये सालगिरह की ख़ुशी मुबारक हो
    (अज्ञात)

    ज़िंदगी की हँसी उड़ाती हुई
    ख़्वाहिश-ए-मर्ग सर उठाती हुई
    (विकास शर्मा राज़)

    इसे भी पढ़ेंः Shakeel Badayuni Shayari: ‘मुझे दोस्त कहने वाले ज़रा दोस्ती निभा दे…’ पढ़ें शकील बदायुनी के बेहतरीन शेर

    हँसी है दिल-लगी है क़हक़हे हैं
    तुम्हारी अंजुमन का पूछना क्या
    (मुबारक अज़ीमाबादी)

    बहुत से ग़म छुपे होंगे हँसी में
    ज़रा इन हँसने वालों को टटोलो
    (वक़ार मानवी)

    हँसी में टाल दे फिर से हमारी हर ख़्वाहिश
    फिर एक बार थपक दे हमारा गाल ज़रा
    (ज़िया ज़मीर)

    लहजे का रस हँसी की धनक छोड़ कर गया
    वो जाते जाते दिल में कसक छोड़ कर गया
    अंजुम इरफ़ानी)

    मिरा रोना हँसी-ठट्ठा नहीं है
    ज़रा रोके रहो अपनी हँसी तुम
    (मुज़्तर ख़ैराबादी)

    क्या हँसी आती है मुझ को हज़रत-ए-इंसान पर
    फ़ेल-ए-बद ख़ुद ही करें लानत करें शैतान पर
    (इंशा अल्लाह ख़ान इंशा)

    इसे भी पढ़ेंः Ramdhari Singh Dinkar: ‘साम्राज्य भोगना लक्ष्य नहीं…’ पढ़ें रामधारी सिंह ‘दिनकर’ की रश्मिरथी का तृतीय सर्ग

    तभी वहीं मुझे उस की हँसी सुनाई पड़ी
    मैं उस की याद में पलकें भिगोने वाला था
    (फ़रहत एहसास)

    Tags: Book, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर