Home /News /literature /

writers rejoice over geejanjali shree ret samadhi getting booker said hindi literature got international recognition nodaa

रेत समाधि को मिले बुकर पर लेखकों में हर्ष, कहा - हिंदी लेखन को मिली अंतरराष्ट्रीय पहचान

गीतांजलि श्री के हिंदी उपन्यास को बुकर सम्मान मिलने पर हिंदी साहित्यकारों ने खुशी जताई.

गीतांजलि श्री के हिंदी उपन्यास को बुकर सम्मान मिलने पर हिंदी साहित्यकारों ने खुशी जताई.

British Publisher: बुकर सम्मान के चयन में यह अनिवार्य शर्त है कि वह किताब किसी भी ब्रिटेन के प्रकाशक से प्रकाशित हुई हो. इस पुरस्कार पर प्रतिक्रिया देते वक्त अमूमन सारे लेखकों ने इस बात पर दुख जताया. उनका मानना है कि इस अनिवार्य शर्त का खमियाजा कई लेखकों को भुगतना पड़ा है और भविष्य में भी यह लेखकों के लिए बाधक बनेगा. प्रतिक्रिया देने वालों का कहना है कि हर लेखक की पहुंच ब्रिटिश प्रकाशक तक नहीं होती.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. हिंदी की वरिष्ठ लेखिका गीतांजलि श्री के उपन्यास ‘रेत समाधि’ को अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार का मिलना हिंदी साहित्य संसार के लिए बेहद सम्मान की बात है. इससे पहले कई भारतीय लेखकों को यह सम्मान मिल चुका है, लेकिन हिंदी के लिए मिला यह पहला बुकर सम्मान है. इस सम्मान के बाद हिंदी के कई रचनाकारों ने इसे हिंदी के लिए मील का पत्थर बताया.

बता दें कि गीतांजलि श्री के उपन्यास ‘रेत समाधि’ का अंग्रेजी अनुवाद डेजी रॉकवेल ने ‘टूंब ऑफ सैंड’ के नाम से किया है. बुकर सम्मान के चयन में यह अनिवार्य शर्त है कि वह किताब ब्रिटेन के किसी भी प्रकाशक से प्रकाशित हुई हो. इस पुरस्कार पर प्रतिक्रिया देते वक्त अमूमन सारे लेखकों ने इस बात पर दुख जताया. उनका मानना है कि इस अनिवार्य शर्त का खमियाजा कई लेखकों को भुगतना पड़ा है और भविष्य में भी यह लेखकों के लिए बाधक बनेगा. प्रतिक्रिया देने वालों का कहना है कि हर लेखक की पहुंच ब्रिटिश प्रकाशक तक नहीं होती. ऐसे में इस शर्त का साथ छोड़ देना चाहिए.

यह बाड़बंदी टूटेगी : महुआ माजी

उपन्यास 'ग्लोबल गांव के देवता' के लेखक रणेंद्र

उपन्यास ‘मैं बोरिशाइल्ला’ की लेखिका महुआ माजी.

उपन्यास ‘मैं बोरिशाइल्ला’ की लेखिका महुआ माजी ने कहा ‘हम सभी हिंदीवालों के लिए यह बहुत बड़ी उपलब्धि है. चूंकि अब तक हिंदी की किसी भी लेखिका को, बल्कि कहना चाहिए कि हिंदी की किसी भी रचना को बुकर नहीं मिला था. अंतरराष्ट्रीय बाजार में हिंदी लेखक-लेखिकाओं का सही तरह से जिक्र भी नहीं होता था, मन में यह कचोट रह जाती थी कि अंतरराष्ट्रीय या विश्व साहित्य में हिंदी के लेखक कहां हैं. दूसरी बात कि जिस देश में प्रेमचंद को लोग प्रेमचंद्र बोल देते हैं, ऐसे समय में किसी हिंदी लेखिका को बुकर पुरस्कार से नवाजा जाना सुखद है.’ रेत समाधि पर बात करते हुए महुआ माजी ने प्रकाशकों की भूमिका को महत्त्वपूर्ण बताया. उन्होंने कहा कि राजकमल ने गीताजंलि श्री पर भरोसा जताया, उन्हें लगातार प्रकाशित किया, यह भी सुखद है. इसके साथ ही उन्होंने बुकर पुरस्कार के लिए किसी किताब का ब्रिटिश पब्लिशर के पास से छपे होने की शर्त पर अफसोस जताया. उन्होंने उम्मीद जताई कि एक न एक दिन यह बाड़बंदी टूटेगी.

बात कहने का अंदाज नया : रणेंद्र

International Booker Prize, Booker Prize, Booker Prize for Tomb of Sand, Booker Prize for Hindi, Tomb of Sand, Gitanjali Shree, ret Samadhi, ret Samadhi of Geejanjali Shree, Booker Prize for ret Samadhi, Booker Award for Hindi for the first time, Introduction to Gitanjali Shree, Who is Gitanjali Shree, Sahitya Samman, Hindi literature, novel writing, novel sand samadhi, Rajkamal Publications, Ashok Maheshwari, Daisy Rockwell, maai, hamara shahar us baras, tirohit, khali jagah, News 18 hindi Original, अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार, बुकर पुरस्कार, हिंदी को बुकर पुरस्कार, गीतांजलि श्री, रेत समाधि, गीजांजलि श्री की रेत समाधि, रेत समाधि को बुकर पुरस्कार, हिंदी को पहली बार मिला बुकर सम्मान, गीतांजलि श्री का परिचय, कौन हैं गीतांजलि श्री, साहित्य सम्मान, हिंदी साहित्य, उपन्यास लेखन, उपन्यास रेत समाधि, राजकमल प्रकाशन, अशोक महेश्वरी, डेजी रॉकवेल, माई, हमारा शहर उस बरस, तिरोहित, खाली जगह,

उपन्यास ‘ग्लोबल गांव के देवता’ के लेखक रणेंद्र.

भारतीय ज्ञानपीठ से हाल ही में छपकर आए उपन्यास ‘ग्लोबल गांव के देवता’ के लेखक रणेंद्र कहते हैं कि बेशक यह हिंदी के लिए सम्मान की बात है. उन्होंने गीतांजलि श्री की भाषा पर चर्चा करते हुए निर्मल वर्मा तक को याद किया. उन्होंने कहा कि किसी भी रचना के लिए भाषा में मेटाफर का इस्तेमाल बहुत मायने रखता है. गीतांजलि श्री ने अपने उपन्यास में ऐसा नहीं कि कोई बेहद नई बात कह दी हो. बात उन्होंने वही कही जो बाकी सब कहते हैं, लेकिन गीतांजलि श्री के बात कहने का अंदाज नया रहा. यह भाषा में रूपकों का ही कमाल होता है कि सुनी-सुनाई बात भी बिल्कुल नई लगती है. सचमुच, ‘रेत समाधि’ को बुकर सम्मान मिलना हिंदी समाज के लिए बहुत गौरव की बात है.

पाठक से पर्याप्त धीरज की मांग : आशुतोष कुमार

International Booker Prize, Booker Prize, Booker Prize for Tomb of Sand, Booker Prize for Hindi, Tomb of Sand, Gitanjali Shree, ret Samadhi, ret Samadhi of Geejanjali Shree, Booker Prize for ret Samadhi, Booker Award for Hindi for the first time, Introduction to Gitanjali Shree, Who is Gitanjali Shree, Sahitya Samman, Hindi literature, novel writing, novel sand samadhi, Rajkamal Publications, Ashok Maheshwari, Daisy Rockwell, maai, hamara shahar us baras, tirohit, khali jagah, News 18 hindi Original, अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार, बुकर पुरस्कार, हिंदी को बुकर पुरस्कार, गीतांजलि श्री, रेत समाधि, गीजांजलि श्री की रेत समाधि, रेत समाधि को बुकर पुरस्कार, हिंदी को पहली बार मिला बुकर सम्मान, गीतांजलि श्री का परिचय, कौन हैं गीतांजलि श्री, साहित्य सम्मान, हिंदी साहित्य, उपन्यास लेखन, उपन्यास रेत समाधि, राजकमल प्रकाशन, अशोक महेश्वरी, डेजी रॉकवेल, माई, हमारा शहर उस बरस, तिरोहित, खाली जगह,

वरिष्ठ लेखक आशुतोष कुमार.

वरिष्ठ लेखक आशुतोष कुमार कहते हैं कि जश्न का बहाना इस उधेड़बुन में नहीं गंवाना चाहिए कि यह भारतीय भाषाओं में लिखा गया सर्वश्रेष्ठ उपन्यास है या नहीं. बेशक हमारे पास कई बेशकीमती चीजें हैं, लेकिन इसमें संदेह नहीं कि रेत समाधि एक बड़ी किताब है. टूम ऑफ सैंड को मिला यह बुकर जितना लेखिका गीतांजलि श्री का है, उतना ही अनुवादक डेजी रॉकवेल का भी. गीतांजलि श्री के लेखन शैली पर आशुतोष कुमार कहते हैं ‘गीतांजलि श्री एक वाचक की तरह कहानी कहने से परहेज करती हैं. वे चाहती हैं, कहानी खुद को कहे. कहानी जैसे एक जीव हो, जिसको उसका मुकम्मल पर्यावास मिल जाए, तो सहज ही बोलने लग जाए. गीतांजलि उसके समूचे ब्रह्मांड को रचना चाहती हैं. हर कोने को, हर सांस को, फुर्सत से सहेजना चाहती हैं. वे पाठक से पर्याप्त धीरज की मांग करती हैं. लेकिन अगर एकबार पाठक इस वातावरण में रम जाए, वो कहानी की हर धड़कन को बोलते सुन सकता है.

हिंदी के गंभीर साहित्य को अंतरराष्ट्रीय पहचान : प्रभात रंजन

International Booker Prize, Booker Prize, Booker Prize for Tomb of Sand, Booker Prize for Hindi, Tomb of Sand, Gitanjali Shree, ret Samadhi, ret Samadhi of Geejanjali Shree, Booker Prize for ret Samadhi, Booker Award for Hindi for the first time, Introduction to Gitanjali Shree, Who is Gitanjali Shree, Sahitya Samman, Hindi literature, novel writing, novel sand samadhi, Rajkamal Publications, Ashok Maheshwari, Daisy Rockwell, maai, hamara shahar us baras, tirohit, khali jagah, News 18 hindi Original, अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार, बुकर पुरस्कार, हिंदी को बुकर पुरस्कार, गीतांजलि श्री, रेत समाधि, गीजांजलि श्री की रेत समाधि, रेत समाधि को बुकर पुरस्कार, हिंदी को पहली बार मिला बुकर सम्मान, गीतांजलि श्री का परिचय, कौन हैं गीतांजलि श्री, साहित्य सम्मान, हिंदी साहित्य, उपन्यास लेखन, उपन्यास रेत समाधि, राजकमल प्रकाशन, अशोक महेश्वरी, डेजी रॉकवेल, माई, हमारा शहर उस बरस, तिरोहित, खाली जगह,

उपन्यास कोठागोई के लेख प्रभात रंजन.

उपन्यास कोठागोई के लेखक और 25 से ज्यादा किताबों का अनुवाद कर चुके प्रभात रंजन कहते हैं ‘हिंदी साहित्य के लिए बहुत बड़ी घटना है ये. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस उपन्यास के जरिए हिंदी को पहचान मिली है. इससे अंतरराष्ट्रीय जगत का ध्यान हिंदी साहित्य की ओर जाएगा. और सबसे बड़ी बात है कि पिछले कुछ सालों से हिंदी को लेकर ऐसा माहौल बनाया जा रहा था जैसे हिंदी सिर्फ लोकप्रिय लेखन की भाषा है, हिंदी में बिकने के आधार पर किताबों को महत्त्व दिया जाने लगा है, ऐसे में इस किताब ने यह ध्यान दिलाया है कि मेहनत और लगन से, धैर्य के साथ जब कोई गंभीर लेखन किया जाता है, तो उसको अंतरराष्ट्रीय पहचान मिलती है. वाकई ये बड़ी बात है कि हिंदी के गंभीर साहित्य को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली है.’ बुकर पुरस्कार के लिए किताब का ब्रिटेन के प्रकाशक से ही छपे होने की अनिवार्यता पर प्रभात रंजन कहते हैं कि यह मामला लेखकों को आगे बढ़ाने का नहीं, अपने यहां के प्रकाशकों को अवसर देने का है.

Tags: Hindi Literature, Literature, News 18 Hindi Special, News18 Hindi Originals

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर