Home /News /literature /

bal utasav 2022 hindi academy delhi inaugurated by manish sisodia and swanand kirkire children theatre

बाल उत्सव 2022: रंगमंच पर बिखरे बच्चों की प्रतिभा के रंग, नाटकों के माध्यम से सत्य और एकता का संदेश

हिंदी अकादमी दिल्ली के बाल उत्सव में दो नाटक 'लड़ाई' और 'क्रांतिवीर' का मंचन किया गया.

हिंदी अकादमी दिल्ली के बाल उत्सव में दो नाटक 'लड़ाई' और 'क्रांतिवीर' का मंचन किया गया.

हिन्दी अकादमी, दिल्ली पिछले कई वर्षों से दिल्ली के छात्रों के लिए बाल रंगमंच कार्यशाला का आयोजन करती आ रही है. इन कार्यशालाओं में तैयार किए गए नाटकों का मंचन किया जाता है. इसी कड़ी में इस वर्ष भी बाल रंगमंच कार्यशाला-2022 का आयोजन किया और नाटकों का मंचन किया गया है.

अधिक पढ़ें ...

Bal Utasav 2022 : हिंदी अकादमी दिल्ली के ‘बाल उत्सव 2022’ का आगाज हो गया है. बाल उत्सव के पहले ही दिन बच्चों ने रंगमंच पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा दिया. ऑडिटोरियम में बैठे सैकड़ों दर्शक बच्चों का अभिनय देखकर दंग रह गए.

नई दिल्ली के आईटीओ स्थित प्यारेलाल भवन में आयोजित ‘बाल उत्सव 2022’ के पहले दिन कल दो नाटक ‘लड़ाई’ और ‘क्रांतिकारी’ का प्रदर्शन किया गया.

‘लड़ाई’ के माध्यम से सत्य की जीत का संदेश
बाल उत्सव के उद्घाटन समारोह में सबसे पहले सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की कहानी ‘लड़ाई’ का मंचन किया गया. शोभा शर्मा और अमलेश कुमार के निर्देशन में तैयार इस नाटक में बाल कलाकारों ने अपने सजीव अभिनय से सभी का मन मोह लिया.

Bal Utasav 2022, Delhi Government News, Hindi Academy Delhi, Manish Sisodia News, Dr Jeetram Bhatt News, Children Theatre, rangmanch natak, Hindi Natak, Hindi Theatre News, Hindi Literature News, Hindi Sahitya News, swanand kirkire movies, swanand kirkire Songs, Theatre Festival, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, बाल उत्सव 2022, हिंदी अकादमी दिल्ली, मनीष सिसोदिया न्यूज, स्वानंद किरकिरे न्यूज, बाल रंगमंच, बाल थिएटर उत्सव, Bal Rangmanch Karyshala 2022, Children Theatre Workshop,

‘लड़ाई’ नाटक का मंचन करते हुए बाल कलाकार.

‘लड़ाई’ कहानी का नायक सत्यव्रत देश में बढ़ते भ्रष्टाचार, लूट-खसोट, बेईमानी से तंग आकर हमेशा सत्य के रास्ते पर चलने और किसी भी तरह के गलत काम का विरोध करने का प्रण लेता है. सत्यव्रत के इसी प्रण के साथ उसकी लड़ाई शुरू होती है. लड़ाई का सबसे पहले मैदान बनता है खुद उसका घर. सत्यव्रत की पत्नी उसे सिस्टम के साथ चलने की सलाह देती है और उसके इस प्रण का विरोध करती है. घर से बाहर भी सत्यव्रत को हर जगह जैसे- हॉस्पिटल, पुलिस थाना, अखबार का दफ्तर, सड़क पर भीख मांगते बच्चे और यहां तक कि धार्मिक आयोजनों में भी गलत कार्यों की साजिश नजर आती है. वह इन तमाम व्यवस्थाओं का विरोध करता है तो पूरा समाज उसका विरोधी हो जाता है.

यह भी पढ़ें- केदारनाथ अग्रवाल ‘तुम्हें भला क्या पहचानेंगे बांदावाले’

नाटक में हास्य, व्यंग्य, एक्शन और संगीत के माध्यम से तमाम उतार-चढ़ावों का प्रदर्शन किया गया. अंत में यही संदेश दिया गया कि भले ही देर से लेकिन अंत में जीत सत्य की ही होती है.

‘क्रांतिकारी’ के माध्यम से शहीदों की गाथा का मंचन
मोहन सिंह सेंगर की कहानी ‘क्रांतिकारी’ के माध्यम से गुलाम भारत में अंग्रेजी शासन के अत्याचारों और क्रांतिकारियों की संघर्ष गाथा का प्रदर्शन किया गया. साहिल वर्मा और सुफियान खान के निर्देशन में तैयार इस नाटक में बच्चों ने अंग्रेजों के जुल्म के खिलाफ क्रांतिकारियों के संघर्ष की बड़ा ही मार्मिक प्रस्तुति की. नाटक के दौरान ऐसे कई क्षण आए जब वहां मौजूद दर्शकों की आंखें नम हो गईं.

Bal Utasav 2022, Delhi Government News, Hindi Academy Delhi, Manish Sisodia News, Dr Jeetram Bhatt News, Children Theatre, rangmanch natak, Hindi Natak, Hindi Theatre News, Hindi Literature News, Hindi Sahitya News, swanand kirkire movies, swanand kirkire Songs, Theatre Festival, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, बाल उत्सव 2022, हिंदी अकादमी दिल्ली, मनीष सिसोदिया न्यूज, स्वानंद किरकिरे न्यूज, बाल रंगमंच, बाल थिएटर उत्सव, Bal Rangmanch Karyshala 2022, Children Theatre Workshop,

‘लड़ाई’ नाटक में क्रांतिकारियों की बलिदान गाथा का मंचन किया गया.

नाटकों से व्यक्तित्व का विकास- मनीष सिसोदिया
बाल उत्सव का उद्घाटन दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री और हिंदी अकादमी के उपाध्यक्ष स्वानंद किरकिरे ने दीप प्रज्जवलित करके किया. इस अवसर पर डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा कि नाटकों से बच्चों की अभिव्यक्ति क्षमता का विकास होता है. बच्चे जहां खेल-खेल में संवाद और भाषा में दक्षता प्राप्त करते हैं, वहीं संस्कृति और शिक्षा को भी प्राप्त करते हैं. अभिनय रुचिकर होता है. उन्होंने कहा कि अभिनय के माध्यम से हिन्दी कहानियों का संदेश छात्रों और जन-मानस तक पहुंचाने का हिंदी अकादमी का यह सफल प्रयास है.

Bal Utasav 2022, Delhi Government News, Hindi Academy Delhi, Manish Sisodia News, Dr Jeetram Bhatt News, Children Theatre, rangmanch natak, Hindi Natak, Hindi Theatre News, Hindi Literature News, Hindi Sahitya News, swanand kirkire movies, swanand kirkire Songs, Theatre Festival, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, बाल उत्सव 2022, हिंदी अकादमी दिल्ली, मनीष सिसोदिया न्यूज, स्वानंद किरकिरे न्यूज, बाल रंगमंच, बाल थिएटर उत्सव, Bal Rangmanch Karyshala 2022, Children Theatre Workshop,

अकादमी के उपाध्यक्ष स्वानंद किरकिरे ने कहा कि सभ्यता और संस्कृति के प्रसार के लिए साहित्य व कला का प्रसार आवश्यक है. उन्होंने कहा कि थिएटर से कलाकार और दर्शक, दोनों के ही व्यक्तित्व का विकास होता है.

Bal Utasav 2022, Delhi Government News, Hindi Academy Delhi, Manish Sisodia News, Dr Jeetram Bhatt News, Children Theatre, rangmanch natak, Hindi Natak, Hindi Theatre News, Hindi Literature News, Hindi Sahitya News, swanand kirkire movies, swanand kirkire Songs, Theatre Festival, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, बाल उत्सव 2022, हिंदी अकादमी दिल्ली, मनीष सिसोदिया न्यूज, स्वानंद किरकिरे न्यूज, बाल रंगमंच, बाल थिएटर उत्सव, Bal Rangmanch Karyshala 2022, Children Theatre Workshop,

दीप जलाकर बाल उत्सव का उद्घाटन करते उप-मुख्यमंत्री मनीष सोसिदिया, प्रसिद्ध गीतकार स्वानंद किरकिरे, हिंदी अकादमी के सचिव डॉ. जीतराम भट्ट और उप-सचिव ऋषि कुमार शर्मा.

हिंदी अकादमी की सचिव डॉ. जीतराम भट्ट ने बताया कि देश आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. इसलिए कहानियों का चयन भी देश की आजादी में शहीदों की संघर्षगाथा को ध्यान में रखकर किया गया है.

Bal Utasav 2022, Delhi Government News, Hindi Academy Delhi, Manish Sisodia News, Dr Jeetram Bhatt News, Children Theatre, rangmanch natak, Hindi Natak, Hindi Theatre News, Hindi Literature News, Hindi Sahitya News, swanand kirkire movies, swanand kirkire Songs, Theatre Festival, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, बाल उत्सव 2022, हिंदी अकादमी दिल्ली, मनीष सिसोदिया न्यूज, स्वानंद किरकिरे न्यूज, बाल रंगमंच, बाल थिएटर उत्सव, Bal Rangmanch Karyshala 2022, Children Theatre Workshop,

अकादमी के उप-सचिव ऋषि कुमार शर्मा ने बताया कि यह उत्सव लगातार 30 जून तक चलेगा और प्रत्येक दिन दो नाटकों का मंचन किया जाएगा.

‘शहीद की मां’ और ‘मुद्रिका रहस्य’ का मंचन
ऋषि कुमार शर्मा ने बताया कि 25 जून, शनिवार को शीला मिश्रा की कहानी ‘शहीद की मां’ और शरद जोशी की कहानी ‘मुद्रिका रहस्य उर्फ असली किस्सा शकुन्तला का’ का मंचन किया जाएगा. ‘शहीद की मां’ का निर्देशन सपना शर्मा और श्रेया सहाय ने किया है जबकि ‘मुद्रिका रहस्य’ का निर्देशन रति शर्मा और जितेश शर्मा ने किया है. बाल उत्सव में नाटकों के साथ-साथ वहां आने वाले अभिभावकों और अन्य बच्चों के मनोरजंन के लिए राजस्थानी लोक गीत और लोकनृत्य का भी आयोजन किया जा रहा है.

Tags: Delhi Government, Hindi Literature, Literature, Literature and Art, Manish sisodia

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर