Home /News /literature /

हास्य कवि सरदार मनजीत सिंह 'काका हाथरसी हास्य रत्न' से सम्मानित

हास्य कवि सरदार मनजीत सिंह 'काका हाथरसी हास्य रत्न' से सम्मानित

इस वर्ष का 'काका हाथरसी हास्य रत्न सम्मान' प्रसिद्ध कवि सरदार मनजीत सिंह को प्रदान किया गया.

इस वर्ष का 'काका हाथरसी हास्य रत्न सम्मान' प्रसिद्ध कवि सरदार मनजीत सिंह को प्रदान किया गया.

काका हाथरसी पुरस्कार ट्रस्ट, हाथरस (Kaka Hathrasi Puraskar Trust) द्वारा प्रतिवर्ष एक सर्वश्रेष्ठ हास्य कवि को प्रदान किया जाता है. पुरस्कार के तहत शॉल, श्रीफल के साथ एक लाख रुपए नकद दिए जाते हैं. इस पुरस्कार की शुरूआत वर्ष 1975 से हुई. वर्तमान में प्रसिद्ध कवि अशोक चक्रधर इस ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं. प्रख्यात गीतकार गोपाल दास नीरज भी इस ट्रस्ट के अध्यक्ष रह चुके हैं. अशोक गर्ग काका हाथरसी पुरस्कार ट्रस्ट के मैनेजिंग ट्रस्टी हैं.

अधिक पढ़ें ...

    Hindi Sahitya News: प्रसिद्ध हास्य कवि सरदार मनजीत सिंह को इस वर्ष के ‘काका हाथरसी हास्य रत्न सम्मान’ से सम्मानित किया गया है. नई दिल्ली स्थित प्यारेलाल भवन में आयोजित हास्य कवि काका हाथरसी सम्मान समारोह में पूर्व केंद्रीय मंत्री तथा सांसद डॉ. हर्षवर्धन ने कवि मनजीत सिंह को हास्य रत्न की उपाधी देकर सम्मानित किया.

    काका हाथरसी पुरस्कार ट्रस्ट (Kaka Hathrasi Puraskar Trust) तथा राजस्थान क्लब (Rajasthan Club) के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस समारोह में हरियाणा के प्रसिद्ध हास्य कवि तथा पद्मश्री से सम्मानित सरदार मनजीत सिंह सम्मान पत्र, एक लाख रुपये की राशि का चेक और स्मृति चिह्न भेंट किया गया.

    कार्यक्रम में संगीत विशेषज्ञ डा. मुकेश गर्ग को ‘काका हाथरसी आजीवन संगीत सेवा सम्मान’ भी प्रदान किया गया.

    काका हाथरसी एक कवि होने के साथ-साथ संगीत के भी विद्वान थे. उन्हीं की याद में पहली बार ‘काका हाथरसी आजीवन संगीत सेवा सम्मान’ शुरू किया गया है. इस सम्मान में स्मृति चिह्न, श्रीफल और 25 हजार रुपये की नकद राशि प्रदान की जाती है.

    पूर्व केंद्रीय मंत्री डा. हर्षवर्धन, काका हाथरसी के पौत्र अशोक गर्ग और प्रसिद्ध हास्य कवि सुरेंद्र शर्मा ने ‘काका हाथरसी पुरस्कार ट्रस्ट’ की ओर से ये पुरस्कार प्रदान किए.

    Poet Sardar Manjeet Singh

    काका हाथरसी पुरस्कार ट्रस्ट, हाथरस (Kaka Hathrasi Puraskar Trust) द्वारा प्रतिवर्ष एक सर्वश्रेष्ठ हास्य कवि को प्रदान किया जाता है. पुरस्कार के तहत शॉल, श्रीफल के साथ एक लाख रुपए नकद दिए जाते हैं. इस पुरस्कार की शुरूआत वर्ष 1975 से हुई. वर्तमान में प्रसिद्ध कवि अशोक चक्रधर (Ashok Chakradhar)  इस ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं. प्रख्यात गीतकार गोपाल दास नीरज (Gopaldas Neeraj) भी इस ट्रस्ट के अध्यक्ष रह चुके हैं. अशोक गर्ग (Kaka Hathrasi grandson Ashok Garg) काका हाथरसी पुरस्कार ट्रस्ट के मैनेजिंग ट्रस्टी हैं.

    Book Review: समाज की जकड़नों से मुक्तिसंदेश लेकर आई है ‘आँगन की गौरैया’

    इस अवसर पर डॉ. हर्षवर्धन (Dr Harsh vardhan) ने कहा कि काका हाथरसी ने एक सामान्य जीवन जीते हुए ऊंचाइयों को छुआ. चाट-पकौड़ी का ठेला लगाने से लेकर अन्य छोटे-छोटे कार्यों को करते हुए उन्होंने देश-दुनिया में नाम कमाया.

    Kaka Hathrasi News

    हास्य कवि सुरेंद्र शर्मा (Kavi Surendra Sharma) ने कहा कि हिंदी काव्य में हास्य को ऊंचाइयों पर ले जाने में काका हाथरसी का महत्वपूर्ण योगदान है. मुझे गर्व है कि मैं उनकी हास्य परंपरा का कवि हूं.

    उन्होंने काका हाथरसी के अंतिम दिनों का स्मरण करते हुए कहा कि काका की इच्छा थी कि मृत्यु के बाद उनके शव को ऊंट गाड़ी पर ले जाया जाए और सभी लोग श्मशान में हंसते-गाते हुए जाएं. साथ ही श्मशान घाट में हास्य कवि सम्मेलन हो. मृत्यु पर उनकी सभी इच्छाओं को पूरा किया गया.

    Kaka Hathrasi Hasya Kavita

    इस दौरान काका हाथरसी के परिवार के सभी सदस्य मौजूद थे. पुरस्कार समारोह के लिए काका हाथरसी के पौत्र अशोक गर्ग अमेरिका से अपने परिवार सहित दिल्ली पहुंचे थे.

    कार्यक्रम में युवा कवयित्री मनीषा शुक्ला की पुस्तक ‘मीठा कागज’ का भी विमोचन किया गया. इसके बाद कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया. कवि सम्मेलन में हास्य कवि सुरेन्द्र शर्मा, कवि गजेंद्र सोलंकी, अरुण जैमिनी, महेंन्द्र अजनबी, वेदप्रकाश वेद, मनीषा शुक्ला, महेश गर्ग बेधड़क और चिराग जैन ने काव्य पाठ किया.

    Tags: Hindi Literature

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर