Home /News /literature /

World Book Fair 2022: विश्व पुस्तक मेले के मंच पर इस बार रहेगा 'नन्हें लेखकों' का बोलबाला

World Book Fair 2022: विश्व पुस्तक मेले के मंच पर इस बार रहेगा 'नन्हें लेखकों' का बोलबाला

NBT के निदेशक युवराज मलिक ने बताया कि इस बार विश्व पुस्तक मेला अपने 50 साल पूरे कर रहा है और पुस्तक मेले की थीम 'आज़ादी का अमृत महोत्सव' रहेगी.

NBT के निदेशक युवराज मलिक ने बताया कि इस बार विश्व पुस्तक मेला अपने 50 साल पूरे कर रहा है और पुस्तक मेले की थीम 'आज़ादी का अमृत महोत्सव' रहेगी.

8 जनवरी, 2022 से दिल्ली के प्रगति मैदान में देश-दुनिया के साहित्यकार, प्रकाशक और पुस्तक प्रेमियों का 'साहित्य-महाकुंभ' (New Delhi World Book Fair 2022) शुरू होने जा रहा है. इस बार का पुस्तक मेला कई मायनों में बहुत खास है. इस बार मेले का आकर्षण चिल्ड्रंस ऑथर पवेलियन (Children Author Pavilion) रहेगा. यहां बाल साहित्यकार को मंच प्रदान किया जाएगा. मेले में बच्चों के लिए अलग से पवेलियन भी होगा.

अधिक पढ़ें ...

New Delhi World Book Fair 2022 News: ‘नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला 2022’ के आयोजन का काउंटडाउन शुरू हो गया है. 8 जनवरी, 2022 से दिल्ली के प्रगति मैदान में देश-दुनिया के साहित्यकार, प्रकाशक और पुस्तक प्रेमियों का ‘साहित्य-महाकुंभ’ शुरू होने जा रहा है. इस बार का पुस्तक मेला कई मायनों में बहुत खास है. ‘नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेले’ का आयोजन सर्वप्रथम वर्ष 1972 में किया गया था और इस तरह 2022 में यह मेला अपनी 50 वर्षगांठ मनाएगा. इसके लिए मेले में एक विशेष प्रदर्शनी भी आयोजित की जाएगी.

विश्व पुस्तक मेले का दूसरा आकर्षण चिल्ड्रंस ऑथर पवेलियन (Children Author Pavilion) रहेगा. यह पवेलियन बाल लेखकों को समर्पित रहेगा.

पुस्तक मेला के आयोजन को लेकर हमने ‘विश्व पुस्तक मेला 2022’ के आयोजक ‘राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत’ (National Book Trust,  India- NBT) के निदेशक युवराज मलिक (Yuvraj Malik) से लंबी बातचीत की.

World Book Fair 2022

युवराज मलिक (Yuvraj Malik) ने बताया कि नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला का आयोजन नेशनल बुक ट्रस्ट करता है. पहला नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेला (First New Delhi World Book Fair) 18 मार्च से 4 अप्रैल, 1972 तक आयोजित किया गया था. तभी से यह मेला प्रगति मैदान (Pragati Maidan) में आयोजित किया जाता है. 2021 में कोरोना महामारी के चलते मेले का आयोजन वर्चुअल माध्यम से हुआ था.

कमाठीपुरा की गलियों ने बताया किसी जगह पर आप क्यों गलत साबित हो सकते हैं- शिरीष खरे

पहले विश्व पुस्तक मेला के बारे में उन्होंने बताया कि पहली बार इस मेले में देश के विभिन्न क्षेत्रों से 200 प्रतिभागियों ने शिरकत की थी. कोलकाता पुस्तक मेले (Kolkata Book Fair) के बाद यह भारत का सबसे पुराना पुस्तक मेला है. पहले नई दिल्ली विश्व पुस्तक मेले का उद्घाटन भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति वीवी गिरी ने किया था.

New Delhi World Book Fair

पुस्तक मेले का खास आकर्षण
विश्व पुस्तक मेला अपने आयोजन का अर्धशतक पूरा कर रहा है. इस बार पुस्तक मेले के खास आकर्षण के सवाल पर एनबीटी के डायरेक्टर युवराज मलिक (Yuvraj Malik) ने बताया कि पूरा देश आज़ादी का अमृत महोत्सव (Azadi Ka Amrit Mahotsav) मना रहा है. इसलिए इस बार पुस्तक मेले की थीम भी आज़ादी का अमृत महोत्सव है. अमृत महोत्सव पर एक अलग से पवेलियन बनाया जाएगा. इस बार का अतिथि देश फ्रांस है.

विभाजन की त्रासदी का खाका है अलका सरावगी का ‘कुलभूषण का नाम दर्ज कीजिए’

बाल साहित्यकार पवेलियन (Children Author Pavilion)
अलगे वर्ष जनवरी में आयोजित होने वाले पुस्तक मेले का सबसे खास आकर्षण रहेगा चिल्ड्रंस ऑथर पवेलियन (Children Author Pavilion). युवराज मलिक ने बताया कि इस बार एनबीटी (NBT) बाल लेखकों पर फोकस कर रहा है. देशभर से नन्हें लेखकों को आमंत्रित किया जा रहा है. उन्हें एक अलग मंच प्रदान किया जाएगा. इस मंच पर बाल साहित्य से जुड़ी गतिविधियां होंगी. नन्हें लेखकों की पुस्तकों का लोकार्पण किया जाएगा. बाल साहित्य पर चर्चाओं का आयोजन होगा. नन्हें लेखकों को सम्मानित भी किया जाएगा.

बाल साहित्य: अलका सिन्हा की कहानी ‘वह बड़ा हो गया था…’

साहित्य (Sahitya) के प्रचार-प्रसार में पुस्तक मेले की भूमिका के प्रश्न पर राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के निदेशक युवराज मलिक (NBT Director Yuvraj Malik) ने बताया कि पुस्तक मेले में क्षेत्रीय भाषाओं के प्रकाशकों को मंच मिलता है. एक ही प्लेटफॉर्म पर देश-विदेश के प्रकाशक जुटते हैं. भारतीय भाषाओं के साथ-साथ विदेशी साहित्य से भी लोगों को रू-ब-रू होने का मौका मिलता है.

डिजिटल होती दुनिया में किताबों के महत्व पर उन्होंने कहा कि नेशनल बुक ट्रस्ट ने हमेशा पुस्तक पढ़ने को बढ़ावा दिया है. प्रत्यक्ष किताबें पढ़ने वालों की संख्या अभी भी काफी है और निरतंर इसमें वृद्धि हो रही है.

nbt book store

युवराज मलिक कहते हैं कि किताबें ज्ञान का वो संग्रह हैं जो आप अपने पास हमेशा रख सकते हैं. उन्होंने बताया कि पढ़ने की आदत को बढ़ावा देने के लिए एनबीटी रीडर्स क्लब मूवमेंट भी चलाता जाता है.

नए लेखकों को प्रोत्साहन
लेखन की दुनिया में ज्यादा से ज्यादा लोग आएं, इसके लिए एनबीटी ने प्रकाशन पाठ्यक्रम शुरू किया है. पुस्तक प्रकाशन (Course on Book Publishing) से जुड़े कोर्स भी शुरू किए गए हैं. युवा योजना शुरू की गई है, जिसमे कई युवा लेखकों को मंच देने का काम किया जा रहा है.

काका हाथरसी हास्य कवि सम्मेलन में कभी हंसी और ठहाकों की फुहार, तो कभी गंभीर कटाक्ष

नेशनल बुक ट्रस्ट की अन्य गतिविधियों के बारे में एनबीटी के निदेशक ने बताया कि एनबीटी विभिन्न गतिविधियों जैसे रीडिंग सेशन, कहानी सुनाना आदि का आयोजन करता रहता है. अलग-अलग भाषाओं में अनुवाद कार्यशालाओं (Translation Workshop) का भी आयोजन किया जाता है. देशभर में अलग-अलग जगहों पर पुस्तक प्रदर्शनियों का आयोजन किया जाता है.

Translation Workshop

युवराज मलिक कहते हैं ‘साहित्य प्रत्येक लेखक (Author) के लिए अभिव्यक्ति के रूप में कार्य करता है. साहित्य मानवता का प्रतिबिंब है और हमारे लिए एक-दूसरे को समझने का एक तरीका है. किताबें पढ़ने-पढ़ाने से शब्दावली और भाषा कौशल बढ़ाता है.’

दुष्यंत कुमार, पाश और अदम गोंडवी की रचनाओं ने प्रभावित किया है- मनीष सिसोदिया

राष्ट्रीय पुस्तक न्यास, भारत (National Book Trust, India)
राष्ट्रीय पुस्तक न्यास भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधीन स्वायत्त प्रकाशन समूह है. एनबीटी की स्थापना वर्ष 1957 में हुई थी. ट्रस्ट द्वारा अब तक 37,420 से अधिक पुस्तकें प्रकाशित की जा चुकी हैं. 4350 अनुवाद प्रकाशित हो चुके हैं. एनबीटी द्वारा 58 भारतीय भाषाओं में पुस्तकें प्रकाशित की जाती हैं. इसके अलावा छह विदेशी भाषाओं में भी पुस्तकों का प्रकाशन होता है.

NBT Mobile Exhibition Van

एनबीटी की मोबाइल प्रदर्शनी वैन भी हैं. ये चलती-फिरती लाइब्रेरी हैं. देश के अलग-अलग हिस्सों में ये मोबाइल प्रदर्शनी वैन घूम-घूम कर साहित्य का प्रचार-प्रसार का काम करती हैं. इनमें लोग पुस्तकें देख व खरीद सकते हैं. पुस्तकों की खरीद पर आकर्षक छूट दी जाती है.

Tags: Hindi Literature

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर