Home /News /literature /

Jaipur Literature Festival 2022: 28 जनवरी से शुरू होगा 'जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल', जानें क्या होगा खास

Jaipur Literature Festival 2022: 28 जनवरी से शुरू होगा 'जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल', जानें क्या होगा खास

जेएलएफ 2022 का आयोजन गुलाबी नगरी में 28 जनवरी से 1 फरवरी के बीच आयोजित किया जाएगा.

जेएलएफ 2022 का आयोजन गुलाबी नगरी में 28 जनवरी से 1 फरवरी के बीच आयोजित किया जाएगा.

इस वर्ष JLF महोत्सव में 21 भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय भाषाओं के साथ-साथ नोबेल, बुकर (Booker Prize), पुलित्जर पुरस्कार (Pulitzer Prize), पद्म भूषण (Padma Bhushan), पद्मश्री पुरस्कार, साहित्य अकादमी (Sahitya Akademi) जैसे प्रमुख पुरस्कारों से सम्मानित 250 से अधिक वक्ता, लेखक, विचारक, राजनेता, पत्रकार और कलाकार शिरकत कर रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

    JLF 2022: साहित्य जगत का सबसे बड़ा उत्सव कहे जाने वाले ‘जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल’ की घोषणा हो चुकी है. इस बार ‘जेएलएफ 2022’ का आयोजन गुलाबी नगरी में 28 जनवरी से 1 फरवरी के बीच आयोजित किया जाएगा. साहित्य महोत्सव ऑनलाइन और ऑफलाइन, दोनों ही तरीकों से आयोजित किया जाएगा. ऑनलाइन मोड में जेएलएफ का आयोजन 28 जनवरी से शुरू होकर 6 फरवरी तक चलेगा.

    इस वर्ष महोत्सव में 21 भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय भाषाओं के साथ-साथ नोबेल, बुकर (Booker Prize), पुलित्जर पुरस्कार (Pulitzer Prize), पद्म भूषण (Padma Bhushan), पद्मश्री पुरस्कार, साहित्य अकादमी (Sahitya Akademi) जैसे प्रमुख पुरस्कारों से सम्मानित 250 से अधिक वक्ता, लेखक, विचारक, राजनेता, पत्रकार और कलाकार शिरकत कर रहे हैं.

    फेस्टिवल में जावेद अख्तर और शबाना आज़मी द्वारा संपादित पुस्तक “दायरा एंड धनक” सुमन घोष की “सौमित्रा चटर्जी: ए फिल्म मेकर रेमेम्बर्स” और साफिर आनंद की “क्रिसेल्स” का भी लोकार्पण होगा.

    टीमवर्क आर्ट्स (Teamwork Arts) द्वारा दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम के लोकार्पण बताया गया कि लिटरेचर फेस्टिवल में कला और संस्कृति के अनेक रूप देखने को मिलते हैं. इसमें कला, आत्मकथा, व्यवसाय और अर्थशास्त्र, जलवायु परिवर्तन, समसामयिक मामले, भोजन, कविता, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, कृत्रिम बुद्धिमत्ता और लेखन प्रक्रिया आदि जैसे विषय शामिल हैं.

    रवीन्द्र कालिया का गरूर तोड़ना चाहती थी, इसलिए कहानी लिखना शुरू किया- ममता कालिया

    फेस्टिवल के आयोजक संजॉय के. रॉय, निमिता गोखले और विलियम डेलरिम्पल ने देश के सबसे बड़े साहित्य महोत्सव में आयोजित होने वाले कार्यक्रम और उनमें शिरकत करने वाले विभिन्न विषयों के दिग्गजों का परिचय कराया.

    JLF 2022

    नोबेल पुरस्कार विजेता अब्दुलराजाक गुरनाह
    इस बार जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के कुछ मुख्य आकर्षण में नोबेल पुरस्कार विजेता अब्दुलराजाक गुरनाह (Nobel Laureate Abdulrazak Gurnah) का सत्र शामिल है. अब्दुलराजाक गुरनाह को उपनिवेशवाद के प्रभावों और संस्कृतियों व महाद्वीपों के बीच की खाई में शरणार्थी की स्थिति के चित्रण के लिए साहित्य में 2021 नोबल पुरस्कार ( (Nobel Prize for Literature)) से सम्मानित किया गया.

    एक अन्य सत्र में नोबेल पुरस्कार विजेता डैनियल काहनमैन (Daniel Kahneman), प्रोफेसर ओलिवियर सिबोनी (Olivier Sibony) और कानूनी विद्वान कैस आर. (Cass R.) से बातचीत करेंगे. डैनियल कहमैन एक इजरायली मनोवैज्ञानिक और अर्थशास्त्री है जो निर्णय और निर्णय लेने के मनोविज्ञान के साथ-साथ व्यवहार अर्थशास्त्र पर उनके काम के लिए उल्लेखनीय है, जिसके लिए उन्हें आर्थिक विज्ञान में 2002 के नोबेल मेमोरियल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. एक अन्य सत्र में प्रख्यात भारतीय-अमेरिकी अर्थशास्त्री तथा नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत वी. बनर्जी शामिल होंगे.

    Jaipur Literature Festival

    बुकर पुरस्कार विजेता डेमन गलगुट
    2021 के बुकर पुरस्कार विजेता दक्षिण अफ्रीका के लेखक डेमन लेखक डेमन गलगुट (Damon Galgut) अपनी लेखन शैली, प्रक्रिया, प्रेरणा और अपने नवीनतम काम द प्रॉमिस (The Promise) के सार पर चर्चा करेंगे.

    KLF 2021: शक्तिशाली रचना को स्थापित होने के लिए किसी टूल की जरूरत नहीं

    भारतीय-अमेरिकी व्यवसायी और पेप्सिको की पूर्व सीईओ इंदिरा नूयी (Indra Nooyi) के संस्मरण, माई लाइफ इन फुल: वर्क, फैमिली, एंड अवर फ्यूचर (My Life in Full: Work, Family, and Our Future) पर उनके साथ चर्चा करेंगी लेखिका अपर्णा पिरामल राजे (Aparna Piramal Raje).

    अभिनेत्री नीना गुप्ता की आत्मकथा पर चर्चा
    सीमा गोस्वामी (Seema Goswami) के साथ बातचीत में प्रसिद्ध भारतीय अभिनेत्री नीना गुप्ता (Neena Gupta) ग्लैमरस पहलू के पीछे की कहानी, उतार-चढ़ाव, जीत और दिल टूटने पर चर्चा करेंगी जो उसने अपने असाधारण जीवन में की हैं. नीना गुप्ता की आत्मकथा ‘सच कहूं तो’ (Neena Gupta autobiography Sach Kahun Toh) में उन्होंने व्यक्तिगत और पेशेवर, दोनों तरह की अपनी असाधारण यात्रा का वर्णन किया है.

    महानतम विज्ञान-कथा लेखकों में से एक किम स्टेनली रॉबिन्सन (Kim Stanley Robinson) पत्रकार और लेखक रघु कर्नाड (Raghu Karnad) के साथ बातचीत करेंगे.

    कार्यक्रम में प्रख्यात लेखक और इतिहासकार मनु एस. पिल्लई (Manu S. Pillai) और लेखक और राजनेता डॉ. शशि थरूर (Shashi Tharoor) लेखक इरा मुखोती (Ira Mukhoty) के साथ बातचीत करेंगे.

    पद्म भूषण से सम्मानित बीएन गोस्वामी
    इस महोत्सव में पद्म भूषण से सम्मानित बीएन गोस्वामी (BN Goswamy) लेखक और फेस्टिवल के सह-निदेशक विलियम डेलरिम्पल के साथ चर्चा करेंगी. बृजिंदर नाथ गोस्वामी भारतीय कला समीक्षक और कला इतिहासकार हैं. गोस्वामी को पहाड़ी चित्रकला और भारतीय लघु चित्रों पर उनकी विद्वता के लिए जाना जाता है.

    मैं लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड में गेंदबाजी करना चाहता था- गीत चतुर्वेदी

    बांग्लादेश से भी कई लेखक और पत्रकार
    कार्यक्रम में बांग्लादेश से भी कई लेखक और पत्रकार शामिल हो रहे हैं. बांग्लादेश के प्रमुख अंग्रेजी दैनिक समाचार पत्र द डेली स्टार (The Daily Star) के संपादक महफूज अनम (Mahfuz Anam) द बंगालीज: ए पोर्ट्रेट ऑफ ए कम्युनिटी और द ईस्टर्न गेट (The Bengalis: A Portrait of a Community and The Eastern Gate) के लेखक सुदीप चक्रवर्ती के साथ बातचीत करेंगे. पूर्व राजनयिक और स्तंभकार पिनाक रंजन चक्रवर्ती भी सत्र का हिस्सा होंगे.

    लेखक और क्यूरेटर सुजाता प्रसाद, सर गंगा राम अस्पताल में वैस्कुलर कैथ लैब के लेखक और निदेशक डॉ. अंबरीश सात्विक, विक्रम सम्पत (Vikram Sampath), पूर्व पुर्तगाली राजनेता और लेखक ब्रूनो माईस, अंग्रेजी लेखिका अरुंधति सुब्रमण्यम (Arundhathi Subramaniam), पत्रकार एवं नर्तकी तिशानी दोषी (Tishani Doshi), यशस्विनी चन्द्र जैसे चर्चित लेखक सम्मेलन में विभिन्न विषयों पर अपने विचार प्रस्तुत करेंगे.

    गायक रेमो फर्नांडीस
    गायक रेमो फर्नांडीस (Remo Fernandes) से बातचीत करेंगे जेएलएफ के प्रबंध निदेशक संजॉय कुमार रॉय (Sanjoy K Roy). इस संवाद में रेमो संगीत, कला, लेखन और अपनी मातृभूमि गोवा में अपने जीवन पर चर्चा करेंगे. संजॉय के. रॉय डॉली ठाकोर (Dolly Thakore), लेखक और पटकथा लेखक अर्ध्या लहरी (Arghya Lahiri), लेखिका रितु मेनन (Ritu Menon) के साथ भी अलग-अलग विषयों पर चर्चा करेंगे.

    जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के विमोचन में राजस्थान के कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने कहा, “हमें हर्ष
    है कि जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल गुलाबी शहर में वापस लौट रहा है. हमारा मानना है कि फेस्टिवल सही मायनों में भारतीय और विदेशी लेखकों को ऐसा मंच प्रदान करता है, जहां से वो हमारे साहित्य और संस्कृति को समृद्ध करते हैं.”

    लेखिका, प्रकाशक और जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल की को-डायरेक्टर नमिता गोखले (Namita Gokhale) ने कहा, “मेरे साथी डायरेक्टर विलियम डेलरिम्पल, प्रोडूसर संजॉय के. रॉय और टीमवर्क की हमारी प्रतिभाशाली टीम ने मिलकर ऑनलाइन और ऑफलाइन एक ऐसा प्रोग्राम तैयार किया है, जो फेस्टिवल की चेतना और बदलते समय की धड़कन को ध्यान में रखते हुए एक नया संतुलन लाने को अग्रसर है.”

    लेखक, इतिहासकार और जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के को-डायरेक्टर विलियम डेलरिम्पल (William Dalrymple) ने कहा, ”हर साल हम दुनिया भर से फिक्शन और नॉन फिक्शन लिखने वाले श्रेष्ठ लेखकों को जयपुर लेकर आते हैं, लेकिन ऐसा असाधारण संयोग कभी नहीं बना. इस साल नोबेल पुरस्कार विजेता, बुकर प्राइज से सम्मानित और पद्म सम्मानों से सम्मानित लेखक एकसाथ जुट रहे हैं.”

    टीमवर्क आर्ट्स के मैनेजिंग डायरेक्टर और जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के प्रोडूसर संजॉय के. रॉय (Sanjoy K. Roy) ने कहा, “जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल हमेशा से एक अनोखा मंच रहा है, जहां देश और दुनिया के साहित्य और ज्ञान को बेहद कलात्मकता से प्रस्तुत किया जाता है. इन बीते दो सालों में हमने बहुत सारी परेशानियां देखी हैं. अब जब हम एक नए साल में प्रवेश करने वाले हैं, तो हम विश्व के उन प्रतिनिधियों के शब्दों को आत्मसात करेंगे, जिन्होंने इस मुश्किल समय में अपनी सार्थकता बचाए रखी.”

    जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के बारे में ज्यादा जानकारी वेबसाइट jaipurliteraturefestival.org से हासिल की जा सकती है

    Tags: Hindi Literature, Jaipur news, Literature, Rajasthan live news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर