• Home
  • »
  • News
  • »
  • literature
  • »
  • डॉ. चन्द्रपाल शर्मा को उत्तर प्रदेश हिन्दी साहित्य संस्थान का साहित्य भूषण सम्मान

डॉ. चन्द्रपाल शर्मा को उत्तर प्रदेश हिन्दी साहित्य संस्थान का साहित्य भूषण सम्मान

डॉ. चन्द्रपाल शर्मा की प्रसिद्ध कृति 'अंक चक्र' (Ank Chakra) हिंदी और अंग्रेजी में प्रकाशित हुई है.

डॉ. चन्द्रपाल शर्मा की प्रसिद्ध कृति 'अंक चक्र' (Ank Chakra) हिंदी और अंग्रेजी में प्रकाशित हुई है.

साहित्य भूषण सम्मान (Sahitya Bhushan Samman) के लिए 20 विद्वानों का चयन किया गया. इनमें पिलखुवा के डॉ. चन्द्रपाल शर्मा शामिल हैं.

  • Share this:

    Uttar Pradesh Hindi Sansthan: हिंदी और संस्कृत के प्रसिद्ध विद्वान तथा वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. चन्द्रपाल शर्मा (Dr Chandrapal Sharma) को उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान ने अपने प्रतिष्ठित साहित्य भूषण सम्मान (Sahitya Bhushan Samman) से अलंकृत करने का निर्णय किया है.

    बता दें कि पिछले हफ्ते उत्तर प्रदेश हिंदी साहित्य संस्थान ने वर्ष 2020 के सम्मान और पुरस्कारों की घोषणा की थी. हिंदी संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. सदानन्द गुप्त की अध्यक्षता में हुई पुरस्कार समिति की बैठक ने सर्वोच्च भारत-भारती सम्मान वरिष्ठ साहित्यकार पांडेय शशिभूषण शीतांशु (Pandey Shashi Bhushan Sitanshu) को देना का ऐलान किया.

    साहित्य भूषण सम्मान (Sahitya Bhushan Samman) के लिए 20 विद्वानों का चयन किया गया. इनमें पिलखुवा के डॉ. चन्द्रपाल शर्मा शामिल हैं. डॉ. शर्मा को सम्मान स्वरूप ढाई लाख रुपये की नकद राशि, प्रशस्ति पत्र और स्मृति चिह्न प्रदान किए जाएंगे.

    उत्तर प्रदेश हिंदी साहित्य सस्थान डॉ. चन्द्रपाल शर्मा की शोधपरक कृति ‘मानस चिंतन’ को वर्ष 2019 में महावीर प्रसाद द्विवेदी निबंध पुरस्कार से सम्मानित कर चुका है.

    भारत-भारती सम्मान शशिभूषण ‘शीतांशु’ को, उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान के पुरस्कारों का ऐलान

    हिंदी और संस्कृत के प्रकाण्ड विद्वान डॉ. चन्द्रपाल शर्मा हिंदी के प्रसिद्ध कवि कुमार विश्वास (Kavi Kumar Vishwas) के पिता हैं. डॉ. शर्मा का जन्म बुलंदशहर जिले (Bulandshahr) के नवादा गांव में 19 जुलाई, 1938 को हुआ था. उन्होंने बुलंदशहर के डीएवी कॉलेज (DAV College) से परास्नातक की डिग्री हासिल की. डॉ. चन्द्रपाल शर्मा एक मैनेजमेंट कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर तैनात हुए.

    उनकी प्रसिद्ध कृति ‘अंक चक्र’ (Ank Chakra) हिंदी और अंग्रेजी में प्रकाशित हुई है. ये पुस्तकें डायमण्ड प्रकाशन (Diamond Pocket Books) से आई हैं. ‘अंक चक्र’ शून्य से लेकर दस तक के मूल अंकों का भारतीय संस्कृति में अलग-अलग स्थानों पर प्रयोग का अद्भुत संकलन है.

    ‘अगर मुझे कायरता और हिंसा के बीच में चुनाव करना हो तो मैं हिंसा को चुनूंगा’ – महात्मा गांधी

    उनकी अन्य पुस्तकों में ‘चिन्तन की मणियां’, ‘संस्कृत भास्कर’, ‘काव्यांग- विवेचन और हिन्दी साहित्य का इतिहास’, ‘गोस्वामी तुलसी दास व कवितावली’, ‘ऋतु-वर्णन, परम्परा, और सेनापति का काव्य’, ‘अभिनव गद्य विधाएं’, ‘चिन्तन के क्षण’ आदि शामिल हैं.

    रामचरित मानस के उत्तरकांड की नई व्याख्या पर पुस्तक ‘मानस चिंतन’ (Manas Chintan) प्रकाशित हुई है. यह पुस्तक अनंत प्रकाशन से प्रकाशित हुई है. इस पुस्तक में डॉ. चंद्रपाल के शोधपरक लेख हैं.

    डॉ. चन्द्रपाल शर्मा का अध्ययन बहुत व्यापक है. वे लोक जीवन की गहराई से पड़ताल करते हैं तो विसंगतियों पर प्रहार भी करते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज