• Home
  • »
  • News
  • »
  • literature
  • »
  • केंद्रीय हिंदी सस्थान, आगरा के 'हिंदी सेवी पुरस्कार 2018' की घोषणा, 26 विद्वान सम्मानित

केंद्रीय हिंदी सस्थान, आगरा के 'हिंदी सेवी पुरस्कार 2018' की घोषणा, 26 विद्वान सम्मानित

केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा के उपाध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा जोशी और निदेशक बीना शर्मा ने हिंदी सेवी पुरस्कार के लिए चुने गए विद्वानों की घोषणा की.

केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा के उपाध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा जोशी और निदेशक बीना शर्मा ने हिंदी सेवी पुरस्कार के लिए चुने गए विद्वानों की घोषणा की.

केंद्रीय हिंदी संस्थान के हिंदी सेवा सम्मान योजना के अंतर्गत 12 पुरस्कार श्रेणियों में विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाले 26 हिंदी सेवी विद्वानों को हर वर्ष सम्मानित किया जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    KHS Hindi Sevi Awards: केंद्रीय हिंदी सस्थान, आगरा (Kendriya Hindi Sansthan Agra) ने वर्ष 2018 के लिए सम्मानित हिंदी सेवी विद्वानों (Hindi Sevi Awards) की घोषणा की है. केंद्रीय हिंदी सस्थान ने विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाले 26 हिंदी सेवी विद्वानों को सम्मानित करने का फैसला किया है.

    केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा के उपाध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा जोशी ने बताया कि देश के विभिन्न क्षेत्रों में हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए कार्य कर रहे 24 विद्वानों को वर्ष 2018 के लिए विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित किया जाएगा.

    जिन हिंदी विद्वानों को पुरस्कार के लिए चुना गया है, वे इस प्रकार हैं-

    गंगा शरण सिंह पुरस्कार
    1- के. श्रीलता (केरल)
    2- बलवंत जानी (गुजरात)
    3- एल. वी. के. श्रीधरन (तमिलनाडु)
    4- राजेन्द्र प्रसाद मिश्र (ओडिशा)

    गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार
    1- अनंत विजय (बिहार)
    2- हेमंत शर्मा (बनारस, उत्तर प्रदेश)

    आत्माराम पुरस्कार
    1- कृष्ण कुमार मिश्र (जौनपुर, उत्तर प्रदेश)
    2- प्रेमव्रत शर्मा (गाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश)

    सुब्रह्मण्य भारती पुरस्कार
    1- बालस्वरूप राही (दिल्ली)
    2- माधव कौशिक (हरियाणा)

    महापंडित राहुल सांकृत्यायन पुरस्कार
    1- नर्मदा प्रसाद उपाध्याय (मध्य प्रदेश)
    2- जयप्रकाश (चंडीगढ़)

    डॉ. जॉर्ज ग्रियर्सन पुरस्कार
    1- हाइंस वरनर वैसलर (जर्मनी)
    2- शरणगुप्त वीरसिंह (श्रीलंका)

    पद्मभूषण डॉ. मोटूरी सत्यनारायण पुरस्कार
    1- स्वामी संयुक्तानंद (फीजी)
    2- मृदुल कीर्ति (अमेरिका)

    सरदार वल्लभ भाई पटेल पुरस्कार
    1- जीत सिंह जीत (दिल्ली)
    2- रवींद्र सेठ (गाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश)

    दीनदयाल उपाध्याय पुरस्कार
    1- सच्चिदानंद जोशी (मध्य प्रदेश)
    2- चंद्र प्रकाश द्विवेदी (राजस्थान)

    स्वामी विवेकानंद पुरस्कार
    1- मनोज कुमार श्रीवास्तव (मध्य प्रदेश)
    2- सरोज बाला (पंजाब)

    पंडित मदन मोहन मालवीय पुरस्कार
    1- अतुल कोठारी (राजस्थान)
    2- राजकुमार भाटिया (दिल्ली)

    राजर्षि पुरुषोत्तम दास टंडन पुरस्कार
    1- रमेश चंद्र नागपाल (गाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश)
    2- शैलेंद्र कुमार अवस्थी (लखनऊ, उत्तर प्रदेश)

    केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा (Kendriya Hindi Sansthan Agra)
    केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा के उपाध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा जोशी (Anil Kumar Sharma Joshi) ने बताया कि भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के उच्चतर शिक्षा विभाग (भाषा प्रभाग) के अंतर्गत केंद्रीय हिंदी संस्थान, आगरा विदेशी भाषा के रूप में हिंदी के शिक्षण-प्रशिक्षण, अनुसंधान और बहुआयामी विकास के लिए कार्यरत एक शैक्षिक संस्था है. इसका संचालन स्वायत्त संगठन केंद्रीय हिंदी शिक्षण मंडल द्वारा किया जाता है.

    संस्थान के हिंदी सेवा सम्मान योजना के अंतर्गत 12 पुरस्कार श्रेणियों में विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य करने वाले 26 हिंदी सेवी विद्वानों को हर वर्ष सम्मानित किया जाता है. पुरस्कृत विद्वानों को 5 लाख रुपये, शॉल तथा प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है.

    स्वामी रामभद्रचार्य, रस्किन बॉन्ड और विनोद कुमार शुक्ल को साहित्य अकादमी फेलोशिप

    हिंदी सेवा सम्मान योजना की शुरूआत वर्ष 1989 में हुई थी और वर्ष 2017 तक विभिन्न श्रेणियों में कुल 451 विद्वान सम्मानित किए जा चुके हैं.

    केंद्रीय हिंदी संस्थान की निदेशक बीना शर्मा ने बताया कि पुरस्कारों के लिए विद्वानों के चयन पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री तथा केंद्रीय हिंदी शिक्षण मंडल के अध्यक्ष धर्मेंद्र प्रधान के अनुमोदन के बाद विद्वानों की सूची जारी की गई है.

    सच्चिदानंद जोशी (Sachchidanand Joshi)
    इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र, दिल्ली के सदस्य सचिव डॉ. सच्चिदानंद जोशी हिंदी के प्रकाण्ड विद्वान, वरिष्ठ साहित्यकार और पत्रकार हैं. प्रभात प्रकाशन से प्रकाशित सच्चिदानंद जोशी की पुस्तकें पलभर को पहचान, कुछ अल्प विराम और सच्चिदानंद जोशी की लोकप्रिय कहानियां काफी चर्चित रही हैं. एक कविता-संग्रह ‘मध्यांतर’ बहुत चर्चित हुआ है. पत्रकारिता के इतिहास पर इनकी दो पुस्तकें आ चुकी हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज