Home /News /literature /

hindi academy delhi bal utasv 2022 rangmanch theatre literature workshop

हिंदी अकादमी दिल्ली 'बाल उत्सव 2022' का रंगारंग समापन, आखिरी दिन 'सिक्का बदल गया' का मंचन

 हिंदी अकादमी, दिल्ली द्वारा आयोजित 'बाल उत्सव 2022' के अंतम दिन वरिष्ठ कथाकार कृष्णा सोबती की कहानी 'सिक्का बदल गया' का मंचन किया गया.

हिंदी अकादमी, दिल्ली द्वारा आयोजित 'बाल उत्सव 2022' के अंतम दिन वरिष्ठ कथाकार कृष्णा सोबती की कहानी 'सिक्का बदल गया' का मंचन किया गया.

हिंदी अकादमी दिल्ली के 'बाल उत्सव 2022' में लगातार 6 दिन 13 कहानियों का नाट्य मंचन किया गया. कहानियों के मंचन के लिए दिल्ली के 13 स्कूलों में बाल रंगमंच कार्यशालाओं का आयोजन किया गया था. एक महीने चली इन कार्यशालाओं में प्रसिद्ध निर्देशकों के निर्देशन में छोटे-छोटे बच्चों ने अभिनय के गुर सीखे. वर्ष 2014 से लगातार 'बाल उत्सव' का आयोजन किया जा रहा है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली : हिंदी अकादमी दिल्ली का ‘बाल उत्सव 2022’ सम्पन्न हो गया. छह दिन चले उत्सव के आखिरी दिन 30 जून, गुरुवार को वरिष्ठ कथाकार कृष्णा सोबती की कहानी ‘सिक्का बदल गया’ का मंचन किया गया. नई दिल्ली के आईटीओ स्थित प्यारे लाल भवन में बाल उत्सव के समापन समारोह का उद्घाटन हिंदी के प्रसिद्ध हास्य कवि और व्यंग्यकार सुरेंद्र शर्मा ने किया.

सुरेंद्र शर्मा ने हिंदी अकादमी दिल्ली के कार्यों का उल्लेख करते हुए कहा कि वे लंबे समय से हिंदी अकादमी से जुड़े हुए हैं. हिंदी के प्रचार-प्रसार में दिल्ली हिंदी अकादमी ने उल्लेखनीय काम किए हैं. उन्होंने कहा कि ‘बाल उत्सव’ के माध्यम से बच्चों में छिपी प्रतिभा में तो निखार आता ही है साथ ही बच्चों में हिंदी के प्रति लगाव और अनुराग पैदा होता है.

पद्मश्री से सम्मानित सुरेंद्र शर्मा जी हिंदी अकादमी के पूर्व उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं. उन्होंने हिंदी के महत्व का उल्लेख करते हुए कहा कि अंग्रेजी हमें कार देती है और हिंदी हमें संस्कार देती है. उन्होंने भारतीय भाषाओं के प्रचार-प्रसार की वकालत करते हुए कि संस्कृति और संस्कारों को बनाए रखने के लिए मातृभाषा का उपयोग करना बहुत जरूरी है.

Hindi Academy Delhi News, Delhi Government News, Bal Utasv 2022, Bal Rangmanch Karyshala, Literature News, Sahitya News, Theatre News, Theatre Workshop News, Children Theatre News, हिंदी अकादमी दिल्ली न्यूज, बाल उत्सव 2022, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, हिंदी नाटक, रंगमंच न्यूज, थिएटर न्यूज, श्रीराम शर्मा, लिटरेचर न्यूज, साहित्य न्यूज,

हिंदी अकादमी के सचिव डॉ. जीतराम भट्ट ने कहा कि बाल उत्सव के माध्यम से दिल्ली के विभिन्न स्थानों पर रचनात्मकता खासकर साहित्य और अभिनय के जो क्रियाकलाप हुए हैं, वे निश्चित ही बच्चों, अभिभावकों और उनसे जुड़े लोगों में एक नई ऊर्जा का संचार करने का काम करेगा.

यह भी पढ़ें- कन्हैयालाल नंदन- ‘नदी की कहानी कभी फिर सुनाना, मैं प्यासा हूं दो घूंट पानी पिलाना’

डॉ. जीतराम भट्ट ने कहा कि ‘बाल-उत्सव’ दिल्ली में सांस्कृतिक और भाषिक दृष्टि से सम्पन्नता लाने में एक मील का पत्थर साबित हुआ है. कोरोना कालखंड के लंबे अंतराल के बाद बाल उत्सव में नाटकों के माध्यम से जन मानस में उत्साह और उमंग का संचार कर पाए हैं.

 Hindi Academy Delhi News, Delhi Government News, Bal Utasv 2022, Bal Rangmanch Karyshala, Literature News, Sahitya News, Theatre News, Theatre Workshop News, Children Theatre News, हिंदी अकादमी दिल्ली न्यूज, बाल उत्सव 2022, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, हिंदी नाटक, रंगमंच न्यूज, थिएटर न्यूज, श्रीराम शर्मा, लिटरेचर न्यूज, साहित्य न्यूज,

उप-सचिव ऋषि कुमार शर्मा ने कहा कि आज हम पढ़ने और पढ़ाने की परंपरा से दूर होते जा रहे हैं. बच्चों में साहित्य के प्रति लगाव लगातार कम हो रहा है. हम बड़े भी कथा, कहानियों से दूर हो रहे हैं. हिंदी अकादमी के बाल उत्सव के माध्यम से बच्चे में हिंदी के महान लेखकों की रचनाओं के नजदीक आए हैं. इस प्रयास से उनमें पढ़ने की प्रवृति का संचार होगा.

ऋषि कुमार शर्मा ने कहा कि हिंदी अकादमी ने इस ‘बाल उत्सव’ को ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के संदर्भ में परिभाषित किया है जिसमें सभी नाटक सुप्रसिद्ध कहानीकारों की देशभक्ति से परिपूर्ण कहानियों पर तैयार कराए और बच्चों द्वारा मंचित कराकर उनमें देशभक्ति का संचार करने में हिन्दी अकादमी सफल रही.

यह भी पढ़ें- वरिष्ठ कवि रामदरश मिश्र को सरस्वती सम्मान, काव्य संग्रह ‘मैं तो यहां हूं’ के लिए हुए सम्मानित

हिंदी अकादमी दिल्ली की कार्यकारिणी के सदस्य श्रीराम शर्मा ने कहा कि बल उत्सव के माध्यम से हमें अपने इतिहास को नजदीक के जानने का मौका मिला है. आजादी के कई गुमनाम योद्धाओं की कहानियों का मंचन निश्चित ही आजादी का अमृत महोत्सव पर शहीदों को सच्ची श्रृद्धांजलि है. श्रीराम शर्मा ने कहा कि कई कहानियों के माध्यम से बच्चों के सामान्य ज्ञान में भी वृद्धि हुई है.

Hindi Academy Delhi News, Delhi Government News, Bal Utasv 2022, Bal Rangmanch Karyshala, Literature News, Sahitya News, Theatre News, Theatre Workshop News, Children Theatre News, हिंदी अकादमी दिल्ली न्यूज, बाल उत्सव 2022, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, हिंदी नाटक, रंगमंच न्यूज, थिएटर न्यूज, श्रीराम शर्मा, लिटरेचर न्यूज, साहित्य न्यूज,

हिंदी अकादमी के ‘बाल उत्सव’ में प्रसिद्ध निर्देशक राकेश शर्मा को सम्मानित किया गया.

समापन समारोह में सभी केंद्रों के निर्देशक और सहायक निर्देशकों को प्रमाण पत्र प्रदान दिए गए. सभी केंद्रों के कॉर्डिनेटर राकेश शर्मा और अशरफ अली को उनके कार्यों और प्रयासों के लिए विशेष रूप से सम्मानित किया गया.

Hindi Academy Delhi News, Delhi Government News, Bal Utasv 2022, Bal Rangmanch Karyshala, Literature News, Sahitya News, Theatre News, Theatre Workshop News, Children Theatre News, हिंदी अकादमी दिल्ली न्यूज, बाल उत्सव 2022, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, हिंदी नाटक, रंगमंच न्यूज, थिएटर न्यूज, श्रीराम शर्मा, लिटरेचर न्यूज, साहित्य न्यूज,

प्रसिद्ध नाट्य निर्देशक अशरफ अली को सम्मानित करते हुए हिंदी अकादमी के सचिव डॉ. जीतराम भट्ट.

कृष्णा सोबती की कहानी ‘सिक्का बदल गया’ का मंचन
बाल उत्सव के अंतिम दिन पूर्वी दिल्ली के पटपड़गंज में नेशनल विक्टर पब्लिक स्कूल केंद्र के बच्चों ने हिंदी की प्रसिद्ध कथाकार कृष्णा सोबती की कहानी ‘सिक्का बदल गया’ का नाट्य मंचन किया गया. निर्देशक मनोज लीला भट्ट और सहायक निर्देशक दिशांत मल्होत्रा के निर्देशन में तैयार इस नाटक में बच्चों ने पर्यावरण संरक्षण, माता-पिता का सम्मान, महिला उत्थान और परिवार के महत्व से जुड़े संदेश दिए.

Hindi Academy Delhi News, Delhi Government News, Bal Utasv 2022, Bal Rangmanch Karyshala, Literature News, Sahitya News, Theatre News, Theatre Workshop News, Children Theatre News, हिंदी अकादमी दिल्ली न्यूज, बाल उत्सव 2022, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, हिंदी नाटक, रंगमंच न्यूज, थिएटर न्यूज, श्रीराम शर्मा, लिटरेचर न्यूज, साहित्य न्यूज,

‘सिक्का बदल गया’ कहानी देश के विभाजन की पृ्ष्ठभूमि में नाते-रिश्तों के अचानक बदल जाने और झूठे पड़ जाने की पीड़ा है.

कहानी में विभाजन से उत्पन्न कठोर परिस्थितियों का मार्मिक चित्रण है. ‘सिक्का बदल गया’ कहानी देश के विभाजन की पृ्ष्ठभूमि में नाते-रिश्तों के अचानक बदल जाने और झूठे पड़ जाने की पीड़ा है. कहानी में स्पष्टतः दिखाया गया कि समय बदलते देर नहीं लगती. जिस शेरा को शाहनी ने पाल-पोस कर बड़ा किया था वह उसी शाहनी को मारने और हवेली को लूटने की योजना बनाता है. शाहनी जिस कोठी की मालकिन हुआ करती थी उसी को छोड़कर उसे जाना पड़ता है. सिक्का बदल जाता है.

Hindi Academy Delhi News, Delhi Government News, Bal Utasv 2022, Bal Rangmanch Karyshala, Literature News, Sahitya News, Theatre News, Theatre Workshop News, Children Theatre News, हिंदी अकादमी दिल्ली न्यूज, बाल उत्सव 2022, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, हिंदी नाटक, रंगमंच न्यूज, थिएटर न्यूज, श्रीराम शर्मा, लिटरेचर न्यूज, साहित्य न्यूज,

कृष्णा सोबती की कहानी ‘सिक्का बदल गया’ पर बच्चों ने बहुत ही सजीव अभिनय किया.

केशव, लावण्या झा, सोहम माहना, अदिति जोशी आदि छात्रों ने इस नाटक में अभिनय किया और अपने अभिनय से ये बता दिया कि किसी भी चीज को सीखने की ललक होनी चाहिए तो सीखना वह आसान हो जाता है.

Hindi Academy Delhi News, Delhi Government News, Bal Utasv 2022, Bal Rangmanch Karyshala, Literature News, Sahitya News, Theatre News, Theatre Workshop News, Children Theatre News, हिंदी अकादमी दिल्ली न्यूज, बाल उत्सव 2022, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, हिंदी नाटक, रंगमंच न्यूज, थिएटर न्यूज, श्रीराम शर्मा, लिटरेचर न्यूज, साहित्य न्यूज,

निर्देशन की बात की जाए तो कई टुकड़ों में बंटे इस नाटक के सिरों को जोड़ने में कहीं-कहीं कमी नजर आई. एक दृश्य को दूसरे से लिंक के दौरान कई बार अनावश्यक देरी भी दिखाई दी. सामाजिक संदेश दिखाने के कहानी का क्रम कई बार टूट जाता है.

 Hindi Academy Delhi News, Delhi Government News, Bal Utasv 2022, Bal Rangmanch Karyshala, Literature News, Sahitya News, Theatre News, Theatre Workshop News, Children Theatre News, हिंदी अकादमी दिल्ली न्यूज, बाल उत्सव 2022, बाल रंगमंच कार्यशाला 2022, हिंदी नाटक, रंगमंच न्यूज, थिएटर न्यूज, श्रीराम शर्मा, लिटरेचर न्यूज, साहित्य न्यूज,

बाल उत्सव के तमाम केंद्र में से नेशनल विक्टर पब्लिक स्कूल केंद्र पर सबसे ज्यादा बच्चे थे. यहां बच्चों की संख्या 50 से अधिक थी. यहां निर्देशक की तारीफ करनी होगी कि उन्होंने सभी बच्चों को मंच पर पर्याप्त समय दिया. हर किसी के पात्र को ऐसा गढ़ा कि उसकी अलग ही उपयोगिता नजर आई. रूप-सज्जा, संगीत और प्रकाश प्रबंध शानदार था. बच्चों के अभिनय में आत्मविश्वास अलग ही छलक रहा था.

Tags: Delhi Government, Hindi Literature, Literature, Literature and Art

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर