होम /न्यूज /साहित्य /ऋचा शर्मा, हरिहरन और प्रतिभा बघेल के सुरे से गुलजार होंगी 'जश्न-ए-रेख़्ता' की शाम

ऋचा शर्मा, हरिहरन और प्रतिभा बघेल के सुरे से गुलजार होंगी 'जश्न-ए-रेख़्ता' की शाम

उर्दू-हिंदी के गीत-गज़लों और शायरी के लिए मशहूर जश्न-ए-रेख़्ता का आगाज 2 दिसंबर, शुक्रवार से हो रहा है.

उर्दू-हिंदी के गीत-गज़लों और शायरी के लिए मशहूर जश्न-ए-रेख़्ता का आगाज 2 दिसंबर, शुक्रवार से हो रहा है.

जश्न-ए-रेख्ता का आगाज 2 दिसम्बर को मशहूर गीतकार जावेद अख़्तर करेंगे. सुरों के सरताज हरिहरन गज़ल सराई से समा बांधेंगे. क ...अधिक पढ़ें

Jashn e Rekhta 2022: हिंदी-उर्दू के गीत, गज़ल, कविता और शायरी के बड़े जलसे जश्न-ए-रेख़्ता के आगाज का काउंटडाउन शुरू हो गया है. रेख़्ता फाउंडेशन का गंगा-जमुनी तहजीब का बड़ा जलसा जश्न-ए-रेख़्ता-2022 इस बार 2 से 4 दिसंबर के दरमियान नई दिल्ली के मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम में आयोजित किया जा रहा है.

इस कार्यक्रम में हिंदी, उर्दू के बड़े फनकार शिरकत कर रहे हैं. तीन दिन चलने वाले इस कार्यक्रम में देश-दुनिया के 150 से अधिक दिग्गज कलाकार शिरकत कर रहे हैं. दिल्ली की सर्दी में आयोजित हो रहे इस जश्न की शामों को रेख़्ता फाउंडेशन गीत-संगीत की ऊर्जा से गर्माने का इंतजाम किया है.

इस कार्यक्रम में नामचीन कलमकारों के साथ संगीत की दुनिया के दिग्गज भी अपना जलवा बिखरने आ रहे हैं. इस बार आप जावेद अख़्तर, शबाना आज़मी, मुज़्ज़फ़र अली, कुमार विश्वास और शैलेश लोढ़ा जैसे मशहूर कवि, गीतकार और शायरों के कलाम से रू-ब-रू होंगे ही साथ ही हरिहरन, ऋचा शर्मा और प्रतिभा बघेल जैसे गीतकारों की सुरमयी आवाज का जादू भी महसूस कर सकेंगे.

जश्न-ए-रेख़्ता: 2 दिसंबर से दिल्ली में जुटेंगे जावेद अख़्तर, नसीरूद्दीन शाह और कुमार विश्वास जैसे फनकार

जश्न-ए-रेख़्ता में भारतीय फिल्मों के मशहूर पार्श्वगायक और गज़ल गायक हरिहरन गीत और गज़ल प्रस्तुत करेंगे. पद्मश्री से सम्मानित गायक हरिहरन को दो बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है.

हिंदी फिल्मों में ऋचा शर्मा ने अपनी आवाज में एक से बढ़कर एक गाने गाये हैं. उन्होंने जुबैदा, साथिया, हेराफेरी, खाकी, बागबान, ओम शांति ओम सहित तमाम फिल्मों में अपनी आवाज का जादू बिखेरा है.

प्रतिभा सिंह बघेल, जिन्हें प्रतिभा सिंह के नाम से भी जाना जाता है, बॉलीवुड के सफल गायकों में शुमार होती हैं. उन्होंने इस्साक, बॉलीवुड डायरीज, शोरगुल, हम्प्टी शर्मा की दुल्हनिया, ज़िद, मणिकर्णिका जैसी फिल्मों में गीत गाये हैं.

इस बार आप जश्न-ए-रेख़्ता में नसीरूद्दीन शाह, रत्ना पाठक शाह, शबाना आज़मी, मुज़्ज़फ़र अली, कुमार विश्वास, शैलेश लोढ़ा, दीया मिर्ज़ा, शेखर रवजियानी, शिल्पा राव, फहमी बंदायूनी, शीन काफ़ निज़ाम, शकील आज़मी, उदयन बाजपेयी, फरहत एहसास, राहगीर जैसे नामचीन लेखकों से भी रू-ब-रू हो सकेंगे.

Tags: Hindi Literature, Literature, Literature and Art

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें