Home /News /lifestyle /

Yoga Session: मन की शुद्धि और पेट को साफ रखने के लिए कीजिए ताड़ासन

Yoga Session: मन की शुद्धि और पेट को साफ रखने के लिए कीजिए ताड़ासन

योग प्रशिक्षिका सविता यादव

योग प्रशिक्षिका सविता यादव

Yoga Session with Savita Yadav: मन और आत्मा की शुद्धि के लिए योगाभ्यास सबसे उत्तम साधन है. छोटे-छोटे सूक्ष्मयाम से पेट साफ रहता है और मन की भी शुद्धि होती है.

    Yoga Session with Savita Yadav: योगाभ्यास करते समय अपनी क्षमता का जरूर ध्यान रखना चाहिए. कोई भी अभ्यास अपनी क्षमता के अनुसार ही करें. आज योगा सेशन में कई तरह के अभ्यास दिखाए और सिखाए गए. लाइव सेशन में आज छोटे-छोटे सूक्ष्म अभ्यास, ताड़ासन और प्राणायाम सहित कई अन्य व्यायाम सिखाए गए. इन आसनों को करने से बॉडी शेप में रहती है और शरीर लचीला रहता है. प्राणायाम और सूक्ष्मयाम ऐसे अभ्यास हैं, जिन्हें रोजाना करना चाहिए. इन अभ्यासों में किसी तरह का एक्स्ट्रा एफर्ट नहीं लगाना पड़ता है. दोनों अभ्यास बहुत ही आसानी से हो जाते हैं. इन दोनों अभ्यास में सूक्ष्मयाम को पहले करना चाहिए. इसके बाद प्राणायाम करना चाहिए. प्राणायाम का मतलब है प्राणों को आयाम देना. इससे आपके फेफेड़ें की कार्यक्षमता बढ़ती है और आप अच्छे से सांस ले सकते हैं. इससे ब्लड सर्कुलेशन अच्छा होता है. प्राणायाम के एक नहीं अनेकों लाभ हैं. सभी उम्र के लोग प्राणायाम कर सकते हैं.


    इसे भी पढ़ेंः Yoga Session: फेस्टिव सीजन में हैवी डाइट के नकारात्मक असर को कम करेंगे सूक्ष्म योगाभ्यास

    पहला सूक्ष्मयाम
    कमर सीधी करके ध्यान की मुद्रा में बैठ जाए. अगर बैठने में आपको दिक्कत है, तो दोनों पैर को आगे की ओर सीधा कर फैला लें. अपने ध्यान को शरीर के उपर लेकर आएं. इसे अपने मस्तिष्क में केंद्रित करें. आंखों को बंद करें और चारों तरफ से ध्यान हटा दें. थोड़ी देर के लिए सिर्फ और सिर्फ अपने शरीर के उपर ध्यान दें. अच्छा लंबा गहरा सांस लें और आराम से लंबा सांस छोड़ें. सांस इस प्रकार छोड़ें कि शरीर एकदम सहज हो जाए. इस क्रिया के बाद ऊँ का उच्चारण करें या अन्य श्लोक या मंत्र को पढ़ें. यह अभ्यास अपनी क्षमता के अनुसार करें.

    यह भी पढ़ें Yoga Session: सूर्य नमस्कार से पहले करें जंपिंग जैक्स, सेहत को होगा फायदा

    ताड़ासन
    इस अभ्यास को करने से पहले सहजता से खड़े हो जाएं. दोनों पैर को एक एक-दूसरे के पास ले आएं. कमर और गर्दन को सीधी रखें. इसके बाद अपने हाथ को सिर के ऊपर करें और सांस लेते हुए धीरे धीरे पूरे शरीर को उपर की ओर खींचें. खिंचाव जितना ज्यादा रहेगा, उतना यह अभ्यास अच्छा होगा. खिंचाव को पैर की उंगली से लेकर हाथ की उंगलियों तक महसूस करें. इस अवस्था को कुछ समय के लिए बनाए रखें ओर सांस ले और सांस छोड़ें. इस अभ्यास में सांस लेते समय पेट को अंदर रखें. ध्यान अपने आप पर केंद्रित करें. इस अभ्यास को अपनी क्षमता के अनुसार करें. ताड़ासन योग पूरे शरीर को लचीला बनाता है. मन शुद्धि के लिए यह अभ्यास सबसे उत्तम होता है. यह अभ्यास पेट के लिए भी बहुत अच्छा होता है. पेट साफ के लिए यह अभ्यास बहुत ही उत्तम है.कंस्टीपेशन की समस्या को भी यह अभ्यास दूर करता है. यह एक ऐसा योगासन है जो मांसपेशियों में काफी हद तक लचीलापन लाता है. यह शरीर को हल्का करता है और मन को आराम देता है. इसके अलावा शरीर को सुडौल और खूबसूरती भी प्रदान करता है. शरीर की अतिरिक्त चर्बी को पिघालता है और आपके पर्सनैलिटी में नई निखार लेकर आता है.
    दूसरा सूक्ष्म अभ्यास
    इस अभ्यास के बाद खड़े होकर ही सांस को लेते हुए दोनों हाथ को उपर उठा लेंगे. दोनों हाथ की उंगलियों को एक-दूसरे के साथ जोड़ दें. फिर इसी अवस्था में सांस लेते हुए दाईं तरफ झुकें. जितनी क्षमता सह सके उतना ही झुकें. करीब 5 सेकेंड तक झुके रहें फिर सीधी अवस्था में आ जाए. फिर यही क्रम बाईं ओर दोहराएं. यह अभ्यास करीब पांच बार करें. इस अभ्यास के बाद हाथों को खोल लें. पैर को एक-दूसरे से थोड़ा हटा लें. फिर दोनों हाथों को पहले दाईं तरफ घुमाएं. घुमाते हुए सांस को अंदर करें फिर घुमाकर वापस लाते समय सांस को छोड़ दें. यही क्रम अब बाईं तरफ करें. इसमें सिर्फ कलाई को घुमाना है, इसलिए यह प्रक्रिया एकदम सहजता के साथ करें.यह अभ्यास करीब 10-10 के सेट में दोहराएं.यह अभ्यास रोजाना करें.
    प्राणायाम
    प्राणायाम करने से पहले अगर संभव हो सके, तो 10 बार दंड लगाएं. इससे शरीर में स्फूर्ति आती है. इस अभ्यास के बाद बटरफ्लाई करें. बटरफ्लाई में दोनों पैर को एक-दूसरे से सटा दें. फिर हाथ से दोनों पैर की उगलियों को कसकर पकड़ लें. फिर तितली के पंख की तरह इसे उपर-नीचे करें. धीरे-धीरे इस अभ्यास की स्पीड को बढ़ाएं. अब प्राणयाम की मुद्रा में आ जाएं और थोड़ी देर पूरी तरह से बॉडी को रिलेक्स दें. शरीर को स्थिर रखें. प्राणयाम में हर श्वास के साथ शरीर सहज होता चला जाता है. प्राणयाम में आज सबसे पहले कपाल भारती करेंगे. अगर पेट से जुड़ी कोई समस्या है, तो इस अभ्यास को नहीं करें. इसके अलावा हार्ट के मरीज भी इस अभ्यास को न करें. इसके लिए कमर सीधी करके सीधा बैठ जाए. इसके बाद जोर से सांस अंदर करें और फिर जोर से छोड़ें. यह क्रम अपनी क्षमतानुसार दोहराएं. करीब पांच मिनट तक यह अभ्यास करें. नियमित रूप से इस अभ्यास को करने से कई तरह के फायदे को आप महसूस करेंगे.

    Tags: Benefits of yoga, Yoga, Yogasan

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर