Home /News /literature /

हिंदी की जितनी भी बोलियां हैं, सबसे बढ़कर ब्रजभाषा का साहित्य है और सबसे ज्यादा

हिंदी की जितनी भी बोलियां हैं, सबसे बढ़कर ब्रजभाषा का साहित्य है और सबसे ज्यादा

ब्रजभाषा स्वभावतः इतनी मधुर है, जितनी संसार की कोई भी दूसरी भाषा नहीं, संस्कृत भी नहीं.

ब्रजभाषा स्वभावतः इतनी मधुर है, जितनी संसार की कोई भी दूसरी भाषा नहीं, संस्कृत भी नहीं.

हमारे पुराने साहित्य के प्रायः सभी महारथी वैष्णव थे, जिनकी श्रद्धा ब्रज पर और ब्रजभाषा पर सबसे ज्यादा थी. परंतु इससे भी बढ़ कर इस भाषा की मधुरता और स्पष्टता थी, जिसने साहित्यिकों का मन चुरा लिया. इसीलिए गोस्वामी तुलसीदास जी ने भी अपनी बहुत सी रचना इस मीठी भाषा में की.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

    डॉ दिनेश पाठक शशि

    डॉ. धीरेंद्र वर्मा ने 1933 में हिंदी भाषा का इतिहास लिखा और 1954 में ब्रजभाषा का व्याकरण लिखा. हिंदी भाषा के इतिहास में वे लिखते हैं कि “प्राचीन हिंदी साहित्य की दृष्टि से ब्रज की बोली की गिनती साहित्यिक भाषाओं में होने लगी. इसलिए आदरार्थ यह ब्रजभाषा कहकर पुकारी जाने लगी. विशुद्ध रूप से यह उप-भाषा जो पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मथुरा आगरा, अलीगढ़ आदि तथा मध्य प्रदेश के ग्वालियर और राजस्थान में भरतपुर से लेकर जयपुर तक बोली-समझी जाती है.”

    हिंदी के पाणिनि माने जाने वाले आचार्य किशोरीदास बाजपेई ब्रजभाषा का व्याकरण में हिंदी और ब्रजभाषा की उत्पत्ति बताते हुए लिखते हैं, “साधारण बोलचाल की भाषा की अपेक्षा साहित्य की भाषा कुछ विशिष्ट हो जाती है, क्योंकि उसमें कुछ बनाव-सिंगार भी आ जाता है. कुछ सावधानी भी इसके प्रयोग में रखी जाती है. साधारण जनता बोलचाल में ऐसी बारीकी पर नहीं जाती, अपना काम निकालती है.

    भाषा के ये दो रूप आप चाहें जहां देख सकते हैं. हिंदी, अंग्रेजी, मराठी आदि सभी भाषाओं का प्राकृत तथा साहित्यिक रूप अलग-अलग दिखाई देगा. भाषा का यह प्राकृत रूप एक कुदरती जंगल के समान है और साहित्यिक रूप बनाई-संवारी सुंदर वाटिका के समान.’

    इसी तरह कोई प्राकृत या जनभाषा साहित्य में आकर एक नया तथा आकर्षक रूप धारण कर लेती है. फलतः उस आदि भाषा के दो रूप हो गए. जो प्राकृत रूप था, जिसे सब लोग बोलते थे, उसे प्राकृत कहने लगे. और जो भाषा पढ़े-लिखे लोगों की थी, जिसमें वेदादि की रचना होती थी, उसे संस्कृत नाम मिला. क्योंकि उसका संस्कार हो चुका था. वह सुसंस्कृत विद्वानों की साहित्यिक भाषा थी. उस प्राकृत भाषा का विकास होता गया. उससे दूसरे नंबर की प्राकृत हुई. इस दूसरी प्राकृत से अपभ्रंश भाषाएं बनीं और अपभ्रंशों से ब्रजभाषा, हिंदी, बंगला, गुजराती, मराठी आदि भाषाएं बनीं. वे अपभ्रंश भाषाएं हिंदी आदि के रूप में बदल गईं. इस तरह संस्कृत से नहीं बल्कि प्राकृत से हिंदी की उत्पत्ति हुई. हिंदी की बोलियों में केवल तीन को विशेष रूप से साहित्यिक रूप मिला और उनके नाम हैं ब्रजभाषा, अवधी तथा मेरठी जो राष्ट्रभाषा रूप से गृहीत है. मेरठी ही खड़ीबोली है.

    ब्रजभाषा का साहित्य
    हिंदी की जितनी भी बोलियां हैं, सबसे बढ़कर ब्रजभाषा का साहित्य है और सबसे ज्यादा. हिंदी की अन्यान्य बोलियों को छोड़कर क्यों ब्रजभाषा ही उस युग में साहित्य की भाषा बनाई गई, इसके कारण हैं. हमारे पुराने साहित्य के प्रायः सभी महारथी वैष्णव थे, जिनकी श्रद्धा ब्रज पर और ब्रजभाषा पर सबसे ज्यादा थी. परंतु इससे भी बढ़ कर इस भाषा की मधुरता और स्पष्टता थी, जिसने साहित्यिकों का मन चुरा लिया. इसीलिए गोस्वामी तुलसीदास जी ने भी अपनी बहुत सी रचना इस मीठी भाषा में की.

    पुस्तक समीक्षा: आम आदमी का दर्द समेटे है ब्रज भाषा में कहानी संग्रह ‘फूलो’

    थोड़े में बहुत कह देने की अनुपम शक्ति जो इस ब्रजभाषा में है, वह संस्कृत को छोड़कर और किसी भी भाषा में नहीं है. यह इसकी स्वाभाविक शक्ति है. दूसरी बात यह है कि ब्रजभाषा स्वभावतः इतनी मधुर है, जितनी संसार की कोई भी दूसरी भाषा नहीं, संस्कृत भी नहीं. ब्रजभाषा के इन गुणों पर मुग्ध होकर जनता ने इसे अपनाया, साहित्य की भाषा बनाया. ब्रजभाषा में जैसी साहित्य की सृष्टि हुई है, वैसी अभी तक संस्कृत को छोड़कर अन्य किसी भारतीय भाषा में उपलब्ध नहीं है.”

    ब्रजभाषा के लक्षण
    ब्रजभाषा व्याकरण में ब्रजभाषा के लक्षण तथा निकटवर्ती भाषाओं से तुलना करते हुए डॉ. धीरेंद्र वर्मा लिखते हैं, “हिंदी भाषा के अंतर्गत बिहारी तथा राजस्थानी बोलियों के अतिरिक्त आठ बोलियां मुख्य हैं. तीन पूर्वी बोलियों के दो समूह हैं –अवधी, वघेली और छत्तीसगढ़ी. पांच पश्चिमी बोलियों के भी दो समूह हैं – खड़ीबोली, बांगरू और ब्रजभाषा, कनौजी, बुंदेली.”

    ब्रजभाषा की उत्पत्ति
    डॉ. वर्मा ब्रजभाषा की उत्पत्ति में बताते हैं- “उत्पत्ति की दृष्टि से पश्चिमी हिंदी की अन्य बोलियों खड़ी बोली, बांगरू, कनौजी तथा बुंदेली के साथ ब्रजभाषा का संबंध भी शौरसेनी अपभ्रंश तथा प्राकृत से जोड़ा जाता है. शूरसेन ब्रज प्रदेश का ही प्राचीन नाम था. ब्रजभाषा के समान उस समय शौरसेनी प्राकृत भी लगभग समस्त उत्तरी भारत की साहित्यिक भाषा रही है.” विद्वानों के अनुसार तो कदाचित् पाली तथा संस्कृत भी ब्रज या शूरसेन देश की बोली के और भी अधिक प्राचीन रूप के आधार पर बनी हुई साहित्यिक भाषाएं थीं.

    साहित्य की भाषा ब्रजभाषा
    हिंदी साहित्य के इतिहास में आचार्य रामचंद्र शुक्ल गद्य का विकास बताते हुए लिखते हैं, “अब तक साहित्य की भाषा ब्रजभाषा ही रही है, इसे सूचित करने की आवश्यकता नहीं. अतः गद्य की पुरानी रचना जो थोड़ी सी मिलती है, वह ब्रजभाषा ही है. हिंदी का पहला गद्य चौरासी वैष्णवों की वार्ता को माना जाता है जिसकी रचना स्वामी वल्लभाचार्य के पौत्र और गोसाई विट्ठलनाथ जी के पुत्र गोसाई गोकुलनाथ जी द्वारा किया जाना बताया जाता है. लेकिन श्री वल्लभाचार्य जी के पुत्र गोसाई विट्ठलनाथ जी ने ब्रजभाषा में श्रृंगार रस मंडन नामक ग्रंथ ब्रजभाषा में लिखा था.

    यह भी पढ़ें- भूपेन हज़ारिका के गीतों में हैं असम की खुशबू और गंगा की निर्मलता

    नाभादास जी ने संवत् 1660 के आसपास ‘अष्टयाम’, बैकुंठमणि शुक्ल ने संवत् 1680 के लगभग ‘अगहन माहात्म्य’ तथा ‘वैशाख माहात्म्य’, सुरति मिश्र ने संवत् 1767 में संस्कृत से कथा लेकर ‘बैताल पच्चीसी’, (जिसे आगे चलकर लल्लूलाल ने खड़ीबोली में लिखा), संवत् 1852 में लाला हीरालाल ने ‘आईने अकबरी’ आदि ग्रंथों की रचना ब्रजभाषा गद्य में की “

    इसके पश्चात् ब्रजभाषा गद्य का विकास दिखाई नहीं देता. इस प्रकार विक्रम की 13वीं सदी अर्थात् ईसा पूर्व 500-600 से ब्रजभाषा में गद्य लेखन हुआ पाया जाता है और 1000 ईसा पूर्व के बाद जैसे जैसे खड़ी बोली में गद्य लिखा जाने लगा तो ब्रजभाषा गद्य लेखन बंद सा ही हो गया.

    Dinesh Pathak Shashi

    Tags: Books

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर